Home /News /uttarakhand /

आहार भी रोज़गार भी, जानिए खिलाड़ियों के लिए कितनी खास है उत्तराखंड की खेल नीति

आहार भी रोज़गार भी, जानिए खिलाड़ियों के लिए कितनी खास है उत्तराखंड की खेल नीति

उत्तराखंड खेल नीति का खिलाड़ियों ने स्वागत किया.

उत्तराखंड खेल नीति का खिलाड़ियों ने स्वागत किया.

Sports Policy : उत्तराखंड के खिलाड़ियों के ओलंपिक (Olympics) और राष्ट्रीय स्तर की प्रतिस्पर्धाओं में पहुंचने और गरीबी के हाल में रहने व जीने की खबरें आ रही थीं. इन हालात में उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) नई खेल नीति लाई है, जिसमें खिलाड़ियों के आहार से लेकर रोज़गार तक के लिए व्यवस्था का दावा है. पुष्कर सिंह धामी सरकार (Dhami Government) का दावा यह भी ​है कि राज्य की नई खेल नीति खिलाड़ियों के लिए मील का पत्थर साबित होगी. वास्तव में, खेल नीति पर जब बोधिसत्व (Bodhisatva) कार्यक्रम में सवाल किया गया तो सीएम धामी ने कहा था कि मंगलवार की बैठक में इस पर मुहर लगेगी.

अधिक पढ़ें ...

देहरादून. उत्तराखंड कैबिनेट बैठक के निर्णयानुसार ‘उत्तराखंड खेल नीति 2021’ के प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई है. ‘उत्तराखंड खेल नीति 2021’ लागू होने पर खेल मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने खिलाड़ियों, प्रशिक्षकों, खेल प्रेमियों को बधाई और शुभकामनाएं दीं. साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि खेल नीति प्रदेश में खेल संस्कृति के विकास के लिए उत्कृष्ट एवं प्रभावी साबित होगी. मंगलवार शाम को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में यह फैसला लिया गया. खेल नीति के तहत खिलाड़ियों के पोषण से लेकर उनके लिए रोज़गार के मौके दिए जाने तक के विषयों पर प्रावधान बताए गए हैं.

क्या है खेल नीति का मकसद?
देश में आज जिस प्रकार खेलों में युवाओं की रुचि बढ़ी है और जिस तरह खेल के क्षेत्र में अनेक संभावनाओं ने आकार लिया है, उसी के मद्देनज़र उत्तराखंड में भी एक खेल नीति की ज़रूरत महसूस की जा रही थी. चूंकि उत्तराखंड से राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खिलाड़ी पहचान बनाने में कामयाब हो चुके हैं इसलिए प्रदेश में युवाओं के लिए खेल नीति-2021 बनाई गई है. इसके अंतर्गत इलेक्ट्रॉनिक कल्चर से प्रभावित बच्चों और युवाओं को खेलों के प्रति प्रेरित कर प्ले फील्ड कल्चर की ओर अग्रसर किया जाने का लक्ष्य रखा गया है.

खिलाड़ियों को अब मिल सकेंगे रोज़गार
‘उत्तराखंड खेल नीति 2021’ में खेल, खिलाड़ियों के उन्नयन, खेल प्रतिभाओं को तलाशने, निखारने व उभारने, खेलों के प्रति रुचि बढ़ाने, खिलाड़ियों के नियोजन, सामान्य आहार के साथ-साथ एक्स्ट्रा न्यूट्रिएंट्स फूड डाइट की व्यवस्था, खिलाड़ियों के लिए रोज़गार के अवसर तथा सम्बंधित पूर्ण सुविधाएं प्रदान करने का प्रावधान किया गया है. युवाओं में राष्टीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर की प्रतिभाओं को विकसित करने के लिए उचित आर्थिक प्रोत्साहन का प्रावधान किया गया है.

खेल मंत्री ने ‘उत्तराखंड खेल नीति 2021’ की मंज़ूरी के लिए मुख्यमंत्री धामी के साथ ही कैबिनेट का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि “निश्चित ही भविष्य में उत्तराखंड, खेल प्रदेश के रूप में भी अपनी पहचान बनाएगा. प्रदेश के खिलाड़ी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पटल पर देश-प्रदेश का नाम रोशन करेंगे.” वहीं, इस फैसले के बाद खिलाड़ियों में भी खुशी की लहर देखी जा रही है. गौरतलब है कि बोधिसत्व कार्यक्रम में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई खेल नीति लाए जाने का ऐलान कर दिया था.

Tags: Uttarakhand Government, Uttarakhand news, Uttarakhand Sports Policy 2021

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर