मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने बढ़ती उम्र को बताया मंत्रालय में कटौती और बदली की वजह

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रदेश के तमाम मंत्रियों से जिले का प्रभार क्या बदला कि इसके कारणों को लेकर नई बहस छिड़ गई है.अब कैबिनेट मंत्री अरविन्द पाण्डेय के ताजा बयान ने नया बखेड़ा खड़ा कर दिया है.अरविन्द पाण्डेय का तर्क है कि मंत्रियों पर विभागीय कामकाज की व्यस्तता का बोझ है साथ ही वरिष्ठता और बढ़ती उम्र एक वजह हो सकती है.

Mukesh Kumar | News18 Uttarakhand
Updated: June 12, 2018, 11:51 PM IST
मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने बढ़ती उम्र को बताया मंत्रालय में कटौती और बदली की वजह
अरविन्द पाण्डेय- कैबिनेट मन्त्री
Mukesh Kumar | News18 Uttarakhand
Updated: June 12, 2018, 11:51 PM IST
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रदेश के तमाम मंत्रियों से जिले का प्रभार क्या बदला कि इसके कारणों को लेकर नई बहस छिड़ गई है. कोई कह रहा है कि जिले के प्रभार के पीछे बहुआयामी कारण हैं लेकिन सच्चाई तो सिर्फ मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ही जानते हैं. अब कैबिनेट मंत्री अरविन्द पाण्डेय के ताजा बयान ने नया बखेड़ा खड़ा कर दिया है.अरविन्द पाण्डेय का तर्क है कि मंत्रियों पर विभागीय कामकाज की व्यस्तता का बोझ है साथ ही वरिष्ठता और बढ़ती उम्र एक वजह हो सकती है. बड़बोले मंत्री अरविन्द पाण्डेय के इस ताजा बयान से प्रदेश की राजनीति का पारा हाई हो गया है.

क्या उत्तराखंड के मंत्रियों की बढ़ती उम्र जिलों का प्रभार बदलने का एक कारण है या विभागीय काम के बोझ तले कई मन्त्री व्यस्त हैं. लेकिन अरविन्द पाण्डेय उम्र के बहाने किस मंत्री पर निशाना साध रहे हैं यह तो मंत्रियों की उम्र का आंकलन करके समझा जा सकता है. एडीआर के आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा उम्र वाले मंत्री यशपाल आर्य हैं जिनसे दो जिलों का प्रभार हटाकर देहरादून तक सीमित कर दिया गया है. दूसरे मंत्री सतपाल महाराज हैं, जिनकी उम्र 65 साल है और इनसे भी दो जिलों में से एक का प्रभार हटाकर हरिद्वार तक सीमित कर दिया गया है.

हालांकि हरक सिंह रावत और सुबोध उनियाल की उम्र 57 साल है जबकि प्रकाश पंत 56 साल के हैं. अब सवाल उठ रहा है कि 45 वर्ष की उम्र वाले अरविन्द पाण्डेय किस मंत्री की वरिष्ठता और उम्र का कारण बता रहे हैं. बहरहाल कांग्रेस को बैठे बिठाए मौका मिल गया है.फिलहाल मन्त्री अरविन्द पाण्डेय का ताजा बयान खूब सुर्खियां बटोर रहा है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर