उत्तराखंड में सभी जिलों में रात 9 से सुबह 5 बजे तक Night Curfew, देहरादून में वीकेंड-कर्फ्यू

उत्तराखंड के सभी जिलों में नाइट कर्फ्यू की अवधि बढ़ाई गई. (सांकेतिक फोटो)

उत्तराखंड के सभी जिलों में नाइट कर्फ्यू की अवधि बढ़ाई गई. (सांकेतिक फोटो)

Uttarakhand COVID-19 Update: उत्तराखंड में कोरोना वायरस संक्रमण के तेजी से बढ़ने के मद्देनजर तीरथ रावत सरकार ने जारी की नई SOP. राजधानी देहरादून में वीकेंड कर्फ्यू लगाने का आदेश.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए सरकार ने पाबंदियों को और सख्त कर दिया है. इसके मद्देनजर तीरथ सिंह रावत सरकार ने पूरे प्रदेश में नाइट कर्फ्यू की अवधि बढ़ा दी है. कोरोना की रोकथाम के लिए जारी नई SOP के तहत अब प्रदेश के सभी जिलों में रात 9 बजे से लेकर सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा. वहीं, राजधानी देहरादून में कोरोना संक्रमण के सबसे अधिक प्रभाव को देखते हुए वीकेंड कर्फ्यू लागू किया गया है. यानी देहरादून में शनिवार-रविवार को कर्फ्यू रहेगा. सरकार का यह आदेश आज से ही प्रभावी कर दिया गया है.

कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए उत्तराखंड सरकार ने की और आदेश भी जारी किए हैं. इसके तहत प्रदेश में स्वीमिंग पुल, स्पा सेंटर और कोचिंग संस्थान पूरी तरह बंद रहेंगे. मुख्य सचिव ओम प्रकाश द्वारा शनिवार शाम को जारी किए गए आदेश के अनुसार ये सभी नियम इस महीने के अंत तक यानी 30 अप्रैल तक प्रभावी माने जाएंगे. कोविड की स्थिति को देखते हुए इसके बाद अगला निर्णय लिया जाएगा.

आपको बता दें कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकार इससे पहले नर्सिंग ऑफिसर, एलटी सहायक अघ्यापक पदों पर होने जा रही परीक्षा स्थगित कर चुकी है. प्रदेश के तीन जिलों देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल में स्कूल 30 अप्रैल तक बंद किए गए हैं. इसके अलावा सार्वजनिक परिवहन में 50 फीसदी क्षमता के साथ ही अनुमति दी जा रही है. सार्वजनिक समारोहों में 200 व्यक्तियों को ही शामिल होने की छूट दी गई है. राज्य से लगने वाले सभी बॉर्डर पर यात्रियों को बिना कोविड नेगेटिव रिपोर्ट के एंट्री नहीं दी जा रही है. जिनके पास कोविड नेगेटिव रिपोर्ट नहीं है, उनके मौके पर रैपिड एंटीजन टेस्ट किए जा रहे हैं.

उत्तराखंड में कोविड संक्रमण बहुत तेजी के साथ सामने आ रहा है. शुक्रवार को अब तक के सबसे अधिक 2402 मामले सामने आने के बाद हड़कंप की स्थिति है. स्थिति की गंभीरता को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग अब एक बार फिर से अपने सभी कोविड केयर सेंटर और डेडिकेटेड हॉस्पिटल को एक्टिवेट करने में जुट गया है. डीजी हेल्थ डॉ. तृप्ति बहुगुणा के अनुसार विभाग के पास अभी 724 वेंटिलेटर, 3317 ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड और 815 आईसीयू बेड मौजूद हैं. जो फंक्शनल स्थिति में है. जरूरत पड़ने पर इनकी भी संख्या बढ़ाई जाएगी. (भाषा से भी इनपुट)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज