राजाजी टाइगर रिजर्व के मोतीचूर में लाए जाएंगे 5 बाघ, दूर होगा बाघिनों का अकेलापन

वेस्टर्न पार्ट के मोतीचूर रेंज में सालों से दो बाघिन हैं और बाघों के अभाव में इनके अस्तित्व पर भी संकट मंडरा रहा है. इसके लिए राष्ट्रीय बाघ संरक्षण की मदद से करीब तीन करोड़ की लागत से यहां पांच बाघों को लाने के लिए योजना पर काम शुरू हो गया है.

Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: December 1, 2018, 1:36 PM IST
राजाजी टाइगर रिजर्व के मोतीचूर में लाए जाएंगे 5 बाघ, दूर होगा बाघिनों का अकेलापन
राजाजी टाइगर रिजर्व के वेस्टर्न पार्ट के मोतीचूर रेंज में सालों से दो बाघिन हैं
Sunil Navprabhat
Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: December 1, 2018, 1:36 PM IST
राजाजी टाइगर रिजर्व के वेस्टर्न पार्ट मोतीचूर में दो बाघिनों का अकेलापन अब जल्द दूर होने वाला है. यहां बाहर से पांच बाघों को लाने की तैयारियां शुरू हो गई हैं. इसके लिए बाकायदा राजाजी टाइगर रिजर्व और भारतीय वन्य जीव संस्थान के वैज्ञानिकों की टीम ने यहां डेरा डाल दिया है.

राजाजी टाइगर रिजर्व में वर्तमान में 34 बाघ मौजूद हैं. इनमें से 28 बाघ अकेले राजाजी की चीला, गोहरी और रवासन रेंज में हैं. वहीं चार बाघ पार्क के बफर जोन श्यामपुर रेंज में हैं. लेकिन अवैध शिकार, रेलवे ट्रैक, राष्ट्रीय राजमार्ग और घनी आबादी जैसे कारणों के चलते पार्क के वेस्टर्न पार्ट में एक भी बाघ नहीं है. वेस्टर्न पार्ट के मोतीचूर रेंज में सालों से दो बाघिन हैं और बाघों के अभाव में इनके अस्तित्व पर भी संकट मंडरा रहा है. इसके लिए राष्ट्रीय बाघ संरक्षण की मदद से करीब तीन करोड़ की लागत से यहां पांच बाघों को लाने के लिए योजना पर काम शुरू हो गया है. पहले चरण में दोनों बाघिनों को रेडियो कॉलर लगाया जाना है.

भारतीय वन्य जीव संस्थान के एक्सपर्ट वैज्ञानिकों ने इसके लिए मोतीचूर रेंज में डेरा डाला हुआ है. मध्य प्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व में टाइगर ट्रांसलोकेशन के जरिए एक बाघ से चालीस बाघ तक संख्या पहुंचाकर सफलता का इतिहास रचने वाले वैज्ञानिक डॉ. के. रमेश इसकी अगुवाई कर रहे हैं.

बहरहाल, राजाजी टाइगर रिजर्व टाइगर ट्रांसलोकेशन का प्रयोग देश में तीसरी बार होने जा रहा है. इससे पहले 2008 में राजस्थान के सरिस्का और 2009 में मध्य प्रदेश के पन्ना नेशनल पार्क में बाघों का सफलतापूर्वक ट्रांसलोकेशन वन्य जीव के क्षेत्र में पूरी दुनिया के लिए उदाहरण पेश कर चुका है.

ये भी पढ़ें - राम मंदिर निर्माण के लिए दिल्ली मार्च करेंगी मुस्लिम महिलाएं और नौजवान

ये भी पढ़ें - बोर्ड परीक्षा: सीबीएसई के क्षेत्रीय निदेशक ने विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करने की दी सलाह

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 1, 2018, 9:59 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...