दिल्ली से गंगोत्री ट्रेन से पहुंचना होगा आसान, नक्शे में देखें- ऐसे बिछेगी रेल लाइन

चारधाम यात्रा के लिए रेल लाइन बिछाने का सर्वे कार्य हुआ पूरा.

Char Dham Rail Link: उत्तराखंड में बद्रीनाथ और केदारनाथ को जोड़ने के लिए ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन के काम में आई तेजी. चार धाम तक ट्रेन से पहुंचने का सपना हो सकेगा पूरा.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रेल उत्तराखंड के चार धाम तक रेल लाइन (Char Dham Rail Link) बिछाने के लिए लगातार काम हो रहा है. यहां गंगोत्री और यमुनोत्री (Gangotri Yamunotri) तक रेल लाइन बनाने के लिए सर्वे का काम पूरा कर लिया गया है. यह सर्वे डोईवाला से उत्तरकाशी होते हुए बड़कोट तक जाएगी. वहीं बदरीनाथ और केदारनाथ धाम को रेल लाइन से जोड़ने के लिए ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन के लिए भी काम तेज हो गया है.

उत्तराखंड के चार धाम तक ट्रेन से पहुंचने का सपना अगले कुछ साल में पूरा हो सकेगा. रेलवे लगातार यहां के मुश्किल भूगोल और विपरीत मौसम में भी काम करने में लगा है. गंगोत्री और यमुनोत्री के लिए सर्वे का काम पूरा हो चुका है. यानी उत्तराखंड के चार धाम तक अब ट्रेन से पहुंचने का सपना जल्द ही पूरा होने वाला है. इसके लिए डोईवाला से उत्तरकाशी होते हुए बड़कोट तक सर्वे का काम रेल विकास निगम लिमिटेड यानी RVNL ने पूरा कर लिया है.

सर्वे पर एक नजर

क़रीब 125 किमी लंबा होगा का ट्रैक
24 हजार करोड़ की लागत का अनुमान
मार्च 2018 में शुरू हुआ था सर्वे
इस लाइन पर होंगे 10 स्टेशन
24 टनल और 19 पुलों से होकर गुज़रेगी रेल लाइन

उत्तराखंड के बदरीनाथ और केदारनाथ की ओर जाने वाली रेल लाइन के लिए लगातार काम चल रहा है. यहां न्यू ऋषिकेश रेलवे स्टेशन और सुरंग का निर्माण पूरा हो चुका है.  वहीं न्यू ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल 2025 तक तैयार होने का अनुमान है. यह रेलवे लाइन 125 किमी लंबी होगी जिसका 105 किमी हिस्सा सुरंग से होकर गुज़रेगा. ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे ट्रैक पर 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेन दौड़ेगी. यानी इस प्रोजेक्ट से न केवल भारत सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना पूरी होगी, बल्कि उत्तराखंड के लोगों बहुत बड़ा फायदा होगा.