COVID-19 संकट के बीच 'HOPE' बनेगा उत्तराखंड में रोजगार का आधार, CM ने लॉन्च किया पोर्टल
Dehradun News in Hindi

COVID-19 संकट के बीच 'HOPE' बनेगा उत्तराखंड में रोजगार का आधार, CM ने लॉन्च किया पोर्टल
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बुधवार को सचिवालय में मंत्रिमंडल के साथ 'HOPE' (helping out people Everywhere) पोर्टल का लोकार्पण किया.

COVID-19 संकट के बीच कुशल-अकुशल युवाओं का डाटा बेस बनाने और उसके आधार पर रोजगार-स्वरोजगार के लिए अवसर उपलब्ध करवाने के मकसद से एक पोर्टल लॉन्च किया गया है.

  • Share this:
देहरादून. कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी जैसे संकट के बीच नौकरी और काम-धंधे को लेकर लोग अलग-अलग मुसीबतों का सामना कर रहे हैं. इस वैश्विक संकट के बीच उत्तराखंड सरकार ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है. राज्य के कुशल-अकुशल युवाओं का डाटा बेस बनाने और उसके आधार पर रोजगार-स्वरोजगार के लिए अवसर उपलब्ध करवाने के मकसद से एक पोर्टल लॉन्च किया गया है. मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बुधवार को सचिवालय में मंत्रिमंडल के साथ 'HOPE' (Helping out People Everywhere)  पोर्टल का लोकार्पण किया. इस पोर्टल से उत्तराखंड में रहने वाले उत्तराखंडी तो जुड़ेंगे ही प्रदेश से बाहर रह रहे और काम कर रहे प्रवासी भी कनेक्ट हो पाएंगे.

ताकि डुप्लीकेसी न हो

'HOPE' (http://hope.uk.gov.in/) पोर्टल में लॉगइन कर आप देख सकते हैं कि यह एक आसान सा फ़ॉर्म है. डुप्लीकेसी न हो और एक्यूरेट डाटा मिले इसलिए इसमें आधार नंबर भी मांगा गया है. पोर्टल के माध्यम से उत्तराखण्ड के ऐसे युवाओं का डाटा बेस तैयार करना है जो विभिन्न राज्यों और उत्तराखण्ड में काम करने वाले (या अभी बेरोज़गार) Skilled professional हैं.



इस पोर्टल में उत्तराखण्ड में कौशल विकास विभाग से प्रशिक्षण लेने का भी विकल्प दिया गया है. राज्य सरकार का मानना है कि यह पोर्टल प्रदेश के युवाओं के लिए एक सेतु के रूप में कार्य करेगा. इस पोर्टल के डाटा बेस का उपयोग राज्य के समस्त विभाग तथा अन्य रोज़गार प्रदाता युवाओं को स्वरोज़गार/रोज़गार से जोड़ने के लिए करेंगे.

ये भी पढ़ें-

पहाड़ के 9 जिलों में सिर्फ 749 सैंपलों की जांच, कैसे लगेगी कोरोना पर लगाम

कैलाश-मानसरोवर यात्रा करने वालों के लिए गुड न्यूज, दुर्गम सफर 24 KM हुआ कम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज