वैज्ञानिकों का दावा, चौराबाड़ी ग्लेशियर में बनी झील से केदार घाटी को कोई खतरा नहीं

चौराबाड़ी ग्लेशियर में एक नई झील के निर्माण से हिमालयी धाम केदारनाथ को संभावित खतरे के संबंध में मीडिया में आई खबरों का संज्ञान लेते हुए इंस्टीटयूट ने स्थिति का जायजा लेने के लिए मौके पर 4 सदस्यों का दल भेजा था.

News18 Uttarakhand
Updated: June 29, 2019, 6:47 AM IST
वैज्ञानिकों का दावा, चौराबाड़ी ग्लेशियर में बनी झील से केदार घाटी को कोई खतरा नहीं
केदारनाथ (फाइल फोटो)
News18 Uttarakhand
Updated: June 29, 2019, 6:47 AM IST
देहरादून के वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी के निदेशक कलाचंद सेन का कहना है कि केदारनाथ के पास चौराबाड़ी ग्लेशियर में एक नई झील के निर्माण से केदार धाम को कोई खतरा नहीं है. सेन ने कहा कि चौराबाड़ी ग्लेशियर में नई झील बनने से केदारनाथ को संभावित खतरे के संबंध में मीडिया में आई खबरों का संज्ञान लेते हुए इंस्टीटयूट ने स्थिति का जायजा लेने के लिए मौके पर 4 सदस्यों का दल भेजा था.

चौराबाड़ी गई टीम लौटी नहीं है, रिपोर्ट आना बाकी

सेन ने बताया कि चौराबाड़ी ग्लेशियर गई टीम अभी लौटी नहीं है. उसकी रिपोर्ट आना अभी बाकी है. टीम का नेतृत्व कर रहे डीपी डोभाल ने फोन पर बातचीत के दौरान बताया कि इस झील से मंदिर को कोई खतरा नहीं है. कलाचंद सेन ने बताया कि मंदिर से 4.5 किलोमीटर ऊपर बनी यह मौसमी झील है. इतनी उंचाई पर ऐसी झीलें बन जाना प्राकृतिक बात है. जब हिमालयी ग्लेशियर पिघलते हैं तो पानी नीचे जाने के दौरान छोटे-छोटे गड्ढों में जमा हो जाता है.

ऐसी अस्थायी झीलें वाष्पीकरण से हो जाती हैं खत्म 

इंस्टीट्यूट के निदेशक ने कहा कि इस तरह की झीलें सामान्यतः स्थायी नहीं होती हैं और वाष्पीकरण की प्रक्रिया से समाप्त होती रहती हैं. इससे आसपास के इलाकों को कोई खतरा नहीं होता है. उन्होंने बताया कि अगर जरूरी हुआ तो वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी की एक और टीम को भी मौके पर भेजा जा सकता है.

केदारनाथ धाम के पास फिर बनी खतरनाक झील

साल 2013 में आई प्राकृतिक आपदा के 6 साल बाद केदारनाथ धाम के पास एक बर्फीली झील बन जाने के कारण अधिकारी और विशेषज्ञों के माथे पर चिंता की लकीरें आ गई हैं. सेटेलाइट तस्वीरों के जरिए पता चला है कि 2013 की तबाही जैसा खतरा फिर से निकट आ रहा है.
Loading...

गौरतलब है कि उत्तराखंड में साल 2013 में आई प्राकृतिक आपदा के चलते पूरी केदारनाथ घाटी तहस-नहस हो गई थी. इस आपदा में करीब 5000 लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी. हजारों लोग विस्थापित हो गए थे. करोड़ों की संपत्ति का नुकसान हुआ था. तब विशेषज्ञों ने इस तबाही का कारण मानसून का जल्दी आ जाना और ग्लेशियरों का पिघलना बताया था.

ये भी पढ़ें-

...जब बद्रीनाथ धाम में पुजारी ने पूछ लिया PM मोदी के पिता का नाम, दिया था दिलचस्प जवाब

केदारनाथ धाम के पास फिर बनी खतरनाक झील, सेटेलाइट तस्वीर में खतरे की आहट!

केदारनाथ में पुनर्निर्माण कार्य की मॉनिटरिंग स्वयं कर रहे हैं प्रधानमंत्री
First published: June 29, 2019, 6:45 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...