होम /न्यूज /उत्तराखंड /देहरादून का श्री कालिका मंदिर, दशकों से जल रही अखंड ज्योत और यज्ञ कुंड, जुड़ी हैं कई मान्यताएं

देहरादून का श्री कालिका मंदिर, दशकों से जल रही अखंड ज्योत और यज्ञ कुंड, जुड़ी हैं कई मान्यताएं

उत्तराखंड के देहरादून की श्री कालिका मंदिर से काफी लोगों की आस्था जुड़ी हुई है. मंदिर समिति मुफ्त इलाज, फिजियोथेरेपी, ग ...अधिक पढ़ें

    हिना आज़मी/देहरादून. उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के कालिका मंदिर मार्ग का नाम यहां स्थित श्री कालिका मंदिर (Shri Kalika Temple Dehradun) के नाम पर ही पड़ा है. नवरात्रि के अवसर पर इन दिनों मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी है. इस मंदिर से जुड़ी कई मान्यताएं हैं. मिली जानकारी के अनुसार, 58 वर्ष पहले बालयोगी महाराज के निर्देश पर यहां एक छोटा सा मंदिर बनाया गया था, जिसमें 11 मई, 1954 को मां भगवती की अखंड ज्योत जलाई गई थी, जो आज भी जल रही है. मंदिर का यज्ञ कुंड भी आज तक लगातार जलता आ रहा है. समय-समय पर मंदिर समिति द्वारा कई तरह के लोकहित कार्यक्रम भी चलाए जाते हैं.

    कालिका मंदिर के पुजारी हरीश भाटिया ने बताया कि बालयोगी महाराज को सपना आया था कि उन्हें इस मंदिर में काली मां की मूर्ति स्थापित करनी है, जो जयपुर में है. वह जयपुर गए और पूरे बाजार में काली मां के उस स्वरूप को ढूंढा, जो उन्हें सपने में नजर आया था. तब उन्हें पूरे बाजार में माता का वैसा स्वरूप नहीं मिला. उन्होंने आगे बताया कि एक छोटी सी बच्ची आई और महाराज जी का हाथ पकड़कर एक दुकान के बाहर उन्हें लेकर गई. उसके बाद वह ओझल हो गई. महाराज दुकान में गए और उन्होंने दुकानदार से काली मां के उस स्वरूप का जिक्र किया, तो उन्हें वह प्रतिमा मिल गई. जिसके बाद वह इसे यहां लेकर आए और प्राण प्रतिष्ठित किया. उन्होंने जानकारी दी कि मंदिर में अखंड ज्योत साल 1954 से जल रही है और यज्ञ कुंड 48 वर्षों से अब तक जल रहा है. अखंड ज्योत और यज्ञ कुंडको आज तक बुझने नहीं दिया गया है.

    पति के साथ हुआ था हादसा
    कालिका मंदिर सिद्धपीठ है, जिससे कई अन्य मान्यताएं भी जुड़ी हुई हैं. रमा गोयल ने बताया कि उनकी सहेली के पति के साथ हादसा हुआ था. बचने की उम्मीद नहीं थी. उनकी सहेली ने लगातार 40 दिन इस मंदिर में आकर दीया जलाया और पति के स्वास्थ्य लाभ की मन्नत मांगी. आज उनकी सहेली के पति बिल्कुल स्वस्थ हैं. आशा बताती हैं कि शादी के 8 साल तक उनकी गोद सूनी थी. वह लगातार कालिका मंदिर में आकर संतान की कामना करने लगी, तो काली मां ने उनकी सूनी गोद भर दी.

    Tags: Dehradun news, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें