अप्रैल से स्कूली बच्चों को मिलेगा फ्लेवर्ड मिल्क, 5 तरह के फ़्लेवर्स में से मनपसंद चुन सकेंगे बच्चे

आंचल डेयरी से लिए जाने वाले दूध को बच्चों को इस शिक्षण सत्र से हफ्ते में 3 दिन देने की योजना है.

इसके साथ ही 2020 में स्कूलों में बच्चों के लिए जल घंटी की शुरुआत भी की जा रही है. स्कूलों में तीसरे, पांचवें और आठवें पीरियड में जल घंटी बजाई जाएगी.

  • Share this:
देहरादून. साल 2020 में उत्तराखंड का शिक्षा विभाग बच्चों की पढ़ाई के साथ-साथ सेहत पर भी ध्यान देगा. प्रदेश में अब बच्चों को फ्लेवर्ड मिल्क भी दिया जाएगा हालांकि इसके लिए बच्चों को नए वित्त वर्ष यानी कि एक अप्रैल तक का इंतज़ार करना होगा. अभी तक स्कूली बच्चों को कुपोषण से दूर रखने के लिए पोषाहार के तौर पर हर शनिवार को अण्डे और केले दिए जाते हैं. अब इसके साथ ही फ़्लेवर्ड मिल्क भी देने की योजना तैयार की गई है.

हफ़्ते में 3 दिन मिलेगा दूध

अपर राज्य परियोजना निदेशक मुकुल कुमार सती ने न्यूज़ 18 को बताया कि आंचल डेयरी से लिए जाने वाले दूध को बच्चों को इस शिक्षण सत्र से हफ्ते में 3 दिन देने की योजना है. इसके लिए वित्तीय स्तर पर जो पेचीदगियां थीं उन्हें दूर किया जा चुका है.

एससीईआरटी निदेशक सीमा जौनसारी का कहना है कि बच्चों के लिए अकादमिक तौर पर मजबूत करने काम तो किया ही जा रहा है साथ ही बच्चे फिज़िकली भी फिट रहें इस पर भी शिक्षा विभाग नए साल में काम करेगा. मिड डे मील के तहत सुबह बच्चों को 200 मिलीलीटर दूध दिया जाएगा.

ये हैं फ़्लेवर्स 

सीमा जौनसारी ने बताया कि दूध पाउडर के ज़रिए स्कूल में ही तैयार किया जाएगा. इसके लिए पहले गर्म पानी किया जाएगा और फिर मिड-डे मील कर्मचारी उसमें 20 ग्राम पाउडर मिलाएंगे जो हर बच्चे को दिया जाएगा. यह दूध पांच तरह के फ़्लेवर में होगा- इलायची, चॉकलेट, रोज़, पाइनएप्पल और स्ट्रॉबेरी फ्लेवर.

सीमा जौनसारी ने बताया कि बच्चे को जो फ़्लेवर पंसद होगा, उसी हिसाब से 200 एमएल दूध मिड डे मील में दिया जाएगा. आंचल डेयरी की तरफ से बनाए जा रहे इस दूध को अपर राज्य परियोजना निदेशक मुकुल कुमार सती ने टेस्ट किया है.

फ़ैट रहित दूध 

सती ने बताया कि इस पाउडर को बनने वाला दूध फैट रहित होगा. इसमें 64 प्रतिशत स्किम्ड दूध, 33 प्रतिशत शुगर और तीन प्रतिशत फ्लेवर होगा. बच्चों की ग्रोथ के लिए आवश्यक प्रोटीन, मिनरल और विटामिन भी इसमें होंगे.

उन्होंने बताया कि 15 लीटर दूध तैयार करने के लिए साढ़े 14 लीटर पानी को गर्म करने के बाद गुनगुना होने पर उसमें एक किलोग्राम दूध पाउडर डाला जाता है. इस तरह तैयार किए गए दूध को एक घंटे के अंदर ही बच्चों को देना होगा बच्चों के स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव न हो, इसके लिए दूध के स्टॉक को तीन माह के अंदर प्रयोग में लाना होगा.

जल घंटी भी बजेगी 

इसके साथ ही 2020 में स्कूलों में बच्चों के लिए जल घंटी की शुरुआत भी की जा रही है. भारत सरकार के फिट इंडिया मूवमेन्ट के तहत स्कूलों में तीसरे, पांचवें और आठवें पीरियड में जल घंटी बजाई जाएगी. इसके तहत बच्चों का पानी पीना अनिवार्य होगा.

स्कूलों में जल घंटी शुरु करने का मकसद बच्चों को रोगों से दूर करना है.  हर जल घंटी में पानी पीने के लिए बच्चों को कहा जाएगा ताकि बच्चों को रोगों से मुक्त किया जा सके.

ये  भी देखेंः 

रुद्रप्रयाग के इस सरकारी स्कूल के आगे फीके हैं उत्तराखंड के तमाम प्राइवेट स्कूल.. 

अब शिक्षा विभाग में अनिवार्य सेवा निवृत्ति की तैयारी... 5000 से ज़्यादा शिक्षकों की होगी छुट्टी 

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.