लाइव टीवी

मसूरी जूता प्रकरणः नगर कोतवाल की भूमिका की होगी जांच... SSP के आश्वासन पर नगर पालिका कर्मचारियों की हड़ताल ख़त्म

Sunil Silwal | News18 Uttarakhand
Updated: October 25, 2019, 11:44 AM IST
मसूरी जूता प्रकरणः नगर कोतवाल की भूमिका की होगी जांच... SSP के आश्वासन पर नगर पालिका कर्मचारियों की हड़ताल ख़त्म
मसूरी नगर पालिका कर्मचारी संघ की हड़ताल तीसरे दिन खत्म हो गई. एसएसपी ने नगर कोतवाल भावना कैंथोला की भूमिका की जांच 15 दिन में करने का आश्वासन दिया है.

मसूरी नगर पालिका (Mussoorie Municipal Council) अध्यक्ष अनुज गुप्ता (Anuj Gupta) और व्यापार संघ मसूरी (traders Association Mussoorie) पुलिस की भूमिका को लेकर देहरादून के एसएसपी को शिकायत की.

  • Share this:
मसूरी. नगर पालिका कर्मचारी संघ (Mussoorie) की हड़ताल तीसरे दिन खत्म हो गई. हालांकि हड़ताल इस शर्त के साथ ख़त्म की गई है कि पालिका अध्यक्ष से किया गया वादा 15 दिन में पूरा किया जाएगा. बता दें कि एसएसपी ने नगर कोतवाल भावना कैंथोला की भूमिका की जांच 15 दिन में करने का आश्वासन दिया है. कर्मचारी इस बात से भी संतुष्ट दिखे कि नामजद एफ़आईआर लिखवाने के पांचवें दिन आखिरकार पुलिस ने आरोपियों को गिरफ़्तार कर लिया.

चोरी और सीनाज़ोरी

बता दें कि मसूरी की माल रोड की पटरी पर पिछले डेढ़-दो साल से कुछ लोग दुकानें लगा रहे हैं. माल रोड पर चलने-फिरने तक में दिक्कत होने लगी तो स्थानी व्यापारियों ने ऐतराज़ करना शुरु किया जिसके बाद ये अतिक्रमणकारी कई बार व्यापारियों और पर्यटकों से झगड़ चुके हैं.

ये लोग मसूरी में ही स्थाई ठिकाने देने की मांग को लेकर शनिवार को नगर पालिका अध्यक्ष से मिलने गए तो न सिर्फ़ गाली-गलौच शुरु की बल्कि पालिका अध्यक्ष पर जूता भी फेंककर मारा. इसके बाद नगर पालिका कर्मचारियों ने कुछ लोगों के ख़िलाफ़ नामजद एफ़आईआर दर्ज करवाई. दो दिन तक कोई कार्रवाई न होने पर सोमवार से पालिका कर्मचारी हड़ताल पर चले गए.

मसूरी बंद के बाद गिरफ़्तारी  

मंगलवार को जूता फेंकने के नामजद अभियुक्त ने मसूरी के किसी सुनसान इलाक़े से फ़ेसबुक लाइव कर नगर पालिका अध्यक्ष पर उत्पीड़न का आरोप लगाया और फिर कोई ज़हरीला कैमिकल पी लिया. फिर वह युवक मसूरी कोतवाली पहुंचा जहां से उसे अस्पताल में भर्ती करवाकर इलाज करवाया गया. इस बीच फ़ेसबुक लाइव का वीडियो वायरल हो गया.

mussoorie, encroachment poison, नगर पालिका अध्यक्ष पर जूता फेंकने के नामजद अभियुक्त ने फ़ेसबुक लाइव में कोई ज़हरीला पदार्थ पी लिया था. उसका मसूरी अस्पताल में इलाज किया गया.
नगर पालिका अध्यक्ष पर जूता फेंकने के नामजद अभियुक्त ने फ़ेसबुक लाइव में कोई ज़हरीला पदार्थ पी लिया था. उसका मसूरी अस्पताल में इलाज किया गया.

Loading...

 

मंगलवार तक नामजद अभियुक्तों के कोई कार्रवाई न करने और ज़हरीला पदार्थ पीने का वीडियो बनाने के बाद मसूरी व्यापार संघ ने हड़ताल का ऐलान कर दिया. बुधवार को हुई हड़ताल में 27 संगठन शामिल हुए और मसूरी को पूरी तरह बंद कर दिया गया. इसके बाद मसूरी पुलिस अभियुक्तों को गिरफ़्तार किया.

पुलिस की भूमिका पर सवाल

आज नगर पालिका अध्यक्ष अनुज गुप्ता और व्यापार संघ मसूरी पुलिस की भूमिका को लेकर देहरादून के एसएसपी को शिकायत की. उन्होंने कहा कि शनिवार को नामजद शिकायत के बावजूद पुलिस ने कुछ नहीं किया. जब भी नगर पालिका ने माल रोड से अतिक्रमणकारियों को हटाने की कोशिश करती है ये लोग हिंसा पर उतारू हो जाते हैं और पुलिस कुछ नहीं करती.

गुप्ता ने कहा कि एसएसपी ने उनकी बात बहुत ध्यान से सुनी है. इस मामले में बहुत से बातें एएसपी को पता ही नहीं थीं. एसएसपी ने मसूरी नगर पालिका को आश्वासन दिया है कि वह पुलिस की भूमिका निष्पक्ष जांच करवाएंगे. इसके लिए एसएसपी ने 15 दिन का समय मांगा है. एसएसपी के आश्वासन पर कर्मचारी संघ ने आंदोलन समाप्त कर दिया.

mussoorie, encroachment protest, पुलिस के इस मामले में कोई कार्रवाई न करने से गुस्साए नगर पालिका कर्मचारी सोमवार से हड़ताल पर थे.
पुलिस के इस मामले में कोई कार्रवाई न करने से गुस्साए नगर पालिका कर्मचारी सोमवार से हड़ताल पर थे.


पहले भी हुई है कैंथोला पर कार्रवाई

दरअसल शहर कोतवाल भावना कैंथोला से पालिका कर्मचारियों की शिकायत पुरानी है. इसी साल जून में हरियाणा से आए कुछ युवकों ने नशे में धुत्त होकर माल रोड में जबरन गाड़ी घुसाने की कोशिश की थी और पालिका कर्मचारियों से गाली-गलौच, मारपीट की थी. इसके बाद दुकानदारों और पालिकाकर्मियों ने इन युवकों की धुनाई कर दी थी.

भावना कैंथोला ने इस घटना का वीडियो देखने के बाद स्वतः संज्ञान लेते हुए पालिकाकर्मियों को ही हिरासत में ले लिया था. पालिकाकर्मी और दुकानदार एकतरफ़ा कार्रवाई का आरोप लगाते हुए हड़ताल पर चले गए थे और शहर कोतवाल को 3 दिन की फ़ोर्स लीव पर भेजे जाने के बाद ही आंदोलन ख़त्म किया गया था.

ये भी देखेें: 

मसूरी नगर पालिका अध्यक्ष पर हमले के विरोध में हड़ताल, आरोपी ने ज़हर पीते वीडियो किया सर्कुलेट 

OPINION: कौन हैं उत्तराखंड के बाबा सनकीदास, जो करवा रहे हैं सरकारी ज़मीनों पर कब्ज़े 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 2:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...