चारधाम यात्रा में टूटे रिकॉर्ड: केदारनाथ में 9 तो बद्रीनाथ में 10 लाख तीर्थयात्रियों ने किए दर्शन

केदारनाथ में पूरे यात्रा सीज़न में तीर्थयात्रियों का आंकड़ा 10 लाख पहुंच सकता है.
केदारनाथ में पूरे यात्रा सीज़न में तीर्थयात्रियों का आंकड़ा 10 लाख पहुंच सकता है.

साल 2018 में करीब 7 लाख तीर्थयात्री केदारनाथ पहुंचे थे और साल 2019 में सितंबर माह के आखिर तक 9 लाख तीर्थयात्री केदारनाथ में बाबा भोलेनाथ के दर्शन कर चुके हैं.

  • Share this:
देहरादून. 2013 में केदारनाथ आपदा (Kedarnath Disaster) के बाद चारधाम यात्रा (Chardham Yatra) को बड़ा झटका लगा था. नतीजा ये हुआ कि 2014 से 2016 के दरम्यान तीर्थयात्रियों की संख्या 1 लाख से 3 लाख के बीच सिमट कर रह गई. इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने जब केदारनाथ पर फोकस किया तब देशभर से चारधाम पहुंचने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या बढ़ने लगी. खासतौर पर बद्री-केदार धाम (Badri-Kedar Dham) आने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या में वृद्धि हुई है. साल 2018 में करीब 7 लाख तीर्थयात्री केदारनाथ पहुंचे थे और साल 2019 में सितंबर माह के आखिर तक 9 लाख तीर्थयात्री केदारनाथ में बाबा भोलेनाथ के दर्शन कर चुके हैं.

बद्रीनाथ (Badrinath) की बात करें तो 2018 में पूरे यात्रा सीजन में 10 लाख 58 हजार तीर्थयात्रियों ने बद्रीनाथ के दर्शन किए. इस साल 2019 में सितंबर के आखिर तक तीर्थयात्रियों की संख्या 10 लाख के पार जा पहुंची है.

चारधाम यात्रा सीजन 2019 के पूरे होने में एक माह का समय बाकी है.




प्रधानमंत्री बार-बार आए केदारनाथ
केदारनाथ आपदा के बाद गुजरात का सीएम रहते हुए नरेंद्र मोदी ने मदद के हाथ बढ़ाए थे, लेकिन तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने इससे इनकार कर दिया था. 2014 में प्रधानमंत्री बनने और 2017 में उत्तराखंड में बीजेपी सरकार आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बाबा केदारनाथ के कई दौरे चुके हैं. 2019 में वाराणसी में वोटिंग से पहले भी प्रधानमंत्री ने केदारनाथ में गुफा में बैठकर ध्यान किया था. इसके बाद न सिर्फ केदारनाथ आने वाले बल्कि गुफा में योग और ध्यान करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ी. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (CM Trivendra Singh Rawat) भी मानते हैं कि प्रधानमंत्री मोदी का केदारनाथ में फोकस करने का सीधा असर तीर्थयात्रियों की संख्या पर पड़ा है. उन्होंने कहा कि केदारनाथ में रिकॉर्ड यात्री पहुंचे हैं.

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत मानते हैं कि प्रधानमंत्री मोदी का केदारनाथ में फोकस करने का सीधा असर तीर्थयात्रियों की संख्या पर पड़ा.


अभी यात्रा का करीब एक महीना बाकी

देश में द्धादश ज्योतिर्लिंगों में से एक केदारनाथ धाम अकेला ऐसा ज्योतिर्लिंग है जहां मंदिर के कपाट सिर्फ 6 महीने के लिए खुलते हैं. हर साल दीपावली के 2 दिन बाद भैयादूज को केदारनाथ धाम के कपाट बंद होते हैं. इस बार दीपावली 27 अक्टूबर को है, इसलिए कपाट 29 अक्टूबर को बंद होंगे. अक्टूबर में पहाड़ का मौसम भी खुशनुमा होता है. ऐसे में उम्मीद है कि केदारनाथ में पूरे यात्रा सीज़न में तीर्थयात्रियों का आंकड़ा 10 लाख पहुंच सकता है.

ये भी पढ़ें - पिथौरागढ़ में गुलदार ने झपट्टा मार मां की गोद से बच्चा छीना और ले ली जान

ये भी पढ़ें - विचाराधीन बीमार कैदी की ऋषिकेश AIIMS ले जाने के दौरान मौत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज