अब उच्च शिक्षा मंत्री को भारत रत्न देने की मांग की कांग्रेस ने, लेकिन एक शर्त के साथ... जानिए क्या है मामला

उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धन सिंह रावत ने उत्तराखण्ड में 2 महीने के अंदर सभी यूनिवर्सिटी, कॉलेज में 100 फ़ीसदी फैकल्टी, इंस्फ़्रास्ट्क्चर और बच्चों को सभी ज़रूरी सुविधा देने का दावा किया है.

सूर्यकांत धस्माना का कहना है कि जो काम 4 साल में नहीं हो पाए, अगर मंत्री जी उन्हें 2 महीने में कर दें तो...

  • Share this:
देहरादून. देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न देने की मांग देश भर में गाहे-बगाहे उठती रहती हैं. हाल ही में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और बसपा सुप्रीमो मायावती को भारत रत्न देने की मांग की थी. अब उत्तराखंड कांग्रेस की ओर से एक और व्यक्ति के लिए भारत रत्न की मांग उठी है और आश्चर्यजनक ढंग से यह नाम है उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धन सिंह रावत का. कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने धन सिंह रावत को भारत रत्न देने की मांग की है लेकिन एक शर्त के साथ. जानिए क्या है यह मामला...

शिक्षकों की भारी कमी

उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धन सिंह रावत ने उत्तराखण्ड में 2 महीने के अंदर सभी यूनिवर्सिटी, कॉलेज में 100 फ़ीसदी फैकल्टी, इंस्फ़्रास्ट्क्चर और बच्चों को सभी ज़रूरी सुविधा देने का दावा किया है. बस इसी से  कांग्रेस को बैठे बैठाए मुद्दा मिल गया और उन्हें भारत रत्न देने की मांग होने लगी.

दरअसल उत्तराखंड की यूनिवर्सिटी, कॉलेज के बच्चों को मूलभूत सुविधाओं का इंतज़ार अब भी है. दून यूनिवर्सिटी में जहां स्थाई वीसी के लिए जद्दोजहद चल रही है, वहीं ज्यादातर कॉलेज में फैकल्टी की कमी अब भी बनी हुई है. स्टॉफ और फैकल्टी की कमी के चलते कई सबजेक्ट में रिसर्च वर्क इस साल नहीं हो पाए.

13 दिसंबर, 2020 को दून विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर अजीत कुमार का कार्यकाल पूरा गया था. शासन ने नए कुलपतियों के लिए नामों का पैनल नहीं भेजा तो आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलति प्रोफ़ेसर सुनील जोशी को दून विश्वविद्यालय का अतिरिक्त प्रभार सौंप दिया गया. उनका कहना है कि जो व्यवस्था अब तक ठीक नहीं हुई, उसे ठीक कर रहे हैं.

4 साल में नहीं हुआ, 2 महीने में हो जाएगा! 

उच्च शिक्षा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धन सिंह रावत अब सब कुछ ठीक करने के लिए 2 महीने का टारगेट लेकर चल रहे हैं. कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने इसे लेकर चुटकी ली और कहा कि जो काम 4 साल में नहीं हो पाए, अगर मंत्री जी उन्हें 2 महीने में कर दें तो उन्हें भारत रत्न मिलना चाहिए.

धस्माना कहते हैं कि उच्च शिक्षा की हालत पिछले 4 साल में खराब ही हुई है. एडेड कॉलेज से लेकर एचएनबी गढ़वाल यूनिवर्सिटी में टीचर्स की नियुक्ति नहीं हो पाई और बच्चे से लेकर टीचर्स तक परेशान हैं.

असंभव नहीं, तय है लक्ष्य पाना

इसके जवाब में धन सिंह रावत कहते हैं कि उन्हं बहुत ही खराब हालत में कॉलेज मिले. थे कांग्रेस के शासनकाल में कॉलेजों में 45% ही टीचर्स थे जबकि अब हर कॉलेज में 96% टीचर मौजूद हैं. इन्हें 100 फ़ीसदी करना ही उनका लक्ष्य है.

धन सिंह रावत दावा करते हैं कि अब तक जो काम उच्च शिक्षा विभाग ने किया है उसे देखते हुए 100 फ़ीसदी का लक्ष्य हासिल करना असंभव नहीं, बल्कि तय है.

उत्तराखंड की यूनिवर्सिटी, कॉलेजों में 2 महीनें में कितने हालात सुधारेंगे यह तो पता नहीं लेकिन कांग्रेस की भारत रत्न की मांग के बाद राजनीति ज़रूर तेज़ हो गई है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.