CMI में छापा तो शुरुआत है, अभी और होगा उत्तराखंड में टैक्स चोरों पर इनकम टैक्स का एक्शन

मंगलवार को देहरादून में जाने-माने CMI हॉस्पिटल पर इनकम टैक्स की टीम ने छापा मारा था.

मंगलवार को देहरादून में जाने-माने CMI हॉस्पिटल पर इनकम टैक्स की टीम ने छापा मारा था.

इनकम टैक्स की नज़र ऐसे कारोबारियों पर है जो पैसा मोटा कमा रहे हैं पर टैक्स नहीं चुका रहे. इनमें मेडिकल, एजुकेशन, रियल स्टेट और ज्वैलरी से जुड़े कारोबारी शामिल हैं.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड में टैक्स चोरी (Tax Evasion in Uttarakhand) करने वालों को इनकम टैक्स (Income Tax) ने टारगेट करना शुरु कर दिया है. विभाग ऐसे किसी भी व्यक्ति को बख़्शने के मूड में नहीं है जो टैक्स चोरी कर रहा है. देहरादून (Dehradun) समेत उत्तराखंड के बाकी शहरों में ऐसे सफेदपोशों की कमी नहीं है जो कमाई तो करोड़ों की रहे हैं लेकिन लाखों का टैक्स नहीं चुका रहे. इसकी शुरुआत मंगलवार को देहरादून में जाने-माने CMI हॉस्पिटल (CMI Hospital) पर इनकम टैक्स की टीम के छापे से हो गई है. विभाग का कहना है कि कार्रवाई अभी न सिर्फ़ जारी रहेगी बल्कि तेज भी होगी.



गहमा-गहमी भरा दिन



मंगलवार का दिन सीएमआई अस्पताल में गहमा-गहमी भरा रहा. इनकम टैक्स की टीम ने अस्पताल प्रबंधन को साथ लेकर एक-एक दस्तावेज को खंगाला. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने यह कार्रवाई पुख्ता प्रमाण के साथ की कि अस्पताल जितनी कमाई कर रहा है उतना टैक्स नहीं भर रहा है.





इनकम टैक्स का दूसरा एक्शन ऋषिकेश के गुमानीवाला में तिरुपति ट्रेडर्स पर हुआ और यहां से भी टैक्स चोरी को लेकर दस्तावेज जब्त किए गए.
पहले से तय थी तारीख



यूपी वेस्ट-उत्तराखंड के प्रिंसिपल चीफ कमिश्नर ऑफ इनकम टैक्स पीके गुप्ता ने सितंबर में ही साफ़ कर दिया था कि डिपार्टमेंट टैक्स चोरों को कोई रियायत देने के मूड में नहीं है. इसलिए एक अक्टूबर से टैक्स चोरी करने वालों पर गाज गिरेगी.



INCOME TAX principal chief commisssioner, यूपी वेस्ट-उत्तराखंड के प्रिंसिपल चीफ कमिश्नर ऑफ इनकम टैक्स पीके गुप्ता ने सितंबर में ही साफ़ कर दिया था कि डिपार्टमेंट टैक्स चोरों को कोई रियायत देने के मूड में नहीं है.
यूपी वेस्ट-उत्तराखंड के प्रिंसिपल चीफ कमिश्नर ऑफ इनकम टैक्स पीके गुप्ता ने सितंबर में ही साफ़ कर दिया था कि डिपार्टमेंट टैक्स चोरों को कोई रियायत देने के मूड में नहीं है.




 



न्यूज़ 18 से बात करते हुए गुप्ता ने कहा था, “अक्टूबर से सर्वे में तेज़ी आएगी और बड़े एक्शन होंगे. हालांकि सर्वे वहीं होगा जहां पुख्ता प्रमाण होंगे और कार्रवाई करने वाले अधिकारी को अपने सीनियर को बताना होगा कि किस आधार पर यह सर्वे किया गया. कार्रवाई वहीं होगी जहां लगेगा यह पहली नजर में टैक्स चोरी का केस लगता है.”



कई टैक्स चोरों के चेहरों से उठेगा पर्दा



उत्तराखंड का इनकम टैक्स ऑफिस एक अक्टूबर से कार्रवाई शुरु कर चुका है और आगे इस एक्शन में और तेज़ी देखने को मिलेगी. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने ऐसे लोगों की लिस्ट और उनके बारे में पूरी इंफॉर्मेशन जुटा ली है जो टैक्स चोरी का खेल खेल रहे हैं.



INCOME TAX, इनकम टैक्स की नजर उत्तराखंड में अलग-अलग सेक्टर के बड़े कारोबारियों पर है जो पैसा मोटा कमा रहे हैं पर टैक्स नहीं चुका रहे.
इनकम टैक्स की नजर उत्तराखंड में अलग-अलग सेक्टर के बड़े कारोबारियों पर है जो पैसा मोटा कमा रहे हैं पर टैक्स नहीं चुका रहे.




प्रिसिंपल इनकम टैक्स कमिश्नर सुनीति श्रीवास्तव का कहना है, “यह कार्रवाई उन लोगों के ख़िलाफ़ है जो टैक्स चोरी करते हैं, ग़लत दस्तावेज पेश करते हैं और गुमराह करते हैं. उन ईमानदार करदाताओं के खिलाफ नहीं जो वक्त पर अपना टैक्स भरते हैं. इंफॉर्मेशन जुटाने का काम पूरा हो चुका है और जल्द ही अच्छे परिणाम आपके सामने आएंगे. इससे लोगों को खुशी होगी कि टैक्स चोरी करने वालों पर इनकम टैक्स की कड़ी नजर है.”



कहां-कहां नज़र?



इनमें खासतौर पर मेडिकल, एजुकेशन, रियल स्टेट और ज्वैलरी से जुड़े कारोबारी शामिल हैं.



ये भी देखें: 



भाजपा नेता के प्रतिष्ठानों पर तीसरे दिन भी इनकम टैक्स की छानबीन जारी



पर्यटन विकास परिषद ऑफ़िस पर इनकम टैक्स का छापा, निदेशक और फ़ाइनेंस कंट्रोलर से पूछताछ
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज