• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • हर महीने करीब चार लाख मिलते हैं राज्य मंत्री रेखा आर्य को... 5 साल में 3 गुना से ज़्यादा बढ़ी है संपत्ति

हर महीने करीब चार लाख मिलते हैं राज्य मंत्री रेखा आर्य को... 5 साल में 3 गुना से ज़्यादा बढ़ी है संपत्ति

कि महिला आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की आय के बारे में तो सबको पता है लेकिन हम न्यूज़ 18 देखने वालों को महिला और बाल विकास मंत्री रेखा आर्य की आय 
और उनकी तरक्की के बारे में बता रहे हैं. (रेखा आर्य की फ़ाइल फ़ोटो)

कि महिला आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की आय के बारे में तो सबको पता है लेकिन हम न्यूज़ 18 देखने वालों को महिला और बाल विकास मंत्री रेखा आर्य की आय और उनकी तरक्की के बारे में बता रहे हैं. (रेखा आर्य की फ़ाइल फ़ोटो)

रेखा आर्य ने कहा था कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सिर्फ़ तीन घंटे काम करती हैं और इसके लिए उन्हें दिए जाने वाले पैसे बहुत हैं.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता 9 दिसंबर, 2012 से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं. ये कार्यकर्ता अपना मानदेय बढ़ाकर 15000 रुपये करने की मांग कर रही हैं, अभी इन्हें 7500 रुपये प्रतिमाह मिलते हैं. लेकिन महिला और बाल विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रेखा आर्य का कहना है कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सिर्फ़ तीन घंटे काम करती हैं और इसके लिए उन्हें दिए जाने वाले पैसे बहुत हैं. आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का दावा है कि उन्हें इससे बहुत ज़्यादा काम करना पड़ता है और उन्होंने चुनौती दी है कि मंत्री महोदया एक दिन उनका काम करके दिखा दें.

बहरहाल इस खींचतान के बीच हमने सोचा कि महिला आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की आय के बारे में तो सबको पता है लेकिन हम न्यूज़ 18 के पाठकों को महिला और बाल विकास राज्य मंत्री रेखा आर्य की आय
और संपत्ति के बारे में बताएं. रेखा आर्य की तरक्की उनके चुनावी हलफ़नामों में दिख जाती है.

5 साल में तीन गुना से ज़्यादा बढ़ी संपत्ति

बता दें कि पांच साल में रेखा आर्य की संपत्ति तीन गुना से ज़्यादा बढ़ गई है. 2012 में रेखा आर्य की घोषित संपत्ति 4 करोड़ 16.09 लाख रुपये थी, तो 2014 में यह 6 करोड़ 72.15 लाख रुपये हो गई. इसके बाद उनकी तरक्की और तेज़ हुई और 2017 के चुनाव तक रेखा आर्य की संपत्तियां करीब दोगुनी होकर 12 करोड़ 78.13 लाख रुपये हो चुकी थीं.

ऐसा माना जा सकता है कि मंत्रित्वकाल में इनमें दिन-दूनी रात चौगुनी तरक्की होगी.  हालांकि इसका पता शायद अगले चुनाव में ही लग पाएगा जब रेखा आर्य फिर हलफ़नामा दाखिल करेंगी.

साल दर साल बढ़ती गई आमदनी

यह भी बता दें कि 2012 के चुनावी हलफ़नामे के अनुसार साल 2009-10 में रेखा आर्य शिक्षण कार्य करती थीं और उनकी सालाना आय 4.11 लाख रुपये थी. उनके पति जो एक बिज़नेसमैन हैं उनकी आय इस साल 4.47 लाख रुपये थी.

साल 2014 के उपचुनाव में दाखिल हलफ़नामे के अनुसार साल 2013-14 में शिक्षक रेखा आर्य की आय बढ़कर 17.53 लाख रुपये हो गई थी. उनके बिज़नेसमैन पति की आय इस साल 10.78 लाख रुपये रही.

2017 के विधानसभा चुनावों तक रेखा आर्य की आय में वृद्धि जारी रही. हरफ़नामे के अनुसार यह साल 2014-15 में 22.71 लाख रुपये हो गई थी. इसके विपरीत उनके पति की आय गिरकर इस साल 4.55 लाख रुपये पर आ गई थी.

वेतन और भत्ते करीब 4 लाख

रेखा आर्य उत्तराखंड सरकार में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हैं और उन्हें इसके लिए हर महीने करीब चार लाख रुपये मिलते हैं.

राज्य मंत्री के रूप में रेखा आर्य का बेसिक वेतन 84000 रुपये है. इसके अलावा उन्हें निर्वाचन भत्ते के रूप में डेढ़ लाख रुपये, अखबार के लिए 500 रुपये, सचिवालय भत्ते के रूप में 12000 रुपये, दैनिक भत्ते के रूप में 3000 रुपये (प्रतिदिन) और पॉकेट मनी के लिए 60000 रुपये मासिक मिलते हैं.

ट्रेवल अलाउंस और चिकित्सा प्रतिपूर्ति (स्वयं और आश्रित) जितना खर्च हो उतना मिलता है. अगर घर में वह चौकीदार, माली, सफ़ाईवाला किसी को रखती हैं तो उसके लिए अधिकतम 5000 रुपये मिलते हैं, लेकिन इसके लिए क्लेम करना पड़ता है.

अगर रेखा आर्य घर में नौकर के लिए क्लेम करती हैं तो उन्हें हर महीने कुल मिलाकर 4,01,500 रुपये मिलते हैं वरना इससे 5000 रुपये कम.

यह भी बता दें कि सभी मंत्रियों का इनकम टैक्स सरकार भरती है और अगर किसी के पास सीयूजी फ़ोन है तो उसका बिल भी सरकार भरती है. कैबिनेट मंत्रियों का बेसिक वेतन राज्य मंत्री से 6,000 रुपये ज़्यादा यानी कि 90,000 रुपये होता है, बाकी के सभी भत्ते समान रहते हैं.

इन्हें कम मिलता है या ज़्यादा?

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं जो काम करती हैं उसके लिए उन्हें मिलने वाले पैसे बहुत हैं, मंत्री महोदया यह तो कह सकती हैं लेकिन करदाताओं के पैसे से जो वेतन-भत्ते उन्हें मिलते हैं क्या कभी इनके कम-ज़्यादा होने पर भी रोशनी डालेंगीं? दुर्भाग्य से नेताओं को मिलने वाले पैसे पर चुनाव में सवाल भी नहीं पूछे जाते और उन्हें वोट ऐसी चीज़ों के लिए मिलते हैं जिनका अक्सर उनसे लेना-देना नहीं होता.

ये भी देखें: 

एक दिन हमारा काम करके दिखा दें मंत्री रेखा आर्य: आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की चुनौती

धरने के 40वें दिन आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का महिला बाल विकास मंत्री के लिए बुद्धि-शुद्धि यज्ञ

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज