टिहरी झील में सी-प्लेन का रास्ता साफ़, AAI और राज्य सरकार के बीच MOU पर हस्ताक्षर

राज्य में 13 हैलिपोर्ट विकसित किए जाने हैं इनमें से 10 की डीपीआर दे दी गई है.

Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: July 3, 2019, 7:36 PM IST
टिहरी झील में सी-प्लेन का रास्ता साफ़, AAI और राज्य सरकार के बीच MOU पर हस्ताक्षर
टिहरी झील में सी-प्लेन के संचालन के लिए वाटरड्रोम की स्थापना के लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय, भारत सरकार, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण और राज्य सरकार के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए.
Sunil Navprabhat
Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: July 3, 2019, 7:36 PM IST
टिहरी झील में सी-प्लेन के संचालन की दिशा में शुरूआत हो गई है. बुधवार को सचिवालय में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की उपस्थिति में टिहरी झील में सी-प्लेन के संचालन के लिए वाटरड्रोम की स्थापना के लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय, भारत सरकार, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण और राज्य सरकार के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए. वाटर ड्रोम की स्थापना के लिए एमओयू करने वाला उत्तराखण्ड देश का पहला राज्य है.  इसी दौरान पिथौरागढ़ स्थित नैनी सैनी में हवाई सेवाओं के सफल संचालन के लिए भी सीएनएस-एटीएम (कम्यूनिकेशन, नेवीगेशन, सर्विलांस एंड एयर ट्रैफिक मेनेजमेंट सर्विसेज) एमओयू पर भी हस्ताक्षर किए गए.

13 हैलिपोर्ट भी होंगे विकसित 

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने इसे राज्य के लिए ऐतिहासिक अवसर बताते हुए कहा कि टिहरी झील में सी-प्लेन के संचालन के लिए बड़ी शुरूआत हुई है. इससे टिहरी में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा. क्षेत्र में पर्यटन संबंधी गतिविधियों में बढ़ोतरी होगी. जिससे स्थानीय पर्यटन व्यवसायियों को लाभ होगा. पिछले कुछ समय में टिहरी की पहचान प्रमुख टूरिस्ट डेस्टीनेशन के तौर पर बनी है.

नागरिक उड्डयन मंत्रालय भारत सरकार की संयुक्त सचिव उषा ने बताया कि राज्य में 13 हैलिपोर्ट विकसित किए जाने हैं इनमें से 10 की डीपीआर दे दी गई है. जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट को भी विकसित किया जा रहा है. इसके टर्मिनल की क्षमता को 150 से बढ़ाकर 1800 किया जाएगा.

पिथौरागढ़ बनेगा टूरिस्ट डेस्टिनेशन 

नागरिक उड्डयन मंत्रालय अगस्त में फिक्की के सहयोग से देहरादून में हेलीकाप्टर कान्क्लेव आयोजित करेगा. वाटरड्रोम की स्थापना ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट की तरह की जाएगी. उन्होंने बताया कि पवन हंस की ओर से सीएसआर के अंतर्गत शिक्षा के क्षेत्र में 60 लाख रूपए की सहयोग राशि दिए जाने की बात भी कही.

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिथौरागढ़ राज्य का दूरस्थ क्षेत्र है. इसका सामरिक महत्व भी है. नैनी सैनी में हवाई सेवाओं के संचालन से पर्यटकों के साथ ही स्थानीय लोगों को भी बहुत सुविधा होगी. राज्य सरकार पिथौरागढ़ को डेस्टीनेशन के तौर पर विकसित कर रही है. वहां 50 हेक्टेयर में ट्यूलिप गार्डन बनाया जाएगा जो देश का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन होगा.
Loading...

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.  

 
First published: July 3, 2019, 7:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...