आपदा के हालात से निपटने के लिए साइंस एवं प्रौद्योगिकी विभाग का होमवर्क शुरू

ETV UP/Uttarakhand
Updated: August 12, 2017, 10:48 PM IST
आपदा के हालात से निपटने के लिए साइंस एवं प्रौद्योगिकी विभाग का होमवर्क शुरू
पीयूष रौतेला,अधिशाशी निदेशक,आपदा न्यूनीकरण, एवं प्रबंधन केन्द्र.
ETV UP/Uttarakhand
Updated: August 12, 2017, 10:48 PM IST
उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों मे आपदा के हालात से निपटने के लिए प्रदेश के साइंस एव प्रौद्योगिकी विभाग ने होमवर्क शुरू कर दिया है. यदि सबकुछ ठीक रहा तो सरकार के प्रयास आपदा के दौरान राहत दिलाने में काफी कारगर साबित हो सकते हैं.

आपदा के हालात से निपटने में अब ज्यादा वक्त नहीं लगेगा. क्योंकि विज्ञान एव प्रौद्योगिकी विभाग ने जीआईएस मैपिंग कराना शुरू कर दिया है. इसमें सभी विभाग एक दूसरे के समनव्य से छोटे-छोटे इलाकों का नक्शा तैयार करेंगे.

इस नक्शे में सडक, पुलिस स्टेशन, तहसील और पटवारी चौकियों के साथ ही चिकित्सालयों की दूरी का भी लेटेस्ट स्वरूप तैयार किया जाएगा, ताकि किसी भी आपदा जैसी घटना के निपटने में वैकल्पिक व्यवस्थाओं के जरिए तत्काल राहत पहुंचाई जा सके.

प्रभारी सचिव रविनाथ रमन ने बताया कि इस जीआईएस मैपिक को यूकास्ट महकमा को अजाम देने की कवायद में जुट गया है.

विज्ञान विभाग द्वारा कराई जाने वाली इस मैपिंग को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. आपदा विभाग के अधिकारी भी इसको बहुत अहम बता रहे हैं. विशेष रूप से आपदा कै दौरान आपदा न्यूनीकरण एवं प्रबंधन केन्द्र के अधिषाशी निदेशक पीयूष रौतेला ने बताया कि सूचनाओं का मानचित्रीकरण करने की इस विधा का जरूरत के समय मे बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान हो जाता है.
First published: August 12, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर