होम /न्यूज /उत्तराखंड /देहरादून में हल्की बारिश में सड़कें बन जाती हैं तालाब, सीवेज लाइन हो जाता है फव्वारा

देहरादून में हल्की बारिश में सड़कें बन जाती हैं तालाब, सीवेज लाइन हो जाता है फव्वारा

जरा सी बारिश में भी सड़कें तालाब बन जाती हैं और सीवेज लाइन किसी फव्वारे का रूप ले लेती है. बरसात में देहरादून की सड़कों ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    हिना आज़मी

    देहरादून. उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में जहां एक तरफ लोग सड़कों के गढ्ढों से परेशान हैं, तो वहीं दूसरी ओर सीवेज की समस्या से भी मुश्किलें बढ़ गई हैं. जरा सी बारिश में भी सड़कें तालाब बन जाती हैं और सीवेज लाइन किसी फव्वारे का रूप ले लेती है. बरसात में देहरादून की सड़कों पर लोगों का चलना मुश्किल हो जाता है. शहर भर में सड़कों के गड्ढे वाहन चालकों के लिए हादसों का सबब बन रहे हैं, तो उसमें किया गया पैचवर्क मुश्किलें बढ़ा रहा है. कई जगह ड्रेनेज सिस्टम के खराब होने से जरा सी बारिश में सड़कें तालाब में तब्दील हो जाती हैं. जगह-जगह जलभराव की समस्या पैदा हो जाती है.

    कुछ महीने पहले देहरादून की जिलाधिकारी (डीएम) सोनिका ने ड्रेनेज सिस्टम के लिए रणनीति बनाने की बात कही थी, लेकिन फिलहाल शहर की स्थिति जस की तस है.

    स्थानीय निवासी बॉबी का कहना है कि इस स्मार्ट सिटी से पुराना देहरादून ही अच्छा था. आज नालियों को पूरा बंद करवा दिया गया है. नालियों से पानी की निकासी नहीं होती, और फिर बारिश में सड़कें ही नालियां बन जाती हैं.

    जहां एक तरफ स्मार्ट सिटी के अधूरे काम से ड्रेनेज समेत शहर में कई परेशानियां लोगों के सामने आ रही हैं और व्यवस्थाओं के दुरुस्त होने का दावा किया जा रहा है, तो वहीं नगर निगम का कहना है कि समय-समय पर नालियां साफ की जा रही हैं. फिर भी जरा सी बारिश में सीवेज फव्वारे कैसे बन जाते हैं, यह बड़ा सवाल है. सवाल यह भी है कि जिला प्रशासन-नगर निगम की तरफ से काम किया जा रहा है तो आम जनता परेशान क्यों है?

    Tags: Dehradun news, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें