vidhan sabha election 2017

उत्तराखंड में सड़क हादसों में 24 घंटे में 10 मरे

ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 8, 2017, 10:25 AM IST
उत्तराखंड में सड़क हादसों में 24 घंटे में 10 मरे
दुर्घटना के बाद घायलों को खाई से निकालते लोग फोटो- ईटीवी
ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 8, 2017, 10:25 AM IST
प्रदेश में आए दिन होते हादसे लगातार परेशानी का सबब बन रहे हैं. एक के बाद एक हुए इन हादसों ने एक बार ये सोचने पर मजबूर कर दिया कि क्या उत्तराखंड सिर्फ सड़क हादसों के लिए बना है.

ताजा घटना अल्मोड़ा की है, जहां दो सड़क हादसों में 6 लोगों की मौत हो गई, जिनमें 3 शिक्षकों की भी जान गई. इससे पहले बुधवार को ऋषिकेश में 4 लोगों की मौत हो गई थी.अगर पिछले दो सालो के आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो सड़क हादसों के आंकडे चौकाने वाले हैं.
   वर्ष              सड़क हादसे     मृतकों की संख्या            घायलों की संख्या
2015                   1523              913                                 1657

2016                   1591              962                                 1736

इस राज्य में हर तीसरे दिन सड़क हादसे में एक मौत होती है. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि सड़क हादसे लोगों की जिंदगी पर किस कदर भारी पड़ रहे हैं.

दुर्घटनाओं के प्रमुख कारण

ड्राइवर का नशे में होना
वाहन चलाते समय मोबाइल पर बात करना
वाहनों में जरुरत से अधिक सवारी होना
निर्धारित स्पीड से अधिक तेज गाड़ी चलाना
ड्राइवर को नींद आना या थकान होना
वाहन का फिट नहीं होना
पहाड़ के ड्राइवरों का अनुभवी ना होना

इन कारणों पर यदि प्रशासन की नींद टूटे तो स्थिति नियंत्रण में आ सकती है. लेकिन, यहां हर जिम्मेदार अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लेता है.

(रिपोर्ट- राम कंडवाल )
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर