Haridwar Kumbh: कुंभ का अंतिम शाही स्नान आज, मेले के समापन के साथ हरिद्वार में लग सकता है कर्फ्यू

कुंभ के समापन के बाद हरिद्वार में भी लग सकता है कर्फ्यू.

कुंभ के समापन के बाद हरिद्वार में भी लग सकता है कर्फ्यू.

Haridwar Mahakumbh 2021: कोरोना वायरस (Coronavirus) के कहर के बीच आज अंतिम शाही स्नान (Shahi Snan)होगा. इस दौरान बैंड बाजों के साथ पारंपरिक पेशवाई और शोभायात्रा नहीं निकलेंगी, तो हर अखाड़े से अधिकतम 100 संत शाही स्नान में शामिल हो सकेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 11:20 PM IST
  • Share this:
देहरादून. देशभर में कोरोना वायरस के मामलों के तेजी से बढ़ने के चलते हरिद्वार महाकुंभ (Haridwar Mahakumbh) का जलवा इस बार फीका रहा है. हालांकि आज चैत्र पूर्णिमा पर कुंभ मेले का अंतिम शाही स्नान(Shahi Snan) होगा. यही नहीं, कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते सांकेतिक ढंग से स्नान होगा, जिसमें अखाड़ों के साधु संत सीमित संख्या में भाग ले सकेंगे. इस दौरान बैंड बाजों के साथ पारंपरिक पेशवाई और शोभायात्रा नहीं निकलेंगी. जबकि हर अखाड़े से अधिकतम 100 संत शाही स्नान में शामिल हो सकेंगे. यही नहीं, साधु- संतों को इस दौरान गाइडलाइन का पालन भी करना होगा, जिसके लिए मेला प्रशासन ने पूरी तैयारियां कर ली हैं.

बहरहाल, कुंभ मेले के समापन से पहले अखाड़ा परिषद दो फाड़ हो गई है. वहीं, बैरागी कैंप ने अखाड़ा परिषद से अलग होने का ऐलान कर दिया है. नाराज बौरागी संतो ने अखिल भारतीय वैष्णव अखाड़ा परिषद का गठन किया है. जबकि रामकृष्ण दास नगरिया को अध्यक्ष और राजेंद्र दास को महामंत्री चुना गया है. इस दौरान संन्यासी अखाड़ों पर बैरागी अखाड़ों ने उपेक्षा का आरोप लगाया है.

Youtube Video


मेला प्रशासन कर रहा यह काम
कुंभ के अंतिम शाही स्नान को लेकर आईजी कुंभ मेला संजय गुंज्याल ओर कुंभ एसएसपी जन्मजेय खंडूरी ने कहा कि मेले के अंतिम चरण में भीड़ प्रबंधन के साथ-साथ अंदरूनी सुरक्षा को मजबूत किये जाने पर विशेष ध्यान दिया जाए. इस दौरान होटल, धर्मशाला, लॉज आदि की चेकिंग करते हुए अंदरूनी सुरक्षा मजबूत करने के लिए ऑपरेशन क्लीन स्वीप चलाया जाए. यही नहीं, आईजी कुंभ मेला ने कहा है कि सभी फेस शील्ड और डबल मास्क लगा कर ड्यूटी करें.

कुंभ के समापन के साथ लग सकता है कर्फ्यू

हरिद्वार में भी कोरोना केस लगातार सामने आ रहे हैं और कुंभ के समापन के बाद कर्फ्यू लग सकता है. बता दें कि उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण की रफ्तार को देखते हुए सरकार ने प्रदेश की राजधानी देहरादून सहित कई शहरों में कर्फ्यू (Curfew) लगाने की घोषणा कर दी है. सरकार के आदेशों के मुताबिक, कोरोना की रोकथाम के लिए देहरादून, ऋषिकेश, कोटद्वार, हल्द्वानी, लालकुआं, रामनगर, टनकपुर और बनबसा में 3 मई तक कर्फ्यू रहेगा. इस दौरान शाम 7 बजे से सुबह 5 बजे तक प्राइवेट गाड़ियों की आवाजाही पर पाबंदी होगी. जरूरी सेवाओं की दुकानों को छोड़कर बाकी सभी बाजार बंद रहेंगे.



कर्फ्यू के दौरान इन पर रहेगा प्रतिबंध

कर्फ्यू के दौरान निजी वाहन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेंगे. फल, सब्जी, डेरी, बेकरी, मीट-मछली, राशन, सरकारी सस्ता गल्ला की दुकानों को भी साप्ताहिक कर्फ्यू से छूट रहेगी. पेट्रोल पंप, गैस आपूर्ति और मेडिकल शॉप पूरे समय खुली रहेंगे. शादी समारोहों में 50 से अधिक व्यक्ति शामिल नहीं हो पाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज