Covid-19 Update : उत्तराखंड की राज्यपाल भी हुईं कोरोना संक्रमित, खुद को किया आइसोलेट

एम्स, ऋषिकेश में भर्ती राज्यपाल बेबी रानी मौर्य का उपचार पांच विशेषज्ञों की टीम कर रही है (फाइल फोटो)
एम्स, ऋषिकेश में भर्ती राज्यपाल बेबी रानी मौर्य का उपचार पांच विशेषज्ञों की टीम कर रही है (फाइल फोटो)

स्वास्थ्य विभाग की बुलेटिन के अनुसार, 466 नए मरीज मिलने से कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 71,256 हो गई है. सर्वाधिक 181 संक्रमित देहरादून जिले में मिले, जबकि पौड़ी गढ़वाल में 65, हरिद्वार में 53 और नैनीताल में 40 मरीज सामने आए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2020, 10:04 PM IST
  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड की राज्यपाल (Governor of Uttarakhand) बेवी रानी मौर्या (Baby Rani Maurya) की कोविड-19 (COVID-19) की टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. इस बारे में उन्होंने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी. उन्होंने अपने निजी ट्विटर हैंडल पर लिखा 'मेरी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मैं एसिम्प्टमैटिक हूँ और कोई परेशानी नहीं है । डॉक्टर्स की निगरानी में मैंने स्वयं को आइसोलेट कर लिया है ।आप में से जो भी लोग गत कुछ दिनों में मेरे निकट संपर्क में आयें हैं, कृपया सावधानी बरतें और अपनी जाँच करवाएं।'

कोरोना के 466 नए मरीज मिले

इस बीच उत्तराखंड की कोविड बुलेटिन के मुताबिक, रविवार को 466 नए मरीजों में कोविड-19 बीमारी की पुष्टि हुई, जबकि नौ अन्य मरीजों की मौत कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह हुई. यहां प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन के अनुसार, 466 नए मरीजों के मिलने के साथ ही प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या बढ़कर 71,256 हो गई है. बुलेटिन के मुताबिक ताजा मामलों में से सर्वाधिक 181 संक्रमित देहरादून जिले में मिले, जबकि पौड़ी गढ़वाल में 65, हरिद्वार में 53 और नैनीताल में 40 मरीज सामने आए.







रविवार को संक्रमण ने ली 9 की जान

बुलेटिन के मुताबिक रविवार को प्रदेश में 9 और कोविड-19 मरीजों की मौत हो गई, जिन्हें मिलाकर अबतक राज्य में 1,155 लोगों की जान इस महामारी से जा चुकी है. स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि प्रदेश में रविवार को 251 और मरीज उपचार के बाद स्वस्थ हो गए, जिन्हें मिलाकर अब तक कुल 65,102 मरीज उपचार के बाद स्वस्थ हो चुके हैं, जबकि उपचाराधीन मरीजों की संख्या 4368 है. प्रदेश में सामने आए कोविड-19 के 631 मरीज दूसरे स्थानों पर पलायन कर चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज