आखिरकार... भाजपा ने MLA चैंपियन को किया 6 साल के लिए निष्कासित

न्यूज़ 18 के रिपोर्टर को धमकाने का वीडियो वायरल होने के बाद बीजेपी ने उन्हें 3 महीने के लिए निलंबित किया था. इसी बीच यह वीडियो सामने आ गया था.

News18 Uttarakhand
Updated: July 17, 2019, 6:28 PM IST
News18 Uttarakhand
Updated: July 17, 2019, 6:28 PM IST
बीजेपी को बार-बार मुश्किलों में डालने वाले विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन को भाजपा ने छह साल के लिए निष्कासित कर दिया है. सोशल मीडिया और टीवी पर उत्तराखंड को गाली देते हुए चैंपियन का वीडियो वारयल होने के बाद आखिरकार बीजेपी ने उनके ख़िलाफ़ यह कदम उठाया है. इससे पहले 10 तारीख को चैंपियन को निष्कासन की चेतावनी देते हुए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था. चैंपियन के जवाब से संतुष्ट न रहने पर पार्टी ने यह कार्रवाई की. न्यूज़ 18 के रिपोर्टर को धमकाने का वीडियो वायरल होने के बाद बीजेपी ने उन्हें 3 महीने के लिए निलंबित किया था कि इसी बीच यह वीडियो सामने आ गया था.

यह है आदेश 

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव और मुख्यालय प्रभारी अरुण सिंह ने यह आदेश जारी है. इसके अनुसार, ‘भारतीय जनता पार्टी ने उत्तराखंड के खानपुर विधानसभा क्षेत्र से वर्तमान विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन की अनुशासनहीनता को गंभीरता से लेते हुए उन्हें 6 वर्ष के लिए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया है.’

इस पत्र को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष, राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) को सूचनार्थ भेजा गया है. इसकी एक कॉपी उत्तराखंड भाजपा प्रदेश अध्यक्ष को भेजी गई है. पत्र के अनुसार यह निर्णय तत्काल प्रभाव से लागू होगा.

'जवाब संतोषजनक नहीं था'

हालांकि बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने 10 जुलाई को चैंपियन को कारण बताओ नोटिस जारी कर पूछा था कि क्यों ने उन्हें निष्कासित कर दिया जाए? अजय भट्ट के फ़ेसबुक अकाउंट के अनुसार चैंपियन को जवाब देने के लिए दस दिन का समय दिया गया था. इस तरह चैंपियन के पास कम से कम 20 तारीख तक का समय होना चाहिए था.

बीजेपी प्रवक्ता देवेंद्र भसीन ने बताया कि पार्टी ने चैंपियन के निष्कासन के लिए पूरी प्रक्रिया का पालन किया है. चैंपियन ने कारण बताओ नोटिस का जवाब दे दिया था लेकिन पार्टी आलाकमान उससे संतुष्ट नहीं हुआ और उसके बाद छह साल के लिए निष्कासन की कार्रवाई की गई.
Loading...

'छह साल में धुल जाएगा अपराध?'

क्या छह साल बाद चैंपियन को फिर बीजेपी में शामिल किया जा सकता है? क्या छह साल बाद उत्तराखंड को गाली देने का अपराध भुलाया जा सकता है? इस सवाल के जवाब में भसीन कहते हैं कि यह कार्रवाई बीजेपी के संविधान के अनुसार की गई है. स्वछंद रूप से पार्टी भी फ़ैसले नहीं ले सकती इसलिए उन्हें छह साल के लिए निष्कासित किया गया है. छह साल बाद अगर वह बीजेपी में शामिल होना चाहेंगे तो पार्टी तब उनके मामले पर गुण-दोष के आधार पर विचार करेगी.

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2019, 4:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...