होम /न्यूज /उत्तराखंड /एक ज़रूरत पूरी हो जाए तो सुविधाओं में दिल्ली एम्स को पछाड़ देगा ऋषिकेश एम्स

एक ज़रूरत पूरी हो जाए तो सुविधाओं में दिल्ली एम्स को पछाड़ देगा ऋषिकेश एम्स

एम्स ऋषिकेश के निदेशक (AIIMS Rishikesh Director) प्रोफेसर रविकांत (Professor Ravikant) का कहना है कि अगर समय से ज़मीन मिल जाए तो सुपर स्पेशलिस्ट सेंटर शुरू हो जाएंगे.

एम्स ऋषिकेश के निदेशक (AIIMS Rishikesh Director) प्रोफेसर रविकांत (Professor Ravikant) का कहना है कि अगर समय से ज़मीन मिल जाए तो सुपर स्पेशलिस्ट सेंटर शुरू हो जाएंगे.

एम्स ऋषिकेश के निदेशक (AIIMS Rishikesh Director) प्रोफेसर रविकांत (Professor Ravikant) का कहना है कि अगर समय से ज़मीन म ...अधिक पढ़ें

ऋषिकेश. उत्तराखंड (Uttarakhand) के एम्स (ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसिस- AIIMS) को विस्तार के लिए 200 एकड़ ज़मीन की आवश्यकता है. एम्स प्रबंधन (AIIMS Management) कई बार सरकार से इसकी मांग कर चुका है लेकिन अभी तक खोखले वादे ही मिले हैं. एम्स प्रबंधन का दावा है कि अगर यह ज़मीन मिल जाए तो एम्स ऋषिकेश (Rishikesh) सुविधाओं के मामले में दिल्ली एम्स (Delhi AIIMS) को भी पीछे छोड़ देगा.

...तो खुलेंगे सुपर स्पेश्यालिटी सेंटर 

एम्स ऋषिकेश के निदेशक प्रोफ़ेसर रविकांत ने ने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 200 एकड़ ज़मीन देने का वादा तो किया है लेकिन अभी तक ज़मीन हस्तांतरण की कार्रवाई शुरू नहीं हो पाई है. इसकी वजह से ऋषिकेश एम्स में कई हायर सेंटर बन नहीं पा रहे हैं.

प्रोफेसर रविकांत का कहना है कि अगर समय से ज़मीन मिल जाए तो सुपर स्पेशलिस्ट सेंटर शुरू हो जाएंगे. उन्होंने दावा किया कि आने वाले समय में बेहतर इलाज और सुविधाओं के मामले में एम्स ऋषिकेश दिल्ली एम्स को भी मात दे देगा.

2012 में शुरु हुई थी ओपीडी 

ख़ास बात यह है कि ऋषिकेश एम्स का शिलान्यास एनडीए के शासनकाल में हुआ था और धीमी गति से एम्स का निर्माण चलता रहा. 2011 के बाद इसके निर्माण में तेजी आई और भवन निर्माण के साथ-साथ 2012 में ओपीडी भी शुरु हो गई.

तब से लगातार एम्स प्रशासन सरकार से गुहार लगाता रहा है कि एम्स को अपने विस्तार के लिए 200 एकड़ जमीन की और आवश्यकता है ताकि सुपर स्पेशलिस्ट मेडिकल सेंटर स्थापित किए जा सकें.

फिर मिला आश्वासन 

एनडी तिवारी शासनकाल से लेकर त्रिवेंद्र सरकार तक सभी मुख्यमंत्रियों ने वादे तो किए हैं लेकिन अभी तक ज़मीन मुहैया नहीं कराई है. त्रिवेंद्र सरकार ने एक बार फिर एम्स निदेशक को भरोसा दिलाया है कि जल्द ही 200 एकड़ ज़मीन उपलब्ध कराई जाएगी.

अगर ऐसा हो पाता है तो ऋषिकेश एम्स का विस्तार हो सकेगा और यह एम्स उन उम्मीदों को पूरा कर सकेगा जिनके साथ यह अस्तित्व में आया था.

ये भी देखें: 

एम्स से निष्कासित कर्मचारियों को मनाने पहुंचे उप जिलाधिकारी, वार्ता विफल

देखिए बेटी की नौकरी के लिए एम्स की छत पर चढ़ा पिता, कूदने की धमकी 

Tags: AIIMS, Health News, Rishikesh, Uttarakhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें