लाइव टीवी

उत्तराखंड के लिए मंगलवार का दिन रहा खास, नहीं मिला एक भी कोरोना संक्रमित
Dehradun News in Hindi

News18 Uttarakhand
Updated: April 8, 2020, 1:33 AM IST
उत्तराखंड के लिए मंगलवार का दिन रहा खास, नहीं मिला एक भी कोरोना संक्रमित
राज्य में 15 मार्च को संक्रमण का पहला मामला सामने आया था.

कोरोना के बढ़ते खतरों की खबर के बीच उत्तराखंड (Uttrakhand) के लिए मंगलवार का दिन खास रहा. यहां इस दिन कोरोना का कोई भी नया मरीज नहीं मिला.

  • Share this:
देहरादून. कोरोना के बढ़ते खतरों की खबर के बीच उत्तराखंड (Uttrakhand) के लिए मंगलवार का दिन खास रहा. यहां इस दिन कोरोना (Covid-19) का कोई भी नया मरीज नहीं मिला. प्रदेश के हेल्थ डिपार्टमेंट ने यह जानकारी दी. जानकारी के अनुसार, मंगलवार शाम 6 बजे तक यहां 31 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित मिले हैं. लेकिन इस दिन इसका कोई भी नया मामला सामने नहीं आया. बता दें, राज्य में 15 मार्च को संक्रमण का पहला मामला सामने आया था और एक अप्रैल तक केवल सात लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके थे. इसके बाद राज्य सरकार लगातार सतर्कता बरत रही है. वहीं हर जिलों में इसकी रोकथाम के लिए जरूरी इंतजाम किए गये हैं. ताकि कोरोना के संकट से निपटा जा सके.

पर्यटन पर आश्रित राज्य के लिए है संकट
धार्मिक तीर्थ यात्री और पर्यटक इस प्रदेश में लाखों की संख्या में हर महीने यात्रा करते हैं. लेकिन लॉकडाउन लागू होने के कारण यहां के पर्यटक स्थलों में विरानगी छाई हुई है. लॉकडाउन पर्यटन उद्योग पर निर्भर लोगों के लिए ये एक बड़ा संकट माना जा रहा है.





इससे पहले देश में Covid-19 का खतरा बढ़ता देख केंद्र ने पूरे देश में 21 दिनों का लॉकडाउन लागू किया था. मंगलवार को देश में कोविड-19 के मरीजों की संख्या पांच हजार से ज्यादा हो चुकी है. आधिकारिक जानकारी के अनुसार, अब तक 400 लोग ठीक हो चुके हैं. वहीं, देश में अब तक एक लाख 10 हजार के करीब लोगों की जांच हुई है.

लॉकडाउन औऱ सामाजिक दूरी रहा सकारात्मक कदम
अधिकारियों का मानना है कि लॉकडाउन और सामाजिक दूरी के लिये उठाए गए कदम काम कर रहे हैं. इस पर हुए एक अध्ययन के अनुसार, अगर लॉकडाउन या दूरी बरतने के नियमों का पालन नहीं होगा तो कोरोना वायरस का एक मरीज 30 दिन में 406 लोगों को संक्रमित कर सकता है.

लॉकडाउन बढ़ाने को लेकर न लगाएं कयास
स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कोविड-19 पर केंद्र सरकार की तरफ से दैनिक ब्रीफिंग में बताया कि एहतियाती उपाए किए जाने पर संक्रमण की आशंका इसी अवधि में प्रति मरीज महज ढाई व्यक्ति रह जाएगी. उन्होंने कहा कि सामाजिक दूरी कोविड-19 के प्रबंधन में “सामाजिक दवा” की तरह काम करती है. हालांकि वह यह बताने से बचते दिखे कि 14 अप्रैल के बाद बंद की अवधि बढ़ायी जाएगी या इसे हटाया जाएगा. उन्होंने कहा, “जो भी फैसला लिया जाएगा, उसके बारे में जानकारी दी जाएगी. जब तक आधिकारिक तौर पर कोई संवाद न हो तब तक कयासबाजी से बचें.”

जानिए क्या कह रहे हैं विशेषज्ञ और राज्य सरकारें
सरकारी सूत्रों ने हालांकि कहा कि कई विशेषज्ञ और राज्य सरकारें कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर केंद्र सरकार से 14 अप्रैल के बाद लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने का आग्रह कर रहे हैं. केंद्र सरकार भी इस दिशा में विचार कर रही है. कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए पूरे भारत में 21 दिन का लॉकडाउन है जो 25 मार्च से शुरू हुआ था. कोविड-19 के कारण 183 देशों में 75,800 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और 13.5 लाख से अधिक लोग प्रभावित हैं.

ये भी पढ़ें:

SI शाहिदा परवीन की कल होनी वाली थी शादी, लेकिन ड्यूटी के चलते टाला निकाह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 8, 2020, 1:13 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading