दुर्गम क्षेत्र के लोगों को ITBP और SSB के अस्पतालों में मिल रही है ओपीडी की सुविधा

News18 Uttarakhand
Updated: August 18, 2019, 8:38 AM IST
दुर्गम क्षेत्र के लोगों को ITBP और SSB के अस्पतालों में मिल रही है ओपीडी की सुविधा
उत्तराखंड में दुर्गम इलाकों के लोगों को ITBP और SSB के अस्पतालों में ओपीडी की सुविधा मिल रही है

राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने तत्कालीन रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन, गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर उत्तराखंड के दुर्गम इलाके में रहने वाले लोगों के लिए आईटीबीपी और एसएसबी के अस्पतालों में इलाज देने की मांग की थी.

  • Share this:
उत्तराखंड के दुर्गम और दूरदराज के इलाकों की सबसे बड़ी परेशानी चिकित्सीय सुविधा की है और इससे काफी बड़ी आबादी प्रभावित होती है. लेकिन अब उन्हें आईटीबीपी और एसएसबी के अस्पतालों में चिकित्सा सुविधाएं मिलने लगी हैं. जिससे लोगों में काफी खुशी का माहौल है. लोगों की माने तो बरसात और सर्दी के दिनों में अगर कोई बीमार हो जाए तो उन्हें अस्पताल पहुंचने में काफी परेशानियों का समाना करना पड़ता था. बता दें कि इन्हें ये सुविधा राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी की कोशिशों के बाद मिली है. करीब साल भर पहले राज्यसभा सांसद बलूनी ने तत्कालीन गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकत कर दुर्गम और सीमावर्ती इलाकों में आईटीबीपी और एसएसबी के अस्पतालों में स्थानीय लोगों को ओपीडी सुविधा देने की मांग की थी.

राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी की कोशिशों के बाद खुला इलाज का रास्ता

गौरतलब है कि इसके लिए राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने तत्कालीन रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन, गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर उत्तराखंड के दुर्गम इलाके में रहने वाले लोगों के लिए आईटीबीपी और एसएसबी के अस्पतालों में इलाज देने की मांग की थी. उन्होंने तत्कालीन रक्षा मंत्री के सामने अपनी बात रखी कि चिकित्सा सेवाओं की कमी को देखते हुए अगर उन्हें पहाड़ों पर ही आईटीबीपी या एसएसबी के अस्पतालों में इलाज मिल जाए तो वहां के लोगों को काफी सुविधा होगी. उनके ही कोशिशों का ही नतीजा है कि जून 2019 तक अठारह सौ से ज्यादा लोगों का आईटीबीपी के अस्पतालों में इलाज हुआ.

उत्तराखंड के दुर्गम इलाकों में ITBP और SSB के अस्पतालों में इलाज मिलने से पलायन में काफी कमी आने की संभावना है.


वहीं इस मामले में बलूनी का कहना है कि गृह मंत्रालय के प्रयासों से आईटीबीपी और एसएसबी के अस्पतालों में स्थानीय लोगों को इलाज की सुविधा मिली है. इससे दुर्गम और दूरदराज रहने वाले हजारों लोगों को लाभ मिल रहा है. वहीं सामरिक नजरिए से भी इन इलाकों में शिक्षा और इलाज की सुविधा मिलने से पलायन की कमी होगी.

ये भी पढ़ें- हाईटेक उत्तराखंड पुलिस: TikTok के जरिए लोगों को करेगी जागरूक

ये भी पढ़ें- आज भी 3 Not 3 रायफल की मुरीद है उत्तराखंड पुलिस
Loading...

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 18, 2019, 8:35 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...