Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड की इस DySP और कॉन्स्टेबल ने शादी कैंसिल कर दी, क्योंकि COVID-19 से लड़ना है

उत्तराखंड की इस DySP और कॉन्स्टेबल ने शादी कैंसिल कर दी, क्योंकि COVID-19 से लड़ना है

lady constable postpone marriage, बागेश्वर पुलिस उपाधीक्षक संगीता और रुद्रप्रयाग की कांस्टेबल कविता ने अपनी शादी स्थगित कर दी है.

lady constable postpone marriage, बागेश्वर पुलिस उपाधीक्षक संगीता और रुद्रप्रयाग की कांस्टेबल कविता ने अपनी शादी स्थगित कर दी है.

इसी जज्बे के साथ ऋषिकेश में तैनात एसआई शाहिदा परवीन ने 5 अप्रैल को होने वाली अपनी शादी स्थगित कर दी थी.

देहरादून. दुनियाभर के लिए संकट बन चुकी कोरोना वायरस (COVID-19) जनित महामारी से लड़ने में उत्तराखंड पुलिस लगातार शानदार काम कर प्रदेशवासियों का दिल जीत रही है. देवभूमि पुलिस की महिला शक्ति इस दौरान त्याग की मिसाल भी पेश कर रही है. कोरोना संकट के बीच अपने कर्तव्य और फर्ज को सर्वोपरि (सबसे ऊपर) मानते हुए उत्तराखंड पुलिस की दो महिला जवानों ने अपनी-अपनी शादी स्थगित कर दी है. ऐसा करने वाली हैं बागेश्वर पुलिस उपाधीक्षक संगीता और रुद्रप्रयाग की कॉन्स्टेबल कविता. इससे पहले ऋषिकेश की एसआई शाहिदा परवीन ने भी कोरोना वायरस के चलते अपनी शादी स्थगित कर दी थी.

सही में 'मित्र पुलिस'

कोरोना वायरस की वजह से किए गए लॉकडाउन में उत्तराखंड पुलिस सिर्फ मददगार साबित नहीं हो रही बल्कि कई बार तो फरिश्ते सी भूमिका निभा रही है. लोग भी मित्र पुलिस की इस भूमिका की खुलकर तारीफ कर रहे हैं. सोशल मीडिया और अखबार-टीवी में लगातार जरूरतमंदों को खाना खिलाते, राशन बांटते पुलिसकर्मियों की तस्वीरें शेयर की जा रही हैं.

उत्तराखंड पुलिस खाना ही नहीं खिला रही बल्कि साथ ही वो बीमारों के लिए दवाइयों का इंतजाम कर घर-घर तक उसे पहुंचा रही है. बच्चों के लिए दूध भी अपने कोटे से दे रही है. बुजुर्गों को अस्पताल-घर पहुंचा रही है. और इस सबके बीच उत्तराखंड पुलिस की महिला शक्ति अपनी शादी से पहले कर्तव्य को प्राथमिकता देकर मिसाल बन रही है.

आम नागरिकों को जरूरत

बागेश्वर में डीएसपी संगीता और रुद्रप्रयाग की कॉन्स्टेबल कविता के बीच का फर्क कई पदों का है लेकिन दोनों के मन में भावना एक सी है. उत्तराखंड पुलिस की दोनों समर्पित महिला पुलिसकर्मियों का कहना है कि इस समय स्वयं के बजाय उनकी जिम्मेदारी आम नागरिकों के लिए अधिक है. लोगों को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए उन्हें जागरूक करना है, जिससे किसी भी विषम परिस्थिति से निपटा जा सके. यह फैसला कर दोनों ने ही अपनी शादी स्थगित कर दी है और छुट्टियों को छोड़ ड्यूटी जॉइन कर ली है.

बता दें कि इसी जज्बे के साथ ऋषिकेश में तैनात एसआई शाहिदा परवीन ने बीते पांच अप्रैल को होने वाली अपनी शादी स्थगित कर दी थी. उन्होंने कहा था कि उनके लिए लिए देश और ड्यूटी सबसे पहले है. शाहिदा का परिवार भी इस फैसले में उनके साथ खड़ा रहा.

...इधर, चटपट लिए फेरे

इस बीच देहरादून में एक अलग उदाहरण भी सामने आया. सहारनपुर की नेहा और मयंक की शादी 13 अप्रैल को थी. लॉकडाउन के चलते शादी पोस्टपोन (टालना) करने की नौबत आ रही थी लेकिन देहरादून के डीआईजी ने अधिकतम 10 लोगों के साथ सीमित समय में शादी करने की शर्त के साथ इजाजत दे दी. इसके बाद जोड़े ने झटपट फेरे लिए गए और दोनों की शादी संपन्न हो गई. उत्तराखंड पुलिस की इन महिला जवानों के पास भी झटपट शादी का विकल्प मौजूद था लेकिन उन्होंने अपने कर्तव्य को इसके ऊपर रखा.

ये भी देखें: 

लॉकडाउन के बीच पुलिस ने शादी के लिए दी चंद घंटे की छूट, दूल्‍हा-दुल्‍हन ने फटाफट लिए 7 फेरे

उत्‍तराखंड: SI शाहिदा परवीन के जज्बे को सलाम, कहा- कोरोना का खात्मा होने के बाद ही करूंगी शादी

Tags: Corona epidemic, Lockdown. Covid 19, Uttarakhand news, Uttarakhand Police

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर