Home /News /uttarakhand /

so did the congress knowingly field a weak candidate in front of cm dhami from champawat nodss

...तो क्या चंपावत से सीएम धामी के सामने कांग्रेस ने जान कर कमजोर उम्मीदवार उतारा?

सीएम पुष्कर धामी के सामने कांग्रेस ने निर्मला हतोड़ी को चंपावत से उप चुनाव में उतारा है. (फाइल फोटो)

सीएम पुष्कर धामी के सामने कांग्रेस ने निर्मला हतोड़ी को चंपावत से उप चुनाव में उतारा है. (फाइल फोटो)

सीएम पुष्कर धामी के सामने निर्मला गहतोड़ी को उम्मीदवार के तौर पर उपचुनाव में उतारने के बाद कांग्रेस में अंदरखाने ही सवाल खड़े होने लगे हैं. वहीं कांग्रेस का कहना है कि निर्मला कमजोर उम्मीदवार नहीं हैं और स्वास्‍थ खराब होने के चलते हेमेश खर्कवाल ने चुनाव न लड़ने का फैसला किया है.

अधिक पढ़ें ...

देहरादून. क्या मुख्यमंत्री पुष्कर धामी के सामने कांग्रेस ने जानबूझकर कमजोर उम्मीदवार को उतारा और पार्टी उपाध्यक्ष जोत सिंह क्यों पार्टी छोड़कर चले गए? ये वो सवाल हैं जो कांग्रेस के भविष्य पर सवाल खड़े कर रहे हैं. वहीं चंपावत में उम्मीदवार पर बड़े नेता भी सवाल खड़े कर रहे हैं.
चंपावत उप चुनाव में बीजेपी पहले ही मुकाबले को अपने पक्ष में बता रही थी और अब कांग्रेस नेताओं को भी मुकाबला एक तरफा लगने लगा है. मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के सामने 5 बार चुनाव लड़ने वाले हेमेश खर्कवाल मैदान में नहीं उतरे और मैदान में महिला उम्मीदवार के नाम पर निर्मला गहतोड़ी को उतारा गया. इसी बात पर कांग्रेस के अंदर सवाल खड़े हो रहे हैं कि क्या मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की राह कांग्रेस ने खुद आसान कर दी.
तो सवाल है कि क्या कांग्रेस में सबकुछ ठीक नहीं है, कांग्रेस कमजोर होती जा रही है. और यही कहते हुए प्रदेश उपाध्यक्ष रहे जोत सिंह ने पार्टी छोड़ दी. ऐसे में मुख्यमंत्री के सामने कमजोर उम्मीदवार और जोत सिंह बिष्ट के पार्टी छोड़ने पर प्रदेश अध्यक्ष करन महारा ने कहा कि निर्मला गहतोड़ी कमजोर उम्मीदवार नहीं हैं और स्वास्‍थ ठीक नहीं होने की वजह से हेमेश खर्कवाल ने चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है.
वहीं जोत सिंह बिष्ट जो पार्टी में सब कुछ ठीक न होने की बात कर रहे हैं, उन्हें 2022 में पार्टी ने उम्मीदवार बनाया, जबकि 2017 में अनुशासन तोड़कर उन्होंने पार्टी के तय उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ा. जोत सिंह की विदाई के साथ चैप्टर क्लोज हो चुका है और चंपावत उप चुनाव का नतीजा क्या होगा, ये भी कांग्रेस नेता जानते हैं क्योंकि मुकाबला मुख्यमंत्री से है और अब तक कोई मुख्यमंत्री अपना चुनाव हारा नहीं है. ऐसे में कांग्रेस की कोशिश हार का अंतर कम करने की होगी.

बड़ा सवाल खड़ा किया
कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने इस पर सवाल खड़े किए हैं. प्रीतम सिंह का कहना है निर्मला गहतोड़ी के बजाय मुख्यमंत्री के सामने हरीश रावत, प्रदीप टम्टा जैसे नेताओं को मैदान में उतारना चाहिए था. जो उस इलाके का नेतृत्व करते हैं. प्रीतम सिंह पार्टी के सीनियर नेता हैं और उनकी बातों से साफ है कि मुख्यमंत्री के सामने कांग्रेस मजबूत चेहरा नहीं दे पाई और अब मजबूरी में निर्मला गहतोड़ी को चुनाव लड़ाया जा रहा है ऐसे में कांग्रेस नेता भले ही 11 मई को निर्मला गहतोड़ी के नामांकन में शामिल होकर मैसेज देने की कोशिश करें, लेकिन नतीजा क्या होगा, ये कांग्रेस के माहौल को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है.

Tags: CM Pushkar Dhami, Uttarakhand news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर