Lockdown के बीच दिल्ली से 67000 प्रवासी लौटे उत्तराखंड, 2.5 लाख लोगों ने किया था आवेदन
Dehradun News in Hindi

Lockdown के बीच दिल्ली से 67000 प्रवासी लौटे उत्तराखंड, 2.5 लाख लोगों ने किया था आवेदन
दिल्ली से 67 हजार लोग लॉकडाउन के बीच उत्तराखंड लौटकर आए हैं.

Lockdown के दौरान बाहरी राज्यों में रहने वाले 2.5 लाख प्रवासियों ने उत्तराखंड आने के लिए आवेदन किया था. इनमें से 1.81 लाख लोग अब तक लौट चुके हैं.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
देहरादून. कोरोना वायरस (COVID-19) को लेकर देशभर में लागू लॉकडाउन (Lockdown) के बीच प्रवासी मजदूरों और कामगारों का अपने घरों की तरफ लौटना जारी है. देश के अलग-अलग शहरों में रह रहे उत्तराखंड (Uttarakhand) के प्रवासी भी बड़ी संख्या में इन दिनों अपने घर लौट रहे हैं. बाहरी राज्यों में रहने वाले 2.5 लाख प्रवासियों ने उत्तराखंड आने के लिए आवेदन किया था. इनमें से 1.81 लाख लोग अब तक लौट चुके हैं. गौर करने वाली बात यह है कि इन 1.81 लाख लोगों में से 67 हजार से ज्यादा दिल्ली में रहने वाले प्रवासी हैं.

अगले कुछ दिनों में हजारों और प्रवासी कामगार व मजदूर (Migrant laborer) उत्तराखंड लौटने वाले हैं. प्रदेश की त्रिवेंद्र सिंह रावत (CM Trivendra Singh Rawat) सरकार ने इन प्रवासियों की तादाद को देखते हुए अलग-अलग जिलों में क्वारंटाइन सेंटर बनाए हैं, ताकि बाहर से आने वाले प्रवासियों की वजह से कोरोना वायरस का संक्रमण न फैले. हालांकि कई जगहों से ऐसी भी खबरें आ रही हैं कि प्रशासन इन प्रवासियों के ठहरने को लेकर समुचित इंतजाम नहीं कर पा रहा है.

सरकार ने लॉकडाउन 5 का किया समर्थन



प्रवासी कामगारों और मजदूरों के लौटने के बीच 1 जून से देशभर में लॉकडाउन के अगले चरण के लागू होने की चर्चाएं भी शुरू हो गई हैं. लॉकडाउन 4.0 की अवधि रविवार 31 मई को खत्म हो रही है. ऐसे में कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए कई राज्यों की सरकारों ने केंद्र से कहा है कि लॉकडाउन को आगे बढ़ाया जाना चाहिए. दिल्ली समेत कई राज्यों के अलावा उत्तराखंड सरकार ने भी राज्य में संक्रमण की दर बढ़ती देख लॉकडाउन को बढ़ाने का समर्थन किया है. हालांकि कई अन्य राज्यों की तरह उत्तराखंड सरकार भी लॉकडाउन में कुछ छूट देने पर राजी है, लेकिन संक्रमण न फैले इसको लेकर गंभीर है. यही वजह है कि सरकार ने इसका समर्थन किया है.



सरकार ने शुरू की प्रवासियों के लिए योजनाएं

लॉकडाउन के बीच अन्य राज्यों से लौट रहे प्रवासियों को यहीं रोकने और उन्हें स्वरोजगार से जोड़ने के लिए त्रिवेंद्र रावत सरकार भी गंभीर है. प्रदेश सरकार ने इसके लिए मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना शुरू की है. इसके तहत युवाओं को पशुपालन और दूध उत्पादन जैसे उद्यमों से जोड़ने की योजना है. बताया जा रहा है कि लॉकडाउन की वजह से करीब 5 लाख प्रवासी उत्तराखंड लौट सकते हैं. एक बार लौटने के बाद ये प्रवासी दोबारा न लौटें, इसके लिए राज्य सरकार इन्हें रोजगार और स्वरोजगार जैसे उपायों से जोड़ना चाहती है. यही वजह है कि प्रदेश में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना की शुरुआत की गई है.

 

ये भी पढ़ें-

उत्तराखंड: कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में बाघिन और तेंदुए की मौत, मचा हड़कंप

कोरोना संकट में फंसे उत्तराखंड को कैसे निकालेगी सरकार, 5 प्वाइंट्स में जानें
First published: May 30, 2020, 6:51 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading