दून में स्मार्ट सिटी बनाएगा ड्रैगन

स्मार्ट सिटी के लिए जमीन को लेकर सरकार उत्तराखंड सरकार अंतिम पड़ाव पर है और चाय बागान मालिकों से भूमि खरीद के करीब पहुंच चुकी है. चीन की तोंगजी यूनिवर्सिटी के साथ 11 दिसंबर को उत्तराखंड सरकार एमओयू साइन करेगी.

Deepak Agarwal | ETV UP/Uttarakhand
Updated: November 30, 2015, 8:39 PM IST
दून में स्मार्ट सिटी बनाएगा ड्रैगन
स्मार्ट सिटी के लिए जमीन को लेकर सरकार उत्तराखंड सरकार अंतिम पड़ाव पर है और चाय बागान मालिकों से भूमि खरीद के करीब पहुंच चुकी है. चीन की तोंगजी यूनिवर्सिटी के साथ 11 दिसंबर को उत्तराखंड सरकार एमओयू साइन करेगी.
Deepak Agarwal | ETV UP/Uttarakhand
Updated: November 30, 2015, 8:39 PM IST
स्मार्ट सिटी के लिए जमीन को लेकर सरकार उत्तराखंड सरकार अंतिम पड़ाव पर है और चाय बागान मालिकों से भूमि खरीद के करीब पहुंच चुकी है. चीन की तोंगजी यूनिवर्सिटी के साथ 11 दिसंबर को उत्तराखंड सरकार एमओयू साइन करेगी.

दरअसल, राजधानी दून में स्मार्ट सिटी के लिए राज्य सरकार द्वारा चार स्थानों पर भूमि का सर्वेक्षण करवाया गया, जिसमें से केवल एक ही स्थान शिमला बाईपास के नजदीक ही उपयुक्त स्थान मिला, लेकिन यहां पर भी सबसे अधिक भूमि चाय बागान की है, जिसकी खरीद के लिए राज्य सरकार ने प्रयास शुरू किए गए हैं.

मंडलायुक्त की अध्यक्षता में क्रय समिति बनाई गई जो कि जमीन की खरीद की दिशा में काफी करीब पहुंच चुकी है. चाय बागान की 1900 एकड़ जमीन की कुल कीमत 2 हजार तीन सौ करोड़ से अधिक आंकी जा रही है जिसे सरकार कम कीमत पर खरीदने की बात कह रही है. 15 दिसंबर से पहले सरकार को जमीन की उपलब्धता के साथ ही केन्द्र सरकार को अपना प्रस्ताव भेजना है. इसलिए इस दिशा में राज्य सरकार युद्ध स्तर से काम कर रही है.

शहरी विकास एंव आ‌वास विभाग ने इस दिशा में अपने प्रयास और तेज कर दिए हैं. दून में चाय बागान पर मालिकाना हक दून टी कम्पनी और ईस्ट होप कम्पनी का है. लिहाजा इन दोनों ही कम्पनियों के साथ सरकार की वार्ता करीब करीब निर्णायक मोड़ में है. अगर कम्पनियों ने जमीन देने से इंकार कर दिया तो सरकार के हाथ से स्मार्ट सिटी करीब-करीब निकल जाएगी.

प्रदेश के शहरी विकास मंत्री प्रीतम पंवार की माने तो चाय बागान में काम करने वाले श्रमिकों का पूरा ध्यान रखा जाएगा और उनके लिए आ‌वास भी तैयार किए जाएंगे. इतना ही नहीं स्मार्ट सिटी को लेकर, जहां सरकार के कदम आगे बढ़ रहे हैं तो वहीं भाजपा सरकार के फैसले के विरोध में खडे हो गई है.

भाजपा की माने तो सरकार जमीन को खुर्द-बुर्द कर जमीन मालिकों को फायदा पहुंचाना चाहती है. लिहाजा यह फैसला उन्हीं के हक में किया जा रहा है, जिसे वह भाजपा न्यायालय में भी चुनौती देगी. भाजपा प्रदेश महामंत्री प्रकाश पंत की माने तो इस भूमि में सैकडों पेड़ हैं और वैसे भी सरकार इसका भू उपयोग परिवर्तित नहीं कर सकती है.

चीन की तोंगजी यूनिवर्सिटी बनाएगी दून की स्मार्ट सिटी
Loading...

राजधानी देहरादून में स्मार्ट सिटी बनाने का जिम्मा चीन की तोंगजी यूनिवर्सिटी को सौंपा जाएगा. 11 दिसंबर को इसके लिए तोगजी यूनिवर्सिटी के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर होंगे. उत्तराखण्ड सराकार की माने तो चीन की तोंगजी यूनिवर्सिटी शंघाई के अलावा कई अन्य शहरों को विकसित कर चुकी है, लिहाजा स्मार्ट सिटी को लेकर उसे बेहतर अनुभव है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2015, 8:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...