भारत-नेपाल सीमा विवादः उत्तराखंड बॉर्डर पर 10 चौकियां बनाने की तैयारी में पड़ोसी देश

Administration alert, Nepal in Uttarakhand after attacks on Indians, Indo-Nepal border, नेपाल बार्डर पर भारतीयों पर हमला, एक की मौत, उत्तराखंड, इंडो नेपाल बॉर्डर, अलर्ट
Administration alert, Nepal in Uttarakhand after attacks on Indians, Indo-Nepal border, नेपाल बार्डर पर भारतीयों पर हमला, एक की मौत, उत्तराखंड, इंडो नेपाल बॉर्डर, अलर्ट

भारत-नेपाल सीमा (Indo-Nepal Border) पर जारी तनाव के बीच पड़ोसी देश ने उत्तराखंड समेत देश के अन्य राज्यों से सटी सीमाओं पर 114 सशस्त्र सीमा चौकियां (Armed Border Outposts) बनाने की तैयारी शुरू कर दी है.

  • Share this:
देहरादून. लिपुलेख पास (Lipulekh Pass) तक सड़क बनने के बाद उपजा भारत-नेपाल सीमा (Nepal-India Border) विवाद बढ़ता ही जा रहा है. सीमा पर तनाव के बीच अब नेपाल द्वारा उत्तराखंड (Uttarakhand) और देश के अन्य राज्यों से सटी सीमाओं के पास सशस्त्र चौकियां बनाए जाने की तैयारी की जा रही है. आपको बता दें कि भारत के साथ नेपाल करीब 1700 किलोमीटर की सीमा साझा करता है. इसमें से 270 किलोमीटर का दायरा उत्तराखंड से लगा हुआ है. नेपाल सीमा पर 114 सशस्त्र चौकियां (Border Outposts) बनाने की तैयारी कर रहा है, जिसमें से 10 उत्तराखंड में बनाने की तैयारी की जा रही है.

उत्तराखंड में यहां चौकियां बनाएगा नेपाल

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, पिथौरागढ़ के पास सीमा क्षेत्र में नेपाल ऐसी 6 चौकियां बनाने की तैयारी कर रहा है. इनमें से एक चौकी लिपुलेख पास के करीब है, जिन पर नेपाल अपना दावा ठोक रहा है. वहीं, एक चौकी पहले ही लिपुलेख दर्रे के पास छांगरू में स्थापित की गई है, जबकि तीन अन्य झूलाघाट, लाली और पंचेश्वर में स्थापित किए जाने की प्रक्रिया में हैं.



उत्तराखंड में पिथौरागढ़ के अलावा, उत्तराखंड में चंपावत और उधम सिंह नगर जैसे जिले नेपाल के साथ अपनी सीमाओं को साझा करते हैं. अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक कुछ बीओपी इन जिलों से सटे सीमा के नेपाली हिस्से में आएंगे.
एक बीओपी में 35 जवानों की तैनाती

अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, नेपाल द्वारा बनाई जा रही हर बीओपी में एक निरीक्षक रैंक के अधिकारी की कमान में 35 सशस्त्र पुलिस कर्मी होंगे. इनका काम सीमा के साथ-साथ सीमा शुल्क कार्यालय की सुरक्षा और वन-संबंधी अपराध की जांच करना शामिल होगा. सूत्रों के अनुसार नेपाल ने भारतीय बॉर्डर वर्तमान में अपने सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) को सौंप रखा है. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक नेपाल सरकार ने कुछ समय पहले यह निर्णय लिया है कि एसएसबी की तर्ज पर सशस्त्र पुलिस गार्ड को सीमा पर तैनात किया जाएगा.

राजनाथ सिंह ने किया था सड़क का उद्घाटन

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 8 मई को 80 किलोमीटर लंबी सड़क का उद्घाटन किया था. इसके बाद से ही पिथौरागढ़ से सटे सीमावर्ती क्षेत्रों में नेपाल के विभिन्न संगठन विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं. इससे सीमा पर तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है. गौरतलब है कि लिपुलेख तक बनी सड़क से अब कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं को आसानी होगी. वर्षों तक दुर्गम रहा यह मार्ग अब मोटरेबल हो गया है. यानी इस सड़क से अब वाहनों के जरिए भी श्रद्धालु आ-जा सकेंगे.

ये भी पढ़ें:- 

लिव इन पार्टनर ने की युवती की हत्‍या, लाश को बोरे और सूटकेस में छिपाकर फरार

UK Weather Alert: आज हल्की बारिश से राहत के आसार, तापमान रहेगा 40 डिग्री पार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज