होम /न्यूज /उत्तराखंड /हरिद्वार में पितृमोक्ष अमावस पर उमड़ी लाखों की भीड़, कोविड प्रोटोकॉल की उड़ी धज्जियां

हरिद्वार में पितृमोक्ष अमावस पर उमड़ी लाखों की भीड़, कोविड प्रोटोकॉल की उड़ी धज्जियां

हरिद्वार के घाट पर उमड़े श्रद्धालु. (File Photo)

हरिद्वार के घाट पर उमड़े श्रद्धालु. (File Photo)

Pitri Visarjani Amavasya : उत्तराखंड को देवभूमि कहा जाता है और यहां हरिद्वार व ऋषिकेश जैसे धर्म क्षेत्रों में श्राद्ध क ...अधिक पढ़ें

हरिद्वार/देहरादून. श्राद्ध पक्ष की अंतिम तिथि यानी पितृ मोक्ष अमावस्या के मौके पर धर्मनगरी कहे जाने वाले हरिद्वार में लाखों श्रद्धालु तर्पण के लिए जुटे और कोविड नियमों की धज्जियां उड़ गईं. उत्तराखंड में इस तिथि को पितृ विसर्जन अमावस भी कहा जाता है और इस दिन तर्पण का विशेष महत्व माना जाता है. हरिद्वार ही नहीं, ऋषिकेश में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ संगम पर तर्पण के लिए उमड़ी. श्रद्धालुओं के जमघट से एक तरफ स्थानीय स्तर पर उत्साह का माहौल देखा गया, तो वहीं कोविड संबंधी गाइडलाइन्स को लेकर स्थिति गंभीर दिखाई दी.

हरिद्वार के प्रसिद्ध घाट हर की पौड़ी समेत कई घाटों पर बुधवार को लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं की पहुंचने की बात कही गई. टीओआई की एक खबर के मुताबिक श्राद्ध पक्ष के अंतिम दिन उमड़ी लाखों की इस भीड़ के चलते स्थानीय बाज़ारों और घाट के पंडों पुरोहितों के बीच उत्साह देखा गया, लेकिन कोविड संबंधी आचार संहिता का पालन न होने से स्थिति गंभीर दिखती रही. वहीं, न्यूज़18 संवाददाता ने ऋषिकेश में पितरों के तर्पण के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के पहुंचने की रिपोर्ट दी.

ये भी पढ़ें : पीएम मोदी आज पहुंचेंगे उत्तराखंड, ऋषिकेश में ऐसे बिताएंगे डेढ़ घंटा, केदारनाथ जाएंगे या नहीं?

uttarakhand news, haridwar news, rishikesh news, shraddh paksh, haridwar ghat, उत्तराखंड न्यूज़, हरिद्वार न्यूज़, ऋषिकेश न्यूज़

पितृ तर्पण के दौरान ऋषिकेश और हरिद्वार में कोविड संबंधी नियम टूटते देखे गए. सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क संबंधी प्रोटोकॉल का पालन न किए जाने के चित्र सामने आए.

त्रिवेणी संगम पर लगा श्रद्धालुओं का मेला
श्राद्ध पक्ष के अंतिम दिन पितृ विसर्जन अमावस्या पर त्रिवेणी संगम पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु पितरों का तर्पण करने पहुंचे. तीर्थ पुरोहित पंडित रविंद्र मिश्रा ने कहा कि अमावस के दिन किसी भी पितर को तर्पण दिया जा सकता है, जिसकी तिथि याद न हो. त्रिवेणी संगम पर पितृ विसर्जन का विशेष महत्व है, जिसके चलते दूर-दूर से श्रद्धालुओं ने ऋषिकेश और हरिद्वार का रुख किया. अमावस के बाद नवरात्रों की शुरुआत होती है और इसी के साथ शुभ कार्य शुरू हो जाते हैं. श्राद्ध के 15 दिनों तक मांगलिक कार्यक्रमों पर रोक लगी होती है. फिर नवरात्रि से शादी ब्याह और अन्य शुभ कार्यों का शुभारंभ माना जाता है.

Tags: Haridwar news, Pitru Paksha, Rishikesh news, Uttarakhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें