Home /News /uttarakhand /

VIDEO : पहले ही पड़ाव से मैली हो रही है गंगा

VIDEO : पहले ही पड़ाव से मैली हो रही है गंगा

‘गंगा का पानी कभी ख़राब नहीं होता’ ये बात अब सिर्फ किंवदंति बनकर रह गयी है. गंगा अपने पहले मैदानी तीर्थस्थान ऋषिकेश से ही प्रदूषित हो रही है.

'गंगा का पानी कभी ख़राब नहीं होता’ ये बात अब सिर्फ किंवदंति बनकर रह गयी है. गंगा अपने पहले मैदानी तीर्थस्थान ऋषिकेश से ही प्रदूषित हो रही है.
गंगा के लगभग 2525 कि.मी. लंबे सफर में ऋषिकेश पहला मैदानी पड़ाव है. यहां नाले और सीवर का पानी गिरने से गंगा में प्रदूषण शुरू हो जाता है. कुछ साल पहले तक त्रीवेणी घाट में सरस्वती नदी, गंगा में मिलती थी जो अब विलुप्त हो चुकी है. उसकी जगह सरस्वती नाला ने ले ली है. इसमें पूरे शहर की गंदगी बहायी जा रही है जो आगे चलकर गंगा में मिल जाती है. गंगा किनारे लगातार बसायी जा रही बस्तियों चन्द्रभागा, मायाकुंड, शीशम झाड़ी में शौचालय तक नहीं हैं. इसलिए ये गंदगी भी गंगा में मिल रही है.
रही सही कसर पर्यटन व्यवसाय ने पूरी कर दी है. ऋषिकेश में लगातार होटलों, धर्मशाला और आश्रम बन रहे हैं. इनका ड्रेनेज भी गंगा में है.
इसके बाद प्लास्टिक का उपयोग गंगा के लिए सबसे घातक साबित हो रहा है. प्लास्टिक की पन्नियां और केन सीवेज सिस्टम को चोक कर रही है. यही हाल रहा तो शायद कुछ समय बाद गंगा का पानी सिंचाई के लायक भी न रह पाए. गंगा स्वच्छता के नाम पर भारी भरकम परियोजनाओं और बजट का असर कहीं नज़र नहीं आ रहा है. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने ऋषिकेश में गंगा प्रदूषण नियंत्रण केंद्र की स्थापना की थी. सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगवाए गए थे. लेकिन वो परियोजनाएं भी दम तोड़ रही हैं.

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर