उत्तराखंड: डेंगू से निपटने के लिए ये है स्वास्थ्य विभाग की योजना

डेंगू का लार्वा 10 साल तक ज़िंदा रहता है, इसलिए उत्तराखंड का स्वास्थ्य विभाग अब उन इलाकों पर फोकस कर रहा है जहां 10 साल पहले डेंगू के मरीज़ पाए गए थे. डाक्टर अब ऐसे इलाकों में कैंप लगवा कर लोगों की जांच करवा रहे हैं.

Bharti Saklani | News18 Uttarakhand
Updated: August 5, 2019, 6:41 PM IST
उत्तराखंड: डेंगू से निपटने के लिए ये है स्वास्थ्य विभाग की योजना
उत्तराखंड में लगातार बढ़ रही डेंगू के मरीज़ों की संख्या
Bharti Saklani
Bharti Saklani | News18 Uttarakhand
Updated: August 5, 2019, 6:41 PM IST
उत्तराखण्ड में डेंगू के मरीज़ों का आंकड़ा 158 पार पहुंच गया है. लगातार हो रही मॉनिटरिंग के बावजूद उत्तराखंड में डेंगू का डंक कम होने के बजाये गहराता ही जा रहा है. स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि अब डेंगू की असल वजह पर मंथन हो रहा है. डाक्टरों का मानना है कि डेंगू का लार्वा 10 साल तक जिंदा रहता है इसलिए अब उन इलाकों पर फोकस किया जा रहा है जहां पूर्व में डेंगू के मरीज़ मिल चुके हैं. ऐसे इलाकों में लोगों को जागरूक करने के लिए अभियान भी चलाए जा रहे हैं.

10 साल पुराने लार्वा को खत्म करने के प्रयास
मुख्य चिकित्सा अधिकारी एस के गुप्ता ने बताया कि डेंगू का लार्वा 10 साल तक जिंदा रहता है. इसे फॉगिंग से खत्म करने का दावा नहीं किया जा सकता. इसलिए अब फोकस इस बात पर है कि इसे जड़ से कैसे खत्म किया जाए. उन्होंने बताया कि 10 साल पहले  डेंगू के 50 मरीज़ कारगी में, तथा 20 मरीज रायपुर इलाके से मिले थे. पिछले 3 सालों में डेंगू के मरीजों के केस में 20 परसेन्ट तक की ग्रोथ देखने को मिली है. डॉ गुप्ता ने बताया कि अब 10 साल पुराने लार्वा को खत्म करने पर ही फोकस किया जा रहा है.

uttarakhand, dehradun, dengue, larvae, health department uttarakhand, patients, उत्तराखंड, देहरादून, डेंगू, लार्वा, स्वास्थ्य विभाग उत्तराखंड, मरीज़
डेंगू की रोकथाम के लिए लोगों को जागरूक करेगा स्वास्थ्य विभाग


डेंगू के मरीज़ों वाले इलाकों पर खास ध्यान
स्वास्थ्य विभाग राजधानी में 10 साल पहले जहां जहां डेंगू ने अपने पैर पसारे थे, उनकी फाइलें खंगाल रहा है. जिसमें जोहड़ी गांव टॉप पर है. इस गांव में 2009 में 11 मरीज़ों में डेंगू की पुष्टि हुई थी. अब जोहड़ी गांव में डेंगू के मरीज़ों की संभावना के मद्देनज़र सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सहसपुर को इस गांव में मरीज़ों की जांच करने के निर्देश दिए गए हैं.

बढ़ रही है डेंगू के मरीज़ों की संख्या
Loading...

स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम  भले ही दावा करें कि हर स्तर पर डेंगू को जड़ से खत्म करने पर काम हो रहा है लेकिन बढ़ती मरीज़ों की संख्या बताती है कि काम केवल कागज़ों पर ही हो रहा है. विभाग की सख्ती के बाद डाक्टर अब डेंगू प्रभावित इलाकों में लगातार मरीज़ों की जांच करवा रहे हैं.

ये भी पढ़ें -

Article 370: अजित डोभाल आज कर सकते हैं जम्मू-कश्मीर का दौरा, सेना को अलर्ट पर रखा गया, जानें 10 बातें

ग्रीन कॉरिडोर बनाकर उन्नाव रेप पीड़िता को एयरलिफ्ट करने की तैयारी

आर्टिकल 370 हटाने पर बौखलाया पाकिस्तान, कहा- कश्मीर पर एकतरफा फैसला
First published: August 5, 2019, 6:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...