मसूरी में कांवड़ियों के प्रवेश पर बैन, पुलिस बोली- मचाते हैं उत्पात

मसूरी में कांवड़ियों के प्रवेश को रोकने के लिए पांच प्रवेश द्वार बनाए जा रहे हैं. इनमें सीसीटीवी और लाउडहेलर्स भी लगाए जा रहे हैं.

satendra bartwal | News18 Uttarakhand
Updated: July 8, 2019, 9:15 PM IST
मसूरी में कांवड़ियों के प्रवेश पर बैन, पुलिस बोली- मचाते हैं उत्पात
उत्तराखंड में कावंड़ यात्रा के दौरान डीजे बजाने को लेकर अभी तक स्थिति साफ़ नहीं है. (फ़ाइल फ़ोटो)
satendra bartwal | News18 Uttarakhand
Updated: July 8, 2019, 9:15 PM IST
देहरादून पुलिस ने एक बार फिर ऐलान किया है कि भगवाधारियों (कांवड़िए) को मसूरी में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा. देहरादून की एसएसपी ने इसके लिए सीसीटीवी तक का इस्तेमाल करने का दावा किया है लेकिन सवाल यह है कि क्या इस बार पुलिस अपने इस अभियान में कामयाब रहेगी? सात-आठ साल पहले ही देहरादून पुलिस ने कावंड़ियों का मसूरी में प्रवेश रोकने का ऐलान किया था लेकिन हर साल कांवड़िए मसूरी पहुंच ही जाते हैं.

3  करोड़ के आने का अनुमान 

17 जुलाई से कांवड़ मेला शुरू होने जा रहा है. उत्तराखंड पुलिस और प्रशासन के लिए कांवड़ यात्रा एक बड़ी चुनौती होती है. कुल 1.10 करोड़ की आबादी वाले उत्तराखंड में इस बार कांवड़ यात्रा में 3 करोड़ लोगों के आने का अनुमान है. उत्तराखंड पुलिस बाकी राज्यों के साथ समन्वय बनाने की कोशिश में है लेकिन पश्चिमी यूपी, हरियाणा से आने वाले कांवड़ियों को काबू में रखना हमेशा चुनौती रहती है. पिछली बार कई जगह कांवड़िये पुलिस से ही भिड़ गए थे इसलिए भी पुलिस सतर्क है.

कांवड़ मेला 17 जुलाई से, हरियाणा-पश्चिमी यूपी के गांवों तक बताए जाएंगे Dos & Donts

सीसीटीवी, लाउडहेलर्स 

पिछले अनुभवों को देखते हुए देहरादून पुलिस ने कावड़ियों के मसूरी जाने पर रोक लगाई है. एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने बताया कि मसूरी में कांवड़ियों के प्रवेश को रोकने के लिए पांच प्रवेश द्वार बनाए जा रहे हैं. इनमें सीसीटीवी और लाउडहेलर्स भी लगाए जा रहे हैं.

एसएसपी ने कहा इन प्रवेश द्वारों से कावंड़ियों पर नज़र रखी जाएगी और उन्हें शहर में घुसने से रोका जाएगा. इस दौरान भगवा पहने हुए किसी भी व्यक्ति को शहर में नहीं जाने दिया जाएगा. कांवड़ लेकर आने वाले अगर मसूरी जाना चाहते हैं तो उन्हें कपड़े बदलने होंगे. भगवाधारियों का प्रवेश मसूरी में बंद रहेगा.
Loading...

यह है वजह 

मसूरी का कावंड़ियों के साथ अनुभव बहुत अच्छा नहीं रहा है. गंगोत्री से जल लाने-ले जाने के नाम पर कावंड़िये मसूरी शहर पहुंच जाते थे और उत्पात मचाते थे. सात-आठ साल पहले पुलिस-प्रशासन ने शहर के लोगों के साथ मिलकर यह फैसला किया था कि कांवड़ियों को मसूरी में नहीं आने दिया जाएगा. उत्तराखंड होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप साहनी कहते हैं इस फैसले का बहुत अच्छा असर पड़ा क्योंकि वह आकर यहां बवाल कर देते थे. इस तरह के कदम उठाए जाने चाहिए.

अब उत्तरकाशी जाने वाले कांवड़ियों को शहर के बाहर से ही निकाला जाता है लेकिन फिर भी कुछ शहर में पहुंच ही जाते हैं. अब पुलिस ने तय किया है किसी को भी मसूरी में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा.

यूपी, उत्तराखंड ने कसी कांवड़ यात्रा के लिए कमर

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 8, 2019, 5:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...