लाइव टीवी

उत्तराखंड में स्वास्थ्य सेवाओं का सच बयान करती है नर्सों की कमी... मानकों से 6 गुना कम हैं नर्सें
Dehradun News in Hindi

Kishore Kumar Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: January 22, 2020, 4:10 PM IST
उत्तराखंड में स्वास्थ्य सेवाओं का सच बयान करती है नर्सों की कमी... मानकों से 6 गुना कम हैं नर्सें
दून महिला अस्पताल की असिस्टेंट नर्सिंग सुपरिन्टेन्डेन्ट नीलिमा गर्ग कहती हैं कि नर्सों की कमी की वजह से हॉस्पिटल का काम काफ़ी प्रभावित होता है.

उत्तराखंड में नर्सों की कमी यह भी बताती है कि राज्य सरकार और स्वास्थ्य विभाग स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर कितने संजीदा हैं.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड में स्वास्थ्य सेवाओं के क्या हाल हैं, यह सबको पता है. राज्य सरकार लगातार स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के दावे कर रही है लेकिन ज़मीनी हकीकत यह है कि डॉक्टर पहाड़ चढ़ने को तैयार हो नहीं हो रहे हैं. डॉक्टर तो डॉक्टर प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में बड़ी संख्या में नर्सों की भी कमी है. मानकों के मुताबिक पांच मरीज़ों पर एक नर्स होनी चाहिए लेकिन उत्तराखंड में एक नर्स औसतन 40 मरीज़ों को देखती है.

400 पद अभी खाली 

स्वास्थ्य सेवाएं उत्तराखंड की पकड़ में न आने वाली नब्ज़ बनी हुई हैं. राज्य बने 19 साल होने के बाद भी प्रदेश में डॉक्टरों का अच्छा-खासा टोटा है तो नर्सों की भी काफ़ी कमी है. मानकों के मुताबिक हर 5 मरीज़ पर एक नर्स होनी चाहिए लेकिन यहां औसतन 30 मरीज़ों पर एक नर्स है. समझा जा सकता है कि सरकारी अस्पतालों में मरीज़ों की कैसे देखभाल हो रही होगी.

उत्तराखंड स्वास्थ्य महानिदेशक डॉक्टर अमिता उप्रेती स्वीकार करती हैं उत्तराखंड में नर्सों की काफ़ी कमी है. स्वास्थ्य महानिदेशक के मुताबिक इस वक्त प्रदेश में नर्सो के 1500 पद हैं लेकिन काम 11 सौ नर्सें ही कर रही हैं. चार सौ नर्सों की ज़रूरत प्रदेश को अभी भी है.

दून महिला अस्पताल की स्थिति 

हालत यह है कि देहरादून में सबसे ज्यादा महिला मरीजों की आमद वाले राजकीय दून महिला अस्पताल में सिर्फ़ 30 नर्स हैं.  राजकीय दून महिला हॉस्पिटल की असिस्टेंट नर्सिंग सुपरिन्टेन्डेन्ट नीलिमा गर्ग भी मानती हैं कि नर्सों की भारी कमी है, जिसकी वजह से हॉस्पिटल का काम काफ़ी प्रभावित होता है. नीलिमा गर्ग बताती हैं कि कभी-कभी एक नर्स को तो 40 से ज्यादा मरीज़ों को देखना पड़ता है.

स्वास्थ्य सेवाओं में नर्सों की आवश्यकता डॉक्टरों से कम नहीं होती. उत्तराखंड में नर्सों की कमी यह भी बताती है कि राज्य सरकार और स्वास्थ्य विभाग स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर कितने संजीदा हैं.ये भी देखें: 

नीति आयोग रिपोर्टः स्वास्थ्य सेवा के मामले में सबसे फिसड्डी राज्यों में शामिल

सरकारी अस्पताल नहीं जीत पाए लोगों का भरोसा... प्राइवेट में जाते हैं ज़्यादातर मरीज़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 4:07 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर