• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • कांग्रेस के 'दलित CM' बयान के बाद BJP की ‘ब्रेकफास्ट डिप्लोमेसी’, धामी ने आर्य के साथ क्यों किया नाश्ता?

कांग्रेस के 'दलित CM' बयान के बाद BJP की ‘ब्रेकफास्ट डिप्लोमेसी’, धामी ने आर्य के साथ क्यों किया नाश्ता?

सीएम धामी अचानक वरिष्ठ मंत्री यशपाल आर्य के घर पहुंचे.

सीएम धामी अचानक वरिष्ठ मंत्री यशपाल आर्य के घर पहुंचे.

Uttarakhand Election 2022 : उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अचानक मंत्री यशपाल आर्य के घर नाश्ते पर पहुंचे, क्यों? क्या किसी बड़े दलबदल के संकेत हैं? जानिए यह पूरा मामला क्या है और कैसे दो मुख्य पार्टियां समीकरण बना रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

देहरादून. उत्तराखंड चुनाव से पहले दलबदल संबंधी अटकलों और उत्तराखंड भाजपा में जारी अंदरूनी कलह के लिहाज़ से अचानक मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की ‘ब्रेकफास्ट डिप्लोमैसी’ चर्चा में आ गई है. शनिवार सुबह वरिष्ठ मंत्री यशपाल आर्य के घर अनायास पहुंच गए धामी ने आर्य के साथ नाश्ता करते हुए अनेक महत्वपूर्ण मुद्दों पर विचार साझा किए. बताया जाता है कि धामी की यह ‘ब्रेकफास्ट डिप्लोमेसी’ कांग्रेस सूत्रों की उन अटकलबाजियों के परिप्रेक्ष्य में शुरू हुई, जिसमें कहा गया था कि आर्य अपने विधायक पुत्र के साथ ‘घर वापसी’ कर सकते हैं अर्थात वह अपनी पुरानी पार्टी कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं.

राज्य में दलितों का मुख्य चेहरा रहे यशपाल आर्य छह साल पहले उस वक्त भाजपा में शामिल हो गए थे, जब कांग्रेस ने उनके बेटे को चुनावी मैदान में उतारने से इनकार कर दिया था. इस मुलाकात के बाद आर्य से जब पूछा गया कि क्या वह कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं, इस पर उन्होंने कहा, “नेताओं के पाला बदलने में कुछ नया नहीं है. दलित राज्य (चुनाव) में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने जा रहे हैं.” इधर, सीएम धामी ने बैठक के बारे में सिर्फ इतना कहा कि आर्य के साथ उनकी शिष्टाचार मुलाकात थी “क्योंकि वह आर्य पार्टी के एक वरिष्ठ नेता हैं.”

ये भी पढ़ें : VIDEO : ‘मैं चौथी मां की संतान हूं, मां ने बहुत संघर्ष किया’, हरीश रावत ने सुनाई बचपन व गरीबी की दास्तान

बीजेपी के लिए आगे अब क्या है?
उत्तराखंड विधानसभा चुनाव अगले साल की शुरुआत में होने हैं. सत्तारूढ़ भाजपा को 2017 में 70 सदस्यीय विधानसभा में 57 सीटों के साथ प्रचंड बहुमत मिला था. हालांकि, एक मज़बूत जनादेश के बावजूद, पार्टी के भीतर तकरार और शासन के मुद्दों को लेकर भाजपा को इस साल मार्च से अब तक दो बार मुख्यमंत्री बदलने को मजबूर होना पड़ा. हालांकि लगातार दूसरी बार सत्ता में आने का दावा करने वाली भाजपा के लिए बड़ी जीत यह रही कि पिछले कुछ हफ्तों में एक निर्दलीय और एक कांग्रेस विधायक भाजपा में शामिल हुए. अगर पार्टी के अंदरूनी सूत्रों की मानें तो दो और विधायक जल्द ही भाजपा में शामिल हो सकते हैं.

ये भी पढ़ें : मानसून की पिक्चर अभी बाकी है… 30 सितंबर तक उत्तराखंड में और होगी ज़ोरदार बारिश, अलर्ट जारी

कांग्रेस की स्थिति और रणनीति?
बलूनी के दावे पर पलटवार करते हुए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने दावा कर दिया था कि आने वाले दिनों में भाजपा को अपने नेताओं के पाला बदलने का सामना करना पड़ सकता है. इधर, पूर्व सीएम हरीश रावत ने एक बड़ा बयान तब दिया था, जब पंजाब में कांग्रेस ने दलित नेता चन्नी को सीएम बनाया था. रावत ने कहा था कि उत्तराखंड में भी कोई दलित अगर सीएम बने, तो उन्हें खुशी होगी. इसके बाद से ही उत्तराखंड के दलित नेता कांग्रेस की और कांग्रेस पार्टी दलित नेताओं की नज़र में है. इसी तारतम्य में सीएम धामी और यशपाल आर्य के बीच ‘ब्रेकफास्ट’ को अहम माना जा रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज