हरिद्वार कुंभ में शामिल हुए एक और साधु की कोरोना से मौत, जानें कितने हुए शिकार!

कुंभ मेले में श्रद्धालुओं के जुटने का दृश्य. (File Photo)

कुंभ मेले में श्रद्धालुओं के जुटने का दृश्य. (File Photo)

Uttarakhand News : एक बार फिर कुंभ मेले का आयोजन चर्चा में आ गया है क्योंकि अब जूना अखाड़ा के एक संन्यासी के दम तोड़ने की खबर आई है. जानिए कितने साधु संक्रमित हैं और अब तक कितने जान गंवा चुके हैं.

  • Share this:

देहरादून. एक स्थानीय अस्पताल में जूना अखाड़ा के एक साधु महंत विमल की मौत होने की खबर के बाद कई तरह के सवाल और चर्चाएं हैं. देश भर के साथ ही उत्तराखंड में भी कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का प्रकोप जारी है और इस बात पर काफी बहस हो चुकी है कि जोखिम लेकर कुंभ मेले का आयोजन किया गया. वहीं, ये भी खबरें हैं कि कुंभ में शामिल हुए प्रमुख साधुओं में से कोरोना से मौत का यह नौवां मामला है.

प्रमुख अखाड़ों में से एक पंच दशनाम जूना अखाड़ा के महंत विमल की मौत गुरुवार को होना बताया गया है. समाचार एजेंसियों के ज़रिये आई खबरों के मुताबिक उनके शव को शनिवार को हरिद्वार के पास कांगड़ी गांव में बने श्रीमंत प्रेम गिरि आश्रम में दफनाया गया.

ये भी पढ़ें : पहली बार इतनी ज़्यादा ऑक्सीजन लेकर चली ट्रेन, गुजरात से दिल्ली पहुंची एक्सप्रेस

Youtube Video

कौन थे महंत विमल?

जूना अखाड़ा के रबींद्रानंद सरस्वती ने बताया कि महंत विमल पिछले करीब दो दशकों से अखाड़े के साथ जुड़े हुए थे और हाल में हरिद्वार में संपन्न हुए कुंभ में उन्हें महामंडलेश्वर की उपाधि भी दी गई थी. यह उपाधि उन्हें जूना अखाड़ा के प्रमुख स्वामी अवधेशानंद गिरी ने दी थी. बीते 19 अप्रैल को विमल गिरी कोरोना पॉज़िटिव पाए गए थे. बीते बुधवार को हालत बिगड़ने पर उन्हें देहरादून के प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली.

kumbh mela 2021, corona death, corona in uttarakhand, covid-19 in uttarakhand, कुंभ मेला 2021, कोरोना से मौत, उत्तराखंड में कोरोना, उत्तराखंड न्यूज़
जूना अखाड़े के साधुओं की बैठक की एक तस्वीर. (File Photo)



कितने साधुओं को निगल चुका कोरोना?

हरिद्वार में कुंभ मेले के संपन्न होने के बाद से अब तक कम से कम छह साधुओं के निधन की खबरें आ चुकी हैं. यह आंकड़ा समाचार एजेंसी के मुताबिक है, लेकिन एक मीडिया संस्थान की रिपोर्ट कहती है कि महंत विमल गिरी नौवें साधु थे, जिनकी कोरोना से मौत हुई.

ये भी पढ़ें : तिहाड़ जेल में बंद नताशा नरवाल के वैज्ञानिक पिता का निधन, आखिरी झलक भी नहीं हुई नसीब

गौरतलब है कि कुंभ मेले के आयोजन को लेकर यह बहस चली थी, जो अब भी चल रही है कि जब विशेषज्ञों ने इस तरह की चेतावनी दी थी कि यह आयोजन वायरस के संक्रमण के लिहाज़ से 'सुपर स्प्रेडर' हो सकता था, तब भी इसे रोका क्यों नहीं गया. दूसरी तरफ, खबरों में यह भी कहा गया है कि इस समय कम से कम 250 साधु संन्यासी कोरोना संक्रमित हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज