लाइव टीवी

लॉकडाउन का असरः देहरादून ज़ू और लच्छीवाला पिकनिक स्पॉट के कर्मचारियों का वेतन देना हुआ मुश्किल
Dehradun News in Hindi

Kishore Kumar Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: May 21, 2020, 12:34 PM IST
लॉकडाउन का असरः देहरादून ज़ू और लच्छीवाला पिकनिक स्पॉट के कर्मचारियों का वेतन देना हुआ मुश्किल
लॉकडाउन के कारण देहरादून चिड़ियाघर और लच्छीवाला पिकनिक स्पॉट को करोड़ों का नुकसान हो चुका है. (file photo of lachchhiwala)

साल भर में देहरादून ज़ू से ढाई करोड़ रुपये और गर्मियों में लच्छीवाला पिकनिक स्पॉट से 70 लाख तक की कमाई होती थी.

  • Share this:
देहरादून. मशहूर देहरादून चिड़ियाघर और लच्छीवाला पिकनिक स्पॉट को इस लॉकडाउन की वजह से बड़ा आर्थिक नुकसान सहना पड़ रहा है. लॉकडाउन के कारण देहरादून चिड़ियाघर और लच्छीवाला पिकनिक स्पॉट को करोड़ों का नुकसान हो चुका है. हालत यह हो गई है कि यहां काम करने कर्मचारियों की सैलेरी तक देना मुश्किल हो गया है. इसके अलावा बिजली-पानी जैसे ज़रूरी खर्च तक भारी लगे लगे हैं. दोनों ही पिकनिक स्पॉट वन क्षेत्र में हैं और वन विभाग के लिए अब यह हिसाब लगाना मुश्किल हो रहा है कि चिड़ियाघर के जानवरों के खाने-पीने का खर्च वह कैसे निकाले.

लाखों है खर्च 

देहरादून चिड़ियाघर और लच्छीवाला पिकनिक स्पॉट का मैनेजमेंट देहरादून ज़ू अथॉरिटी करती है. यह अथॉरिटी इन दोनों जगहों से वन विभाग को करोड़ों रुपये कमाकर देती है लेकिन लॉकडाउन की वजह से ये दोनों पर्यटक स्थल भी 2 महीने से पूरी तरह बंद हैं और इससे अथॉरिटी बड़ा आर्थिक नुकसान हुआ है.



बता दें कि देहरादून चिड़ियाघर में जानवरों के खाने पीने और दवाइयों आदि पर करीब 60 लाख रुपये साल भर में खर्च होते हैं. देहरादून चिड़ियाघर और लच्छीवाला पिकनिक स्पॉट में कर्मचारियों, बिजली-पानी के बिल और अन्य मेंटेनेंस पर करीब 40 से 50 लाख रुपये का खर्चा आता है.



करोड़ों का नुक़सान 

शिवालिक रेंज के वन संरक्षक पी के पात्रो कहते हैं कि लॉकडाउन की वजह से पर्यटक नहीं हैं तो कमाई भी नहीं है इसकी वहज से काफी दिक्कतें आ रही है. दरअसल लॉकडाउन के दो महीने पर्यटन के भी महीने थे. मार्च से देहरादून चिड़ियाघर में पर्यटकों की आमद बढ़ जाती है.

पर्यटन सीज़न को मिलाकर साल में देहरादून चिड़ियाघर को ढाई करोड़ रुपये तक की कमाई हो जाती थी लेकिन 22 मार्च से चल रहे लॉकडाउन की वजह से देहरादून ज़ू अथॉरिटी की कमाई ज़ीरो रह गई है. इसी तरह लच्छीवाला पिकनिक स्पॉट में भी मार्च से पर्यटक उमड़ने शुरु हो जाते थे. गर्मियों में ही लच्छीवाला पिकनिक स्पॉट में 50 से 70 लाख तक की कमाई हो जाती थी. लॉकडाउन से यह भी शून्य हो गई है.

मदद की गुहार 

पीके पात्रो बताते हैं कि हालत यह हो गई है कि यहां काम करने वाले कर्मचारियों की सैलेरी देना मुश्किल हो गया है और देहरादून चिड़ियाघर में रहने वाले जानवरों का साल भर होने वाला का खर्चा नहीं निकल पा रहा है. ऐसे में देहरादून चिड़ियाघर अथॉरिटी ने सरकार से गुहार लगाई है कि उनकी आर्थिक मदद की जाए.

कोरोना वायरस, कोविड-19, की वजह से भारत ही नहीं दुनिया भर की अर्थव्यवस्था को बड़ा नुकसान हुआ है. ऐसे में सरकार के सामने अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाना बड़ी चुनौती है ताकि न सिर्फ़ कर्मचारियों को वेतन मिल सके बल्कि चिड़ियाघर में रहने वाले जानवरों के लिए पर्याप्त बजट की व्यवस्था हो सके.

 
First published: May 21, 2020, 12:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading