लाइव टीवी

पथरियापीर शराब कांडः पुलिस कार्रवाई की सूचना शराब अभियुक्तों को लीक कर देते थे दो सिपाही

satendra bartwal | News18 Uttarakhand
Updated: October 24, 2019, 11:43 AM IST
पथरियापीर शराब कांडः पुलिस कार्रवाई की सूचना शराब अभियुक्तों को लीक कर देते थे दो सिपाही
पथरियापीर में ज़हरीली शराब कांड में 8 लोगों की मौत हो गई थी. (फ़ाइल फ़ोटो)

निर्दोष निकले नगर कोतवाली प्रभारी (City Kotwali In-charge) और धारा चौकी इंचार्ज (Dhara Chauki In-charge), एसएसपी (SSP Dehradun) ने किया बहाल

  • Share this:
देहरादून. पथरियापीर इलाक़े 8 लोगों की मौत के मामले में पुलिस की मिलीभगत सामने आई है. स्थानीय लोग शुरु से ही कह रहे थे इस मामले में पुलिसकर्मियों की मिलीभगत है और इसी को देखते हुए एसएसपी ने नगर कोतवाल और धारा चौकी इंचार्ज को निलंबित कर दिया था. पुलिस की विभागीय जांच में पता चला कि इस मामले में दो सिपाही शामिल थे जो पुलिस कार्रवाई की सूचना तक शराब तस्करों को लीक किया करते थे. जांच रिपोर्ट के आधार पर दोनों सिपाहियों को लाइन हाज़िर कर दिया गया है और निलंबित नगर कोतवाल, चौकी इंचार्ज की बहाली कर दी गई है.

जांच में खुली पोल 

देहरादून के एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने बताया कि पथरियापीर में ज़हरीली शराब से आठ लोगों की मौत के बाद पुलिस के प्रभावी कार्रवाई न कर पाने की वजह से कोतवाली नगर प्रभारी शिशुपाल नेगी और धारा चौकी इंचार्ज कुलवंत सिंह को निलंबित कर दिया गया था. स्थानीय लोगों के मिलीभगत के आरोपों के बीच पुलिसकर्मियों की भूमिका की विभागीय जांच के आदेश दे दिए गए थे.

इस मामले की जांच पुलिस अधीक्षक ग्रामीण प्रमेंद्र डोभाल को सौंपी गई थी. जांच के दौरान यह पता चला कि नगर कोतवाली प्रभारी और धारा चौकी इंचार्ज ने अवैध शराब बिक्री की सूचना मिलने पर अपने स्तर से आवश्यक कार्रवाई की थी लेकिन धारा चौकी में तैनात दो सिपाही शराब तस्करों को मुखबिरी कर रहे थे.

ssp dehradun arun mohan joshi, एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने बताया कि दोनों सिपाहियों को लाइन हाज़िर कर दिया गया है.
एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने बताया कि दोनों सिपाहियों को लाइन हाज़िर कर दिया गया है. उनके ख़िलाफ़ विभागीय कार्रवाई की जा रही.


बर्खास्तगी की भी संभावना 

एसएसपी ने बताया कि धारा चौकी में नियुक्त कॉंस्टेबल प्रदीप कुमार और कॉंस्टेबल मोहित शर्मा की अभियुक्तों से निकटता थी और वह पुलिस की कार्रवाई की सूचना अभियुक्तों को पहुंचा देते थे. इसकी वजह से पुलिस के पहुंचने से पहले ही अभियुक्त फ़रार हो जाते थे. और यही वजह थी कि इस मामले में अभियुक्तों के ख़िलाफ़ कोई प्रभावी कार्रवाई नहीं हो पाई.
Loading...

दोनों कॉंस्टेबलों के जांच में दोषी पाए जाने पर एसएसपी ने उन्हें तुरंत प्रभाव से लाइन हाज़िर कर दिया है. उनके ख़िलाफ़ विभागीय कार्रवाई की जा रही. इनकी बर्खास्तगी की भी संभावना है.

जांच में निर्दोष पाए जाने पर नगर कोतवाली प्रभारी शिशुपाल नेगी और धारा चौकी इंचार्ज कुलवंत सिंह को बहाल कर दिया गया है. यह संभवतः प्रदेश का पहला मामला है जिसमें जांच में निर्दोष पाए जाने पर पुलिसकर्मियों को उनके पुराने पदों पर ही नियुक्ति मिली है.

ये भी देखें: 

ज़हरीली शराब कांड में मुख्य अभियुक्त अजय सोनकर उर्फ़ घोंचू गिरफ़्तार, गैंगस्टर एक्ट लगा

जहरीली शराब पीने से 6 की मौत के मामले में तस्कर गिरफ्तार, अन्य आरोपियों की तलाश जारी 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 10:58 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...