उत्तराखंड से विदा हुआ मॉनसून, इस साल 20 फ़ीसदी कम हुई बारिश

मौसम विभाग की तरफ़ से पूरे उत्तराखंड से मॉनसून की विदाई की आधिकारिक घोषणा कर दी गई.
मौसम विभाग की तरफ़ से पूरे उत्तराखंड से मॉनसून की विदाई की आधिकारिक घोषणा कर दी गई.

मौसम विभाग के अनुसार इस साल मॉनसून सीजन में अच्छी बारिश की उम्मीद थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड से इस साल बुधवार यानी 30 सितंबर को मॉनसून की विदाई हो गई. मौसम विभाग की तरफ़ से पूरे उत्तराखंड से मॉनसून की विदाई की आधिकारिक घोषणा कर दी गई. मौसम विज्ञान केंद्र, देहरादून के निदेशक विक्रम सिंह के अनुसार दक्षिण पश्चिम मानसून की वापसी लखीमपुर खीरी, शाहजहांपुर, अलबर,  नागौर के रास्ते हुई है.  सिंह बताते हैं कि उत्तराखंड में मॉनसून सीज़न में सामान्य से 20 फ़ीसदी कम बारिश हुई है.  अल्मोड़ा, चंपावत, देहरादून, पौड़ी गढ़वाल, टिहरी, नैनीताल, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी में सामान्य से कम बारिश ही दर्ज की गई है.

कहां कितनी बारिश

मौसम विज्ञान केंद्र, देहरादून के निदेशक विक्रम सिंह के अनुसार इस साल अल्मोड़ा में सामान्य से 29 फ़ीसदी कम, चंपावत में 52 फ़ीसदी कम, देहरादून में 26 फ़ीसदी कम, पौड़ी गढ़वाल में 48 फ़ीसदी कम, टिहरी गढ़वाल में 29 फ़ीसदी कम, नैनीताल में 33 फ़ीसदी कम, रुद्रप्रयाग में 34 फ़ीसदी कम, उत्तरकाशी में 8 फ़ीसदी कम, ऊधमसिंह नगर में 3 फ़ीसदी कम और हरिद्वार में 18 फ़ीसदी कम बारिश दर्ज हुई है.



पिथौरागढ़ और चमोली ऐसे ज़िले रहे जहां इस साल सामान्य बारिश दर्ज हुई है. पूरे प्रदेश में बागेश्वर ऐसा ज़िला है जिसमें सामान्य से अधिक बारिश हुई है. मौसम विभाग के अनुसार इस साल बागेश्वर में सामान्य के मुकाबले 136 प्रतिशत बारिश हुई है.

इस साल पूरे मॉनसून सीजन में भले ही बारिश से नुकसान की खबरें सामने आईं लेकिन उत्तराखंड में 942.7 मिमी बारिश हुई जो कि सामान्य से 20 फ़ीसदी कम रही. मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह ने बताया कि इस साल मॉनसून सीजन में अच्छी बारिश की उम्मीद थी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज