• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • दिल्ली में सोनिया गांधी से मिलेंगे हरीश रावत, क्या पंजाब प्रभार छोड़ेंगे! हां, तो क्यों?

दिल्ली में सोनिया गांधी से मिलेंगे हरीश रावत, क्या पंजाब प्रभार छोड़ेंगे! हां, तो क्यों?

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर के साथ हरीश रावत. (File Photo)

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर के साथ हरीश रावत. (File Photo)

नवजोत सिंह सिद्धू के बयान से कांग्रेस के किनारा करने की बात कहने वाले हरीश रावत (Harish Rawat) शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष से मिलेंगे. पंजाब के मसले पर तो बातचीत होगी, लेकिन क्या इस बैठक में रावत पंजाब की जिम्‍मेदारी से छुटकारा चाहेंगे!

  • Share this:

    देहरादून. उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पार्टी में अपना ‘वर्कलोड’ कम करना चाह रहे हैं, वह भी तब जबकि कांग्रेस की पंजाब इकाई में समस्याएं उभरकर आ रही हैं. कांग्रेस के महासचिव के तौर पर रावत के पास पंजाब प्रभारी का दायित्व है, लेकिन रावत इस दायित्व को और संभालने के इच्छुक नहीं दिख रहे हैं. इसके दो कारणों का खुलासा खुद रावत ने ही कर दिया है. वहीं, पंजाब कांग्रेस के संबंध में बातचीत करने के लिए गुरुवार शाम को रावत दिल्ली रवाना होने वाले हैं और शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ उनकी एक बैठक होगी. इस बैठक के बाद किसी बड़े ऐलान या फैसले की सुगबुगाहट है.

    उत्तराखंड में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने कहा है कि कोविड संक्रमित होने के बाद से ही वो आराम करना चाहते थे, लेकिन पंजाब की ज़िम्मेदारी उन्हें पार्टी से मिली. एक समाचार पत्र के साथ बातचीत में रावत ने कहा कि उन्होंने पार्टी द्वारा दी गई असम की ज़िम्मेदारी को भी बखूबी निभाया था, लेकिन कोविड के बाद से वह स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों से जूझ रहे हैं और अब आराम करना चाहते हैं. इस संबंध में वह जल्द ही पार्टी हाईकमान से बात करेंगे.

    ये भी पढ़ें : उत्तराखंड विधानसभा साइकिल चलाकर पहुंचे कांग्रेसी, कई कार्यकर्ता-यूनियन करेंगे कूच

    uttarakhand news, punjab news, harish rawat speech, uttarakhand politics, sonia gandhi meeting, उत्तराखंड न्यूज़, उत्तराखंड राजनीति, हरीश रावत बयान, हरीश रावत भाषण

    कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से शुक्रवार को हरीश रावत मुलाकात करेंगे.

    स्वास्थ्य के अलावा दूसरी वजह बताते हुए रावत ने कहा कि वह उत्तराखंड में आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनज़र अपने राज्य में पार्टी को मज़बूत करने की तरफ ध्यान दे सकें इसलिए भी पंजाब प्रभारी की ज़िम्मेदारी छोड़ना चाहते हैं. पिछले दिनों रावत को उत्तराखंड में चुनाव अभियान कमेटी की कमान सौंपी जा चुकी है और वह पार्टी के सीनियर पदाधिकारियों के साथ मिलकर चुनावी रणनीति तैयार कर रहे हैं.

    ये भी पढ़ें : शहीदों को श्रद्धांजलि देने धामदेव में जुटे उत्तराखंड कांग्रेस कार्यकर्ता, नहीं दिखे भाजपाई

    ‘पंजाब में पार्टी के भीतर कोई कलह नहीं’
    हाईकमान के साथ मुलाकात करने के लिए दिल्ली जाने वाले रावत ने दो बातें एकदम साफ तौर पर कहीं कि एक तो पंजाब में पार्टी के भीतर दोफाड़ या कलह जैसी कोई स्थिति नहीं है. सभी पार्टी के बैनर तले खड़े हैं और संगठन में अगर किसी को कोई बातचीत करनी है या शिकायत तो उसकी एक प्रक्रिया है, जिसे हाईकमान तक रखा जाएगा. दूसरे, रावत ने साफ किया कि पंजाब में चुनाव कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा. बताया जा रहा है कि रावत पंजाब में विधायकों व मंत्रियों के साथ हुई बातचीत के बारे में सोनिया गांधी को अपडेट देंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज