Home /News /uttarakhand /

राजाजी टाइगर रिजर्व के मोतीचूर में लाए जाएंगे 5 बाघ, दूर होगा बाघिनों का अकेलापन

राजाजी टाइगर रिजर्व के मोतीचूर में लाए जाएंगे 5 बाघ, दूर होगा बाघिनों का अकेलापन

राजाजी टाइगर रिजर्व के वेस्टर्न पार्ट के मोतीचूर रेंज में सालों से दो बाघिन हैं

राजाजी टाइगर रिजर्व के वेस्टर्न पार्ट के मोतीचूर रेंज में सालों से दो बाघिन हैं

वेस्टर्न पार्ट के मोतीचूर रेंज में सालों से दो बाघिन हैं और बाघों के अभाव में इनके अस्तित्व पर भी संकट मंडरा रहा है. इसके लिए राष्ट्रीय बाघ संरक्षण की मदद से करीब तीन करोड़ की लागत से यहां पांच बाघों को लाने के लिए योजना पर काम शुरू हो गया है.

अधिक पढ़ें ...
    राजाजी टाइगर रिजर्व के वेस्टर्न पार्ट मोतीचूर में दो बाघिनों का अकेलापन अब जल्द दूर होने वाला है. यहां बाहर से पांच बाघों को लाने की तैयारियां शुरू हो गई हैं. इसके लिए बाकायदा राजाजी टाइगर रिजर्व और भारतीय वन्य जीव संस्थान के वैज्ञानिकों की टीम ने यहां डेरा डाल दिया है.

    राजाजी टाइगर रिजर्व में वर्तमान में 34 बाघ मौजूद हैं. इनमें से 28 बाघ अकेले राजाजी की चीला, गोहरी और रवासन रेंज में हैं. वहीं चार बाघ पार्क के बफर जोन श्यामपुर रेंज में हैं. लेकिन अवैध शिकार, रेलवे ट्रैक, राष्ट्रीय राजमार्ग और घनी आबादी जैसे कारणों के चलते पार्क के वेस्टर्न पार्ट में एक भी बाघ नहीं है. वेस्टर्न पार्ट के मोतीचूर रेंज में सालों से दो बाघिन हैं और बाघों के अभाव में इनके अस्तित्व पर भी संकट मंडरा रहा है. इसके लिए राष्ट्रीय बाघ संरक्षण की मदद से करीब तीन करोड़ की लागत से यहां पांच बाघों को लाने के लिए योजना पर काम शुरू हो गया है. पहले चरण में दोनों बाघिनों को रेडियो कॉलर लगाया जाना है.

    भारतीय वन्य जीव संस्थान के एक्सपर्ट वैज्ञानिकों ने इसके लिए मोतीचूर रेंज में डेरा डाला हुआ है. मध्य प्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व में टाइगर ट्रांसलोकेशन के जरिए एक बाघ से चालीस बाघ तक संख्या पहुंचाकर सफलता का इतिहास रचने वाले वैज्ञानिक डॉ. के. रमेश इसकी अगुवाई कर रहे हैं.

    बहरहाल, राजाजी टाइगर रिजर्व टाइगर ट्रांसलोकेशन का प्रयोग देश में तीसरी बार होने जा रहा है. इससे पहले 2008 में राजस्थान के सरिस्का और 2009 में मध्य प्रदेश के पन्ना नेशनल पार्क में बाघों का सफलतापूर्वक ट्रांसलोकेशन वन्य जीव के क्षेत्र में पूरी दुनिया के लिए उदाहरण पेश कर चुका है.

    ये भी पढ़ें - राम मंदिर निर्माण के लिए दिल्ली मार्च करेंगी मुस्लिम महिलाएं और नौजवान

    ये भी पढ़ें - बोर्ड परीक्षा: सीबीएसई के क्षेत्रीय निदेशक ने विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करने की दी सलाह

    Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

    Tags: Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर