Home /News /uttarakhand /

'अपनी जमीन-अपने लोग', उत्तराखंड में क्यों हिमाचल का कानून पढ़ रही धामी सरकार?

'अपनी जमीन-अपने लोग', उत्तराखंड में क्यों हिमाचल का कानून पढ़ रही धामी सरकार?

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी. (File Photo)

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी. (File Photo)

Land Law in Uttarakhand : 'उत्तराखंड मांगे भू कानून' आंदोलन के बाद राज्य सरकार ने लैंड लॉ के लिए कवायद शुरू कर दी है. एक कमेटी यह समझ रही है कि उत्तराखंड के लिए मुफीद भू-कानून कैसे बनाया जा सकता है. इसके लिए वह हिमाचल प्रदेश के भू कानून का अध्ययन कर रही है.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

    देहरादून. उत्तराखंड में भूमि कानून की कवायद दिनोंदिन तेज़ होती जा रही है. अब खबर आ रही है कि उत्तराखंड सरकार अपने स्तर पर राज्य में भूमि कानून बनाने के लिए कुछ सूचनाएं और तथ्य हिमाचल प्रदेश के इसी तरह के कानून से जुटा रही है. राज्य में भूमि की खरीद-फरोख्त में क्षेत्रीयता के आधार पर कोई भेद नहीं होने की नीति को खत्म करने के लिए कानून बनाने जा रहे उत्तराखंड ने तीन सदस्यों की एक कमेटी बनाई है, जो इस बारे में कानून के लिए ज़रूरी अध्ययन के बाद अपनी रिपोर्ट सौंपेगी. फिर सरकार इसी रिपोर्ट के आधार पर कोई फैसला करेगी.

    कमेटी के चेयरमैन और रिटायर्ड आईएएस अफसर सुभाष कुमार के हवाले से एनआईई की एक रिपोर्ट में लिखा गया, ‘हम हिमाचल के लैंड लॉ से कुछ सूचनाएं जुटा रहे हैं. यह कमेटी इस बारे में सिफारिशें देगी कि किस तरह स्थानीय आबादी के लिए ज़मीन पर अधिकार संरक्षित किए जा सकते हैं, वो भी विकास कार्यों को बाधित किए बगैर.’ बता दें कि यह कमेटी तब बनाई गई थी जब उत्तराखंड के युवाओं ने बाहरी राज्यों के लोगों द्वारा उत्तराखंड में ज़मीनें खरीदने के विरोध में आंदोलन शुरू किया था.

    ये भी पढ़ें : केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री को जोड़ने के लिए रेलवे कर रहा है सर्वे, जानिए डिटेल्स

    उत्तराखंड में अभी क्या हैं नियम कायदे?

    पहाड़ी इलाकों वाले राज्य में फिलहाल कोई भी नगरपालिका सीमा या कैंट क्षेत्रों में प्रॉपर्टी खरीद सकता है. एक नियम यह है कि नगरपालिका दायरे के बाहर 250 वर्गमीटर से ज़्यादा की कृषि भूमि नहीं खरीदी जा सकती, लेकिन इस नियम में आधिकारिक सरकारी अफसर और डीएम इजाज़त या छूट दे सकते हैं. उत्तराखंड में अन्य राज्यों के लोगों को कृषि भूमि की खरीदी में राहत पर्यटन नीति के तहत दी जा सकती है. यानी उत्तराखंड के पर्यटन में इज़ाफ़े को कोई प्रोजेक्ट अगर रोज़गार भी पैदा करता है, तो इस नीति के तहत राहत मिल सकती है.

    ये भी पढ़ें : कभी लालटेन व छिलके जलाकर होती थी, जानिए अल्मोड़ा में रामलीला का 150 साल का रोचक इतिहास

    ‘उत्तराखंड मांगे भू कानून’ आंदोलन

    गौरतलब है कि पिछले दिनों ही ‘उत्तराखंड मांगे भू कानून’ नाम से आंदोलन राज्य के युवाओं ने खड़ा किया जिसमें कलाकार, कार्टूनिस्ट भी जुड़ गए. यही नहीं, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने भी इसे मुद्दे के तौर पर खड़ा किया. इसके बाद से उत्तराखंड की पुष्कर सिंह धामी सरकार इस दिशा में कदम उठा रही है.

    आपके शहर से (देहरादून)

    देहरादून
    देहरादून

    Tags: Uttarakhand Government, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर