Home /News /uttarakhand /

mob burnt caged leopard alive assuming maneater forest department registers case against 150 villagers

बर्बरता : भीड़ ने पिंजरे में फंसे तेंदुए को आदमखोर मानकर ज़िंदा जलाया, 150 लोगों पर केस दर्ज

पौड़ी में ग्रामीणों ने गुस्से में एक तेंदुए को जिंदा जला दिया.

पौड़ी में ग्रामीणों ने गुस्से में एक तेंदुए को जिंदा जला दिया.

Wildlife : उत्तराखंड में वन्यजीवों के साथ क्रूरता का एक सनसनीखेज़ मामला सामने आया है. वन विभाग के अफसर भारी भीड़ के सामने लाचार दिखे और पिंजरे में फंसे तेंदुए को बचा नहीं पाए. लोगों ने पेट्रोल डालकर उसे फूंक डाला. ऐसी एक घटना 10 साल पहले भी हुई थी. देखें पूरी रिपोर्ट.

अधिक पढ़ें ...

देहरादून. उत्तराखंड के वन विभाग ने एक ग्राम प्रधान और 149 अन्य ग्रामीणों के खिलाफ वन्यजीव संरक्षण एक्ट व अन्य कानूनों के तहत एफआईआर दर्ज की क्योंकि एक बड़ी भीड़ ने सात साल के तेंदुए को वन विभाग के अफसरों की मौजूदगी में ज़िंदा जलाया था. पौड़ी गढ़वाल के इस मामले में बड़ी कार्रवाई हुई और तमाम ग्रामीणों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया. अधिकारियों के मुताबिक इसी महीने एक महिला को शिकार बनाने वाले तेंदुए को लोगों ने आदमखोर मानकर गुस्से में फूंक दिया था.

बीते मंगलवार को हुई इस हिंसक घटना के बारे में अभी यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि ग्रामीणों ने जिस तेंदुए को बेरहमी से मारा, वह हमलावर आदमखोर ही था या कोई और. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक ज़िला वन अधिकारी मुकेश शर्मा ने कहा, 47 वर्षीय सुषमा देवी सपलोड़ी गांव में 15 मई को एक तेंदुए का शिकार हुई थी. इसके बाद वन विभाग ने प्रभावित क्षेत्र में तेंदुए को पकड़ने के लिए दो पिंजरे भी रखे थे.

शर्मा के बयान के अनुसार, ‘मंगलवार सुबह 5.20 बजे सूचना थी कि एक तेंदुआ पिंजरे में फंसा. वन विभाग के अफसर मौके पर पहुंचे तो वहां भीड़ गुस्से में थी. ग्राम प्रधान के साथ ही सपलोड़ी के साथ ही और तीन चार गांवों के लोगों ने पिंजरे में पेट्रोल छिड़ककर सूखी घास फेंककर आग लगा दी.’ शर्मा का कहना है कि यह वही हमलावर तेंदुआ था, जिस पर ग्रामीण नाराज़ थे, यह अभी पुष्ट नहीं है.

पहले भी हो चुकी है ऐसी बर्बरता
इसी तरह की एक घटना 2011 में भी हुई थी. तब भी पौड़ी ज़िले के ही धमधार गांव में एक तेंदुए को वन और पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में ही ज़िंदा जला दिया गया था. उस मामले में भी एक केस दर्ज हुआ था लेकिन बाद में वापस ले लिया गया था. ज़्यादातर ऐसा होता है कि आदमखोर हो जाने वाले जंगली जानवरों के लिए वन विभाग पेशेवर शिकारियों की मदद लेता है.

इस साल भी टिहरी ज़िले में एक लड़के को शिकार बनाने वाले एक तेंदुए के शिकार के लिए वन विभाग ने शिकारी हायर किए थे, जिन्होंने आदमखोर को निशाना बनाया था. एक अनुमान के मुताबिक इस साल अब तक उत्तराखंड में तेंदुए के हमलों में करीब एक दर्जन लोग मारे जा चुके हैं.

Tags: Leopard, Uttarakhand Forest Department, Wildlife news in hindi

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर