चुनाव हारे हरीश रावत ने कहा- यह कलयुग है, सही चीजें भी उल्टी हो जाती हैं

लोकसभा चुनाव में चारों खाने चित्त करने के बाद भाजपा अब कांग्रेसी दिग्गजों के चुनाव के दौरान दिए गए बयानों की समीक्षा कर रही है.

Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: May 26, 2019, 7:02 PM IST
चुनाव हारे हरीश रावत ने कहा- यह कलयुग है, सही चीजें भी उल्टी हो जाती हैं
हरीश रावत, राष्ट्रीय महासचिव, कांग्रेस
Sunil Navprabhat
Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: May 26, 2019, 7:02 PM IST
उत्तराखंड में कांग्रेस को एक बार फिर चारों खाने चित्त करने के बाद अब भाजपा ने विपक्ष के बचे-खुचे हौसले को भी पस्त करने की रणनीति पर काम करना शुरू कर दिया है. चुनाव में चारों खाने चित्त करने के बाद भाजपा अब कांग्रेसी दिग्गजों के चुनाव के दौरान दिए गए बयानों की समीक्षा कर रही है. चुनाव में करारी शिकस्त के बावजूद सुर्खियों में बने पूर्व सीएम हरीश रावत सबसे पहले भाजपा के निशाने पर हैं. चुनाव के दौरान हरीश रावत द्वारा दिए गए बयानों को ही अब उनके खिलाफ धार दी जा रही है. भाजपा ने हरीश रावत पर पहला सवाल दागा है कि उनकी उस भविष्यवाणी का क्या हुआ, जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की कुंडली में कालशर्प योग बताते हुए कहा था कि इसके चलते महिला के हाथों मोदी की पराजय निश्चित है. हरीश रावत ने पलटवार करते हुए कहा कि ये कलयुग है.

भाजपा मीडिया प्रभारी देवेंद्र भसीन ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस के हरीश रावत से सवाल किया है कि उनकी पार्टी के अध्यक्ष एक महिला के हाथों चुनाव हार गए हैं, जबकि वह पीएम के एक महिला के हाथों चुनाव हारने की बात कर रहे थे. साथ ही उन्होंने जानना चाहा कि क्या सिद्धू राजनीति छोड़ देंगे ? उन्होंने याद दिलाते हुए कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान सिद्धू ने कहा था कि अगर नरेंद्र मोदी पीएम बन जाएंगे तो वह राजनीति छोड़ देंगे. उन्होंने कहा कि अगले दो-तीन दिनों में नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद की शपथ ले लेंगे.



वहीं भसीन के प्रश्न के जवाब में हरीश रावत ने कहा कि कलीयुग में जो सही चीजें हैं वो भी उल्टी हो जाती हैं. उन्होंने कहा कि मोदी जी पर कालशर्प योग था, मगर वह चुनाव जीत गए और हम हार गए. उन्होंने कहा कि यह कलयुग के प्रभाव के कारण ही हुआ है.

ये भी देखें - Uttarakhand Loksabha Election Result 2019: एक सुर में बोले मौजूदा, पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष- आत्मचिंतन की ज़रूरत

ये भी पढ़ें - ...इसलिए मुश्किल है अजय टम्टा का फिर मंत्री बनना, रेस में आगे हैं ये तीन चेहरे

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...