IPL और सट्टेबाज़ी... अब गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई करेगी देहरादून पुलिस

पिछले तीन साल में सिर्फ़ देहरादून में पुलिस ने करीब 620 मुकदमे दर्ज कर 935 लोगों को गिरफ़्तार किया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
पिछले तीन साल में सिर्फ़ देहरादून में पुलिस ने करीब 620 मुकदमे दर्ज कर 935 लोगों को गिरफ़्तार किया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

गैम्बलिंग एक्ट में सज़ा का प्रावधान कम होने के चलते सट्टेबाज मामूली जुर्माना अदा कर छूट जाते हैं और दोबारा सक्रिय हो दाते हैं.

  • Share this:
देहरादून. आईपीएल के रोमांच के साथ ही आईपीएल मैचों पर सट्टेबाज़ी भी ज़ोर पकड़ती जा रही है. तकनीक के साथ सट्टेबाज़ी ने भी तरीके बदल लिए हैं. ऑनलाइन बेटिंग को रोकना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बन गया है. पुलिस के लिए समस्या यह भी है कि सट्टेबाज़ी में गिरफ्तार आरोपी मात्र कुछ जुर्माना जमाकर आसानी से छूट जाते हैं, इसलिए भी उनके हौसले बुलंद हैं. अब पुलिस इन मामलों में कमी लाने के लिए गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई करने की बात कर रही है.

खेल शुरु होने से पहले सट्टेबाज़ी शुरु

आईपीएल हो या 20-20 क्रिकेट या फिर अन्य कोई गेम... खेल शुरु होने से पहले ही सट्टेबाज़ी का बाज़ार सज जाता है. आम लोगों को शॉर्टकट से पैसे कमाने के प्रलोभन देकर जनता के लाखों रुपये हड़प जाते हैं. नए ज़माने के इस जुए में कई लोग बर्बाद हो गए हैं. सट्टेबाज़ी का बाज़ार कितनी तेज़ी से बढ़ रहा है इसे समझने के लिए पिछले तीन साल के आंकड़ों पर नज़र डालते हैं.

  • पिछले तीन साल में सिर्फ़ देहरादून में पुलिस ने करीब 620 मुकदमे दर्ज कर 935 लोगों को गिरफ़्तार किया है.



  • साल 2018 में 153 मुकदमों में 371 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया गया.

  • साल 2019 में 379 मुकदमों में 379 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया गया.

  • साल 2020 में अभी तक 86 मुकदमे दर्ज कर 185 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.


गैंबलिंग एक्ट में सज़ा का प्रावधान कम 

ये आंकड़े बताते हैं कि पुलिस सट्टेबाज़ों के ख़िलाफ़ लगातार कार्रवाई करती है... लेकिन

वकील रजत दुआ कहते हैं कि गैम्बलिंग एक्ट में सज़ा का प्रावधान कम होने के चलते सट्टेबाज मामूली जुर्माना अदा कर छूट जाते हैं और दोबारा इसी धंधे में सक्रिय हो जाते हैं. वह कहते हैं कि पहले और अब अपराध करने के तरीके में बहुत अंतर आ गया है. अब इस धंधे में सट्टेबाज लाखों, करोड़ों रुपये लगाकर बड़ा मुनाफ़ा कमाते हैं.

दुआ कहते हैं कि सट्टे का कारोबार बंद न हुआ तो इसमें कई लोग आगे भी कंगाल और बर्बाद होते रहेंगे.

देहरादून पुलिस सट्टेबाज़ी पर रोक लगाने के लिए अब सख़्त कानूनों का सहारा लेने जा रही है. देहरादून के एसएसपी अरुण मोहन जोशी का कहना है कि सट्टेबाजों से निपटने के लिए अब वह गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई कर रहे हैं. वह कहते हैं कि सट्टेबाज़ों ने इस धंधे से जो भी प्रॉपर्टी अर्जित की है उसको भी अटैच किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज