शानदार बर्फ़बारी ने ग्लेशियरों को दी नई ऊर्जा, नदियों में पानी भी ज़्यादा रहेगा इस साल

इस बार बर्फ़ पड़ने के 10-15 दिन में फिर बर्फ़बारी का अगला चक्र शुरु हो गया है जिसने पहले गिरी बर्फ़ को एक सुरक्षा कवच दे दिया और इससे ग्लेशियर प्रोटेक्ट हुए हैं.

Kishore Kumar Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: June 7, 2019, 4:53 PM IST
शानदार बर्फ़बारी ने ग्लेशियरों को दी नई ऊर्जा, नदियों में पानी भी ज़्यादा रहेगा इस साल
इस बार शानदार बर्फ़बारी से वैज्ञानिकों के चेहरे खिले हुए हैं.
Kishore Kumar Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: June 7, 2019, 4:53 PM IST
उत्तराखंड के हिमालय क्षेत्रों में इस बार हुई बर्फ़बारी ने पर्यावरणविदों और वैज्ञानिकों के चेहरे खिला दिए हैं. इस बार की लगातार बर्फ़बारी होने की वजह से हिमालय क्षेत्रों के ग्लेशियरों के सेहत सुधार दी है. यही नहीं गंगोत्री गलेशियर का पीछे की ओर खिसकना पिछले कई सालों की अपेक्षा बहुत कम हो गया है.

आसमान से बरसा सुरक्षा कवच

‘थर्ड पोल' यानी हिमालय में पड़ी रिकॉर्ड बर्फ़बारी ने राहत दी है. वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान के वैज्ञानिकों का दावा है कि अच्छी बर्फ़बारी के कारण इस साल गर्मियों में ग्लेशियरों की सेकेंड लेयर ‘आइस' नहीं पिघलेगी. ग्लेशियरों की आइस' के ऊपर इस बार रिकॉर्ड ‘स्नो' पड़ी है और यह ग्लेशियरों के लिए भी अच्छा है और उनसे निकलने वाली गंगा जैसी नदियों के लिए भी.

उत्तराखंड में बर्फ से लदे पहाड़, स्नो एरिया 16 फीसदी तक बढ़ा, होंगे ये फायदे

वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान में ग्लेश्योलॉजी में वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉक्टर डीपी डोभाल कहते हैं कि हालांकि इस बार बर्फ़ बाकी सालों जितनी ही गिरी है लेकिन इसके गिरने का पैटर्न बहुत अच्छा रहा है. बर्फ़ नियमित अंतराल से पड़ती रही है. बर्फ़ पड़ने के 10-15 दिन में फिर बर्फ़बारी का अगला चक्र शुरु हो गया है जिसने पहले गिरी बर्फ़ को एक सुरक्षा कवच दे दिया और इससे ग्लेशियर प्रोटेक्ट हुए हैं. इस वजह से 3500 मीटर की ऊंचाई तक अब भी बर्फ़ मौजूद है.

गंगोत्री ग्लेशियर को फ़ायदा 

इस बर्फ़बारी की वजह से ग्लेशियर रीचार्ज भी हो गए हैं. डोभाल के मुताबिक बर्फ अच्छी होने से सालभर पानी की कमी नहीं होने वाली है. डॉक्टर डोभाल बताते हैं कि दरअसल पानी मुख्यतः स्नो से ही मिलता है. इस बार बहुत अच्छी बर्फ़ (स्नो) पड़ी है इसलिए नदियों में अच्छा पानी रहेगा.
Loading...

बद्रीपुरी ने ओढ़ी 7 से 10 फीट तक बर्फ की मोटी चादर

इस बर्फ़बारी से गंगोत्री ग्लेशियर को भी काफ़ी फ़ायदा हुआ है. डॉक्टर डोभाल बताते हैं कि गंगोत्री ग्लेशियर की ऊंचाई 60 मीटर तक है लेकिन इसकी चौड़ाई बहुत अधिक नहीं है. पिछले कुछ सालों में इसका पीछे की ओर खिसकना तो कम हुआ है लेकिन इसके साथ ही इस पर बर्फ़ का जमाव भी घटा था. इस बार इस पर बर्फ़ का जमाव भी अच्छा हुआ है जो ग्लेशियर की आइस को बचाने का काम करेगा और यह कम गलेगा.

VIDEO: बर्फ की चादर से ढका यमुनोत्री धाम, शीतलहर हुई तेज

हफ्ता भर बाद भी नहीं खुला थल-मुनस्यारी मोटरमार्ग, बर्फ हटाने का काम जारी

हेमकुंड साहिब में अब भी भारी बर्फ़, ज़रूरी सुविधाओं के इंतजाम में जुटी हुई है सेना

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
First published: June 7, 2019, 4:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...