क्‍या कल खत्‍म हो सकता है कुंभ या 30 अप्रैल तक रहेगा जारी? अखाड़ा पर‍िषद की बैठक में हो सकता है फैसला


हरिद्वार कुंभ को लेकर साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था अखाड़ा परिषद की आज यानी शुक्रवार को बैठक हो सकती है

हरिद्वार कुंभ को लेकर साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था अखाड़ा परिषद की आज यानी शुक्रवार को बैठक हो सकती है

Uttarakhand News: हरिद्वार कुंभ में आए साधु-संतों के कोरोना पॉजीटिव आने का सिलसिला लगातार जारी है, जिससे कुंभ मेला प्रशासन से लेकर कुंभ के लिए बनी साधु-संतों के 13 अखाड़ों से जुड़ी अखाड़ा परिषद में हड़कंप के हालात हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2021, 4:21 PM IST
  • Share this:
हरिद्वार कुंभ को लेकर साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था अखाड़ा परिषद की आज यानी शुक्रवार को बैठक हो सकती है, जिसमें कुंभ को जारी रखने या न रखने पर बड़ा फैसला आ सकता है. इस बात के संकेत अखाड़ा परिषद के महामंत्री हरी गिरी ने न्यूज18 से बातचीत में दिए हैं. महामंत्री हरि गिरी के मुताबिक, सभी अखाड़ों से बात कर इस पर फैसला होगा कि कुंभ समाप्ति की घोषणा करनी है या जारी रहेगा. अखाड़ों की बैठक वर्चुअल माध्यम से होगी.

हालांकि हरि गिरी ने साफ किया कि कोई भी अखाड़ा अपनी तरफ से फैसला लेने के लिए स्वतंत्र है. इसीलिए निरंजनी अखाड़े ने अपनी तरफ से 17 अप्रैल को महाकुंभ समाप्ति का ऐलान कर दिया है. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और निरंजनी अखाड़े से जुड़े हुए श्रीमहंत नरेंद्र गिरी के कोरोना पॉजीटिव आने के बाद से ही अखाड़ा परिषद के महामंत्री हरि गिरी महाराज परिषद के काम को देख रहे हैं. हरि गिरी खुद जूना अखाड़े से जुड़े हुए हैं.

Youtube Video


निरंजनी अखाड़ा कर चुका है फैसला
अखाड़ा परिषद से जुड़े जूना के बाद दूसरे सबसे बड़े अखाड़े निरंजनी ने गुरुवार को ऐलान कर दिया था कि उनका अखाड़ा 17 अप्रैल को अपनी तरफ से कुंभ समाप्ति की घोषणा कर देगा. इस अखाड़े के सचिव महंत रविंद्रपुरी महाराज के मुताबिक, उन्होंने अपने सभी साधु-संतों से तुरंत अखाड़े की छावनी खत्म करने को कह दिया है.

जानें बैरागी संत क्‍यों हुए नाराज?

वहीं निरंजनी अखाड़े के ऐलान से बैरागी संत नाराज हो गए हैं. उन्‍होंने कहा है क‍ि निरंजनी और आनंद अखाड़े को निर्मोही , निर्वाणी और दिगम्बर अखाड़ों के संतों से माफी मांगनी चाह‍िए. प्रेस वार्ता बैरागी संतों ने कहा है क‍ि मेला समापन का अधिकार केवल मुख्यमंत्री और मेला प्रशासन को है. घोषणा करने वाले संत यदि माफी नहीं मांगते तो वो अखाड़ा परिषद के साथ नहीं रह सकते. उनका मेला जारी रहेगा और 27 अप्रैल को सभी बैरागी संत शाही स्नान करेंगे.



श्री पंचायती महानिर्वाणी अखाड़े में एंट्री बैन

महानिर्वाणी अखाड़े में अब एंट्री बैन कर दी गई है. कई अखाड़ों के संतों के पॉजिटिव आने के बाद महानिर्वाणी अखाड़ा सतर्कता बरत रहा है. हर आने जाने वाले से पूछताछ हो रही है. इतना ही नहीं अखाड़े में एंट्री को लेकर चौकसी बढ़ाई गई है और कुंभ मेले को लेकर संतों के बीच मीटिंग हो रही है. 27 तारीख के शाही स्नान को लेकर साधु संत आपस में भी मंथन कर रहे हैं.

निरंजनी अखाड़े के एक और श्री महंत आए कोरोना पॉजीटिव

निरंजनी अखाड़े के श्रीमहंत मनीष भारती जी महाराज भी कोरोना पॉजीटिव आए हैं. मनीष भारती महाराज को ऋषिकेश के ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल यानी एम्स में भर्ती किया गया है.

निरंजनी अखाड़े पहुंची स्‍वास्‍थ्‍य व‍िभाग की टीम

निरंजनी अखाड़े में कोविड-19 टेस्ट के लिए स्वास्थ विभाग की टीम सैंपल कलेक्ट कर रही है. कई साधु संतों के पॉजिटिव आने के बाद रैपिड एंटीजन टेस्ट करने यहां स्वस्थ विभाग की टीम सैंपल ले रही है. साथ ही हर अखाड़े में स्वास्थ विभाग की टीम अब सैंपल कलेक्शन के लिए पहुंचना शुरू हो गई ह., साधु संतों के पॉजिटिव आने के बाद अब तेजी के साथ टेस्टिंग की प्रक्रिया को मेला प्रशासन करवा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज