लाइव टीवी

कोरोना वायरस का आर्थिक झटका : उत्तराखंड सरकार ने जीपीएफ पर इस तिमाही घटाई 0.8 फीसदी ब्याज दर
Dehradun News in Hindi

Rajesh Dobriyal | News18 Uttarakhand
Updated: April 10, 2020, 9:39 PM IST
कोरोना वायरस का आर्थिक झटका : उत्तराखंड सरकार ने जीपीएफ पर इस तिमाही घटाई 0.8 फीसदी ब्याज दर
प्रदेश सरकार ने जीपीएफ़ पर ब्याज दर घटाकर 7.1 फ़ीसदी कर दी है.

अप्रैल से जून तक साल की दूसरी तिमाही में रहेगी 7.1 फ़ीसदी

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड के करीब 1.60 लाख से ज्यादा कर्मचारियों के लिए यह खबर थोड़ी मायूसी भरी हो सकती है. जीपीएफ यानी सामान्य भविष्य निधि फंड (और ऐसी ही अन्य निधियों पर) पर ब्याज दर अगली तिमाही के लिए घटाकर 7.1 फीसदी कर दी गई है. राज्य सरकार के वित्त विभाग के आदेश के अनुसार साल की दूसरी तिमाही यानी एक अप्रैल से 30 जून पर जीपीएफ पर 7.1 फीसदी ब्याज मिलेगा. गौरतलब है कि साल की पहली तिमाही यानी जनवरी से मार्च तक जीपीएफ पर ब्याज दर 7.9 फ़ीसदी थी. आशा की जा सकती है कि तब तक कोरोना वायरस संक्रमण से थमी अर्थव्यवस्था और दुनिया थोड़ी रफ्तार पकड़ने लगेगी और तब स्थितियों के अनुसार जीपीएफ पर ब्याज दर का भी आकलन किया जाएगा.

केंद्र का अनुकरण

उत्तराखंड के वित्त सचिव अमित नेगी ने शुक्रवार को अगली तिमाही के लिए जीपीएफ की ब्याज दर 7.1 प्रतिशत किए जाने का आदेश जारी किया. न्यूज़18 से बातचीत में उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस की वजह से अर्थव्यवस्था में आए ठहराव को देखते हुए केंद्र सरकार ने यह फैसला किया है और राज्य सरकारों को केंद्र का अनुकरण करना होता है.



बता दें कि केंद्र सरकार ने दो दिन पहले ही साल की दूसरी तिमाही, अप्रैल से जून, के लिए जीपीएफ पर ब्याज दर 7.1 रखने का आदेश जारी किया था. केंद्र का नोटिफिकेशन मिलने के बाद राज्य सरकार ने भी इस आशय का आदेश जारी कर दिया.



घटी हैं ब्याज दरें

साल की पहली तिमाही, जनवरी से मार्च, तक जीपीएफ पर ब्याज दर 7.9 फीसदी थी. कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से देश ही नहीं दुनिया भर में आर्थिक गतिविधियां ठप हैं और इसी वजह से केंद्र और फिर राज्य सरकार को ब्याज दरें घटाने का फैसला करना पड़ा है.

राहत भी मिली है

ऐसा नहीं कि केंद्र और राज्य सरकारों ने ब्याज दर कम कर सरकारी कर्मचारियों को सजा दी हो. अर्थव्यवस्था के ठप होने की वजह से केंद्र पहले ही मकानों, कार आदि की किस्ते (ईएमआई) तीन महीने न चुकाने की छूट दे चुका है. देश भर में जरूरतमंद लोगों को तीन महीने का राशन और मुफ्त अतिरिक्त राशन दिया जा चुका या दिया जा रहा है.

उत्तराखंड ने राशन में भी बढ़ोत्तरी की है और गरीब मजदूरों, दिहाड़ी कर्मचारियों को राशन और खाना भी दिया जा रहा है. सभी के साथ सरकारें भी आशा कर रही हैं कि यह स्थिति तीन महीने बाद सुधरे और अर्थव्यवस्था पटरी पर लौटे.

ये भी देखें:

COVID-19: विधायकों के वेतन कटौती का समझें गणित... 30% = 3%

देवस्थानम बोर्ड की वजह से आया कोरोना वायरस संकट! गंगोत्री के रावल बोले, पहले ही चेता दिया था

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 10, 2020, 8:08 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading