Lockdown के चलते कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में PM मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट भी अधर में लटका
Dehradun News in Hindi

Lockdown के चलते कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में PM मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट भी अधर में लटका
पीएम आवास योजना में भ्रष्टाचार का मामला राजस्थान में पकड़ा गया है. (फाइल फोटो)

तब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में वन्यजीवों के लिए रेस्क्यू सेंटर (Rescue center) बनाने की घोषणा की थी.

  • Share this:
देहरादून. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) 14 फरवरी 2019 को कॉर्बेट टाइगर रिजर्व (Corbett Tiger Reserve) में भ्रमण पर आए थे. इस दौरान उन्होंने एक निजी चैनल के एक कार्यक्रम के लिए शूटिंग भी की थी. तब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां पर वन्यजीवों के लिए रेस्क्यू सेंटर (Rescue center) बनाने की घोषणा की थी. वहीं, वन्यजीव प्रेमियों और पर्यटकों के लिए एक टाइगर सफारी बनाने का ऐलान किया था. 14 फरवरी को रेस्क्यू सेंटर के लिए की गई उनकी घोषणा के क्रम में इसकी सभी औपचारिकताएं कॉर्बेट प्रशासन द्वारा पूरी कर ली गई. इसे बनाने के लिए ढेला रेंज में 30 हेक्टेयर भूमि का चयन किया गया, जिसमें बीमार और लाचार हो चुके बाघ, गुलदार और हाथी सरीखे जानवरों के इलाज की व्यवस्था की जा सके.

इसके लिए 2 करोड़ रुपये प्रोजेक्ट टाइगर एवं 2 करोड़ रुपये कैम्पा से अवमुक्त किये गए. नवंबर 2019 से ढेला रेंज के प्रस्तावित 30 हेक्टेयर भूमि पर इसका निर्माण कार्य युद्ध स्तर पर शुरू किया गया. जिसका करीब 50 प्रतिशत कार्य भी लॉकडाउन से पहले कर लिया गया था. लेकिन लॉकडाउन के बाद से यहां का काम भी अधर में लटक गया है. यहां वर्तमान में बाघों और गुलदारों के लिए बाड़े बनाये जा रहे हैं. शुरुआत में यहां 10 गुलदार और 4 बाघ रखे जाने प्रस्तावित हैं. बाद में यहां बाघों के लिए भी 10 बाड़े बनाये जाएंगे.

सरकार निर्माण कार्यों के लिए जो भी गाइड लाइन देगी
इसके साथ ही भविष्य में यहां हाथियों के साथ ही हिरन जैसे घास खाने वाले वन्यजीवों के इलाज की भी व्यवस्था की जाएगी. कॉर्बेट के डायरेक्टर राहुल ने बताया कि लॉकडाउन खुलने के बाद या लॉकडाउन के दौरान ही सरकार निर्माण कार्यों के लिए जो भी गाइड लाइन देगी, उसके अनुसार इस रेस्क्यू सेंटर का काम भी प्रारम्भ कर दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि वह कोशिश करेंगे कि जल्द से जल्द यह काम पूरा किया जा सके,  जिससे कि लाचार वन्यजीवों को इसका लाभ मिल सके.
ये भी पढ़ें- 



Covid-19: जयपुर में कोरोना विस्फोट, जेल में मिले 119 पॉजिटिव, अब तक 1552

केसपाकिस्तान से कनेक्शन की आशंका में कबूतर 'गिरफ्तार', मेहमानवाजी में लगी पुलिस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज