लाइव टीवी

हरियाणा-महाराष्ट्र चुनाव परिणामः पिथौरागढ़ उपचुनाव के लिए BJP ने बदली रणनीति, नई ऊर्जा के साथ कांग्रेस मैदान में

Kishore Kumar Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: October 28, 2019, 5:26 PM IST
हरियाणा-महाराष्ट्र चुनाव परिणामः पिथौरागढ़ उपचुनाव के लिए BJP ने बदली रणनीति, नई ऊर्जा के साथ कांग्रेस मैदान में
पिथौरागढ़ में होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर भाजपा ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है तो कांग्रेस दोनों राज्यों के परिणाम से उत्साह में नज़र आ रही है.

प्रकाश पंत (Prakash Pant) के निधन से पिथौरागढ़ की सीट (Pithoragarh) खाली हुई सीट पर चुनाव का ऐलान कर दिया गया है, यहां 25 नवंबर को मतदान (Voting on 25th) होगा.

  • Share this:
देहरादून. हरियाणा-महाराष्ट्र के विधानसभा चुनावों (Haryana-Maharashtra Assembly Election) के परिणामों से उत्तराखंड की राजनीति (Uttarakhand Politics) पर भी असर पड़ा है. राज्य में अगले महीने ही विधानसभा के उपचुनाव (Assembly by-election) होने हैं. राज्य के वित्त मंत्री रहे प्रकाश पंत (Prakash Pant) के निधन से पिथौरागढ़ की सीट (Pithoragarh) खाली हुई है और पंचायत चुनावों (Panchayat Election) के परिणाम घोषित होने के बाद इस सीट पर चुनाव का ऐलान कर दिया गया है, यहां 25 नवंबर को मतदान होगा. हरियाणा और महाराष्ट्र के चुनाव परिणाम से राज्य में भाजपा (BJP), कांग्रेस को भी सबक मिला है. पिथौरागढ़ में होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर भाजपा ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है तो कांग्रेस (Congress) दोनों राज्यों के परिणाम से उत्साह में नज़र आ रही है.

इसलिए उड़ी नींद 

प्रदेश में 25 नवंबर को पिथौरागढ़ विधानसभा उपचुनाव के लिए मतदान होना है. पांच जून से खाली इस सीट के लिए राज्य के दोनों प्रमुख दलों भाजपा, कांग्रेस ने तैयारियां पहले से ही शुरु कर दी थीं लेकिन  उपचुनाव से ठीक पहले दो राज्यों के विधानसभा चुनावों  के रिज़ल्ट ने भाजपा के नींद उड़ा दी है.

हरियाणाम, महाराष्ट्र के चुनाव परिणामों के बाद भाजपा ने अपनी चुनावी रणनीति ने बदलाव किया है और स्थानीय मुद्दों और विकास के बलबूते चुनाव में उतरने का पार्टी मन बना रही है.  दरअसल बीते ढाई  साल में राज्य में हुए सभी चुनावों में बीजेपी राष्ट्रवाद और अन्य मुद्दों के आधार पर चुनाव लड़ी है लेकिन हरियाणा-महाराष्ट्र में ये मुद्दे नहीं चले.

बदली बीजेपी और कांग्रेस 

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट के मुताबिक उपचुनाव के लिए पार्टी पूरी तरह से तैयार है. भट्ट कहते हैं कि भाजपा सरकार ही प्रदेश और देश का विकास कर सकती है. इसके साथ ही भट्ट यह भी कहते हैं कि  पार्टी स्थानीय मुद्दों पर ही चुनाव लड़ेगी.

उधर लगातार मायूस हो चुकी कांग्रेस को इन दोनों राज्यों के चुनाव परिणामों से राजनीतिक संजीवनी मिलती दिख रही है.  दोनों राज्यों के परिणाम से कांग्रेस उत्साहित है और अब पिथौरागढ़ विधानसभा उपचुनाव के लिए पार्टी ने न सिर्फ कमर कस ली है बल्कि बीजेपी पर हमलावर हो गई है.
Loading...

सबसे महत्वपूर्ण चुनाव 

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के मुताबिक भाजपा सरकर ने अपने तीन साल के शासनकाल में एक भी काम किया है तो वह चुनाव जीतने की हक़दार होगी. प्रीतम सिंह  ने कहा कि कांग्रेस इन चुनावों के लिए पूरी तरह से तैयार है और पार्टी जनता के बीच अपनी बात रखेगी.

पिथौरागढ़ विधानसभा उपचुनाव दोनों पार्टियों के लिए महत्वपूर्ण है. इसमें उत्तराखंड भाजपा सरकार की साख दांव पर है क्योंकि यह चुनाव केंद्र की मोदी सरकार के नाम पर नहीं स्थानीय मुद्दों पर लड़ा जाना है. कांग्रेस के लिए, विधानसभा चुनाव से पहले होने वाले इस आखिरी चुनाव में अपनी ताकत को चेक करने और ज़मीन वापस पाने का यह आखिरी मौका है.

ये भी देखें: 

पिथौरागढ़ उपचुनाव: जल्द हो सकता है प्रत्याशियों के नामों का ऐलान...

पिथौरागढ़ उपचुनाव: क्या स्व. प्रकाश पंत के परिवार से ही होगा नया बीजेपी प्रत्याशी..?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 28, 2019, 5:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...