Home /News /uttarakhand /

met issues red alert in uttarakhand forest fire know updates from nainital uttarkashi doon tehri wildfires

जंगल-जंगल आग: मौसम विभाग का Red Alert, चकराता में सेना मोर्चे पर, आपके जिले में कितनी भयानक है Forest Fire?

उत्तराखंड के कई ज़िलों में जंगल की आग से हालात बेकाबू हो रहे हैं.

उत्तराखंड के कई ज़िलों में जंगल की आग से हालात बेकाबू हो रहे हैं.

Forest Fire in Uttarakhand : जंगल की आग ने सटी बस्तियों का जीना मुहाल कर ही दिया है, अब वन विभाग की कार्य प्रणाली सवालों के घेरे में आ गई है. टिहरी, उत्तरकाशी और नैनीताल में विभाग के प्रति लोग गुस्से में हैं. देखिए उत्तराखंड के कई ज़िलों से ग्राउंड रिपोर्ट.

अधिक पढ़ें ...

देहरादून. मौसम विज्ञान केंद्र ने इस महीने के ​आखिरी दिनों में तापमान और बढ़ने के साथ ही जंगलों की आग को लेकर रेड अलर्ट जारी कर दिया है. मौसम विभाग का कहना है कि गर्मी बढ़ने के साथ ही वनों की आग और फैलेगी इसलिए राज्य सरकार सतर्कता के कदम उठाए. वहीं, न्यूज़18 ​की टीम ने विभिन्न ज़िलों से जंगलों की आग के ताज़ा अपडेट्स दिए हैं, जिनके अनुसार उत्तरकाशी और नैनीताल में वन विभाग का रवैया सवालों के घेरे में है, जबकि बुधवार 27 अप्रैल को देहरादून के चकराता के पास के जंगलों में भीषण आग लगी.

पहले मौसम विभाग की चेतावनी की बात करें तो विभाग का कहना है कि 29 अप्रैल तक तापमान और बढ़ सकता है. एक खबर के मुताबिक विभाग ने सरकार को जंगल बचाने के लिए ‘फायरब्रेक स्ट्रिप्स’ और ‘नियंत्रित आग’ की तरकीबें अपनाने की सलाह दी है. मौसम विभाग ने बताया है कि राज्य में तापमान लगातार सामान्य से ज़्यादा बना हुआ है, जिससे इस बार गर्मी बेतहाशा बढ़ी है. गर्म हवाओं के चलते भी जंगलों को ज़्यादा नुकसान हो रहा है. अब आपको उत्तराखंड के चार ज़िलों से जंगल की आग की खास रिपोर्ट बताते हैं.

चकराता में जल उठे जंगल
छावनी परिषद चकराता के पास जंगलों में भीषण आग लगने की खबर बुधवार सुबह पूरे क्षेत्र में तेज़ी से फैली. आग को बुझाने में सेना के जवान और वनकर्मियों को जुटना पड़ा. बताया गया कि तेज़ हवा के चलते जंगलों में आग तेज़ी से फैली और कई हेक्टेयर वनभूमि जलकर राख हो गई. इधर, उत्तरकाशी जिले में टोंस, अपर यमुना, उत्तरकाशी वन प्रभाग में लगी आग से चारों तरफ धुआं ही धुआं छाया हुआ है.

बस्ती की तरफ बढ़ने लगी आग तो…
उत्तरकाशी संवाददाता बलबीर परमार की रिपोर्ट के मुताबिक जंगलों में प्रचंड आग से हर दिन लाखों की वन संपदा जलकर खाक हो रही है. वन्य जीवों को भी नुकसान हो रहा है और वन विभाग आग को नियंत्रित करने में अब तक नाकाम दिख रहा है. स्थानीय लोग अब वन विभाग की कार्य प्रणाली पर सवाल खड़ा कर रहे हैं. वहीं, ज़िला मुख्यालय के पास जंगलो में अचानक आग बस्ती की तरफ बढ़ती दिखी तो स्थानीय लोगो ने मोर्चा संभाल लिया.

यहां आपदा जैसे हालात और अफसर गायब!
नैनीताल में जंगलों की आग कंट्रोल करना मुश्किल हो गया है. अब तक नैनीताल वन प्रभाग में आग की 35 से ज्यादा घटनाएं हो गई हैं और 25 हैक्टेयर से ज्यादा जंगल जल गए हैं, लेकिन विभाग की नींद नहीं खुली है. विभाग के पास न तो रिकॉर्ड है और न ही अधिकारी मोर्चे पर हैं. उल्टे आग लगाने का आरोप ग्रामीणों पर लगा रहे विभाग से ग्रामीण नाराज़ हैं. इधर, आपदा जैसे हालात के बीच वन अधिकारियों के गायब होने से भी ग्रामीणों में गुस्सा है.

वीरेंद्र बिष्ट की रिपोर्ट है कि मनोरा रेंज के जंगल बेतहाशा धधक रहे हैं और रेंज के अधिकारी के आवास पर ताला सालों से लगा है. इस आपदा के बाद भी मनोरा रेंजर अपने सरकारी आवास के बजाय हल्द्वानी में मौज काट रहे हैं. इस मामले पर जब उच्च अधिकारियों से बात करनी चाही तो उनका फोन आउट आफ रीच मिला.

टिहरी में वन विभाग के हवा हवाई दावे
वन विभाग के ऐसे ही हाल टिहरी ज़िले में दिख रहे हैं. सौरभ सिंह की रिपोर्ट की मानें तो ज़िले में अभी तक आग की 129 घटनाएं हो चुकी हैं. करीब 131 हेक्टेयर जंगल आग की भेंट चढ़ चुका है और वन अधिकारियों द्वारा कंट्रोल बर्निंग की बात कही जा रही है. दूरस्थ क्षेत्रों में तो विभागीय अधिकारियों की लापरवाही साफ दिख रही है. ज़िले के भिलंगना और बालगंगा रेंज में सबसे अधिक आग की घटनाएं हो रही हैं.

Tags: Forest fire, Nainital forest fire, Uttarakhand news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर